अरविंद केजरीवाल : नए दौर की राजनीति के नायक

By: | Last Updated: Tuesday, 10 February 2015 11:40 AM

नई दिल्ली: देश की राजधानी में राजनीति ने नई करवट ली है. बड़ों का गुरूर चूर हो गया और समाज में हाशिए पर खड़े लोग आज खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. उनकी आंखों में एक सपना सच होने की चमक है और इसका श्रेय जाता है एक सीधे-सादे आम आदमी अरविंद केजरीवाल को.

 

दिल्ली में चुनाव की तारीख की घोषणा से बहुत पहले ही समूचे शहर में आम आदमी पार्टी (आप) के पोस्टर नजर आने लगे थे. एक पोस्टर में अरविंद की तस्वीर के साथ सिर्फ एक वाक्य लिखा है- ‘बंदे में दम है’. चुनाव खत्म हो गया, वह पोस्टर आज भी कई जगह लगे हुए हैं. नतीजे आए तो वह बात सच साबित हो गई. लोग कहने लगे हैं, ‘हरियाणे के छोरे में है दम, लो फिर दिल्ली पै छा गयो.’

 

रेमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित अरविंद को एक बार फिर कामयाबी ने आकर चूम लिया. इसकी एक वजह यह भी है कि आम आदमी को उनमें अपना अक्स दिखाई देता है. उनका साधारण पहनावा और बोलचाल की भाषा में बात करना उस तबके को पसंद है, जिससे बड़े दल वालों ने जुड़ने की कोशिश तो खूब की, मगर सही मायने में जुड़ नहीं पाए.

अन्य दलों की तरह केजरीवाल ने भी जनता को सुनहरे सपने दिखाए, लेकिन देश की पारंपरिक राजनीति से हटकर. उन्होंने दिग्गज दलों को नए दौर की राजनीति सिखाई और लोगों की अभिलाषाओं पर खरा उतरने की चुनौती पेश की.

 

केजरीवाल ने अन्ना आंदोलन की सफलता के बाद 26 नवंबर, 2012 को आम आदमी पार्टी (आप) का गठन किया और दिसंबर 2013 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को हराकर समूचे देश को स्तब्ध कर दिया.

 

केजरीवाल 28 दिसंबर, 2013 को दिल्ली के सातवें मुख्यमंत्री बने थे, मगर भ्रष्टाचार पर अंकुश के लिए जन लोकपाल विधेयक पारित न हो पाने पर मात्र 49 दिनों बाद अपनी कुर्सी कुर्बान कर दी. वह अब आठवें मुख्यमंत्री का दायित्व संभालेंगे.

 

केजरीवाल को आरटीआई (सूचना का अधिकार) कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता है. वह 2006 में ‘इमर्जिग लीडरशिप’ के लिए रेमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित हुए थे.

 

उनका जन्म 6 जून, 1968 को हरियाणा के हिसार में हुआ और उन्होंने 1989 में आईआईटी-खड़गपुर से मैकेनिकल (यांत्रिक) इंजीयरिंग में स्नातक (बीटेक) की उपाधि प्राप्त की. पिता गोविंदराम केजरीवाल जिंदल स्टील में इंजीनियर थे.

 

इंजीयरिंग करने के बाद केजरीवाल को टाटा स्टील कंपनी में नौकरी मिली. मगर कुछ ही साल बाद नौकरी छोड़ मिशनरीज ऑफ चैरिटी और पूर्व व पूर्वोत्तर भारत में रामकृष्ण मिशन के साथ काम करते रहे. बाद में, 1992 में वह भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) में चयनित हुए, और पहली पोस्टिंग में उन्हें दिल्ली में मिली.

 

उन्होंने कुछ विदेशी कंपनियों के काले कारनामे पकड़े कि किस तरह वे भारतीय आयकर कानून तोड़ती हैं. उन्हें धमकियां मिलीं और फिर तबादला भी हो गया, जिसके बाद उनका सरकारी सेवा से मोहभंग हो गया.

 

जनवरी 2000 में उन्होंने कुछ समय के लिए सेवा से विश्राम ले लिया और दिल्ली आधारित एक गैर सरकारी संगठन ‘परिवर्तन’ की स्थापना की, जो एक पारदर्शी और जवाबदेह प्रशासन को सुनिश्चित करने के लिए काम करता है. इसके बाद, फरवरी 2006 में, उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया, और ‘परिवर्तन’ में पूरा समय देने लगे.

 

राजस्थान कैडर की आईएएस अधिकारी अरुणा राय और कई अन्य लोगों के साथ मिलकर, उन्होंने सूचना का अधिकार अधिनियम के लिए अभियान शुरू किया, जो जल्द ही एक मूक सामाजिक आंदोलन बन गया.

 

दिल्ली में सूचना अधिकार अधिनियम वर्ष 2001 में पारित किया गया और अंत में राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय संसद ने वर्ष 2005 में सूचना अधिकार अधिनियम (आरटीआई) को पारित कर दिया. इसके बाद, जुलाई 2006 में केजरीवाल ने पूरे भारत में आरटीआई के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एक अभियान शुरू किया.

 

उन्होंने ‘सूचना का अधिकार : व्यावहारिक मार्गदर्शिका’ पुस्तक लिखी, जिसमें उनके सह लेखक हैं विष्णु राजगढ़िया. यह पुस्तक राजकमल प्रकाशन से वर्ष 2007 में प्रकाशित हुई.

 

सरदार भगत सिंह, महात्मा गांधी और लालबहादुर शास्त्री के चित्रों से सजी पृष्ठभूमि वाले मंच से अरविंद केजरीवाल ने दो अक्टूबर, 2012 को अपने राजनीतिक सफर की औपचारिक शुरुआत कर दी. वह बाकायदा गांधी टोपी (जो बाद में ‘अन्ना टोपी’ कहलाने लगी) पहनने लगे. उनकी पार्टी के सभी सदस्य टोपी पहने नजर आते हैं. उनकी टोपी की नकल अन्य पार्टियां भी करने लगीं.

 

केजरीवाल ने 2 अक्टूबर, 2012 को अपने भावी राजनीतिक दल का दृष्टिकोण पत्र जारी किया था. आम आदमी पार्टी के गठन की आधिकारिक घोषणा केजरीवाल और जन लोकपाल आंदोलन के बहुत से सहयोगियों ने 26 नवंबर, 2012, भारतीय संविधान अधिनियम की 63वीं वर्षगांठ के अवसर पर दिल्ली के जंतर मंतर पर की थी.

 

2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में केजरीवाल ने नई दिल्ली सीट से चुनाव लड़ा, जहां उनकी सीधी टक्कर लगातार 15 साल से दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से थी. उन्होंने नई दिल्ली विधानसभा सीट से लगातार तीन बार जीतने वाली और 15 साल शासन कर चुकी मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को 22 हजार से अधिक मतों से हराया.

 

नौकरशाह से सामाजिक कार्यकर्ता और सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बने केजरीवाल की पार्टी ने दिल्ली की राजनीति में धमाकेदार प्रवेश किया.

 

आम आदमी पार्टी ने 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा के चुनाव में 28 सीटें जीतकर प्रदेश की राजनीति में खलबली मचा दी. भाजपा के बाद वह दूसरे नंबर की बड़ी पार्टी बनी और सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी सिर्फ 8 सीटें लेकर तीसरे स्थान पर खिसक गई.

 

अब 2015 के चुनाव में 50 से अधिक सीटें जीतकर केजरीवाल ने राजनीति के धुंरधरों को धूल चटा दी है. केजरीवाल को अपनाकर दिल्ली की जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार के 24 मंत्रियों की फौज व समूचे सरकारी तंत्र को कड़ा जवाब दिया है.

 

केजरीवाल ने इस चुनाव को 21वीं सदी के हस्तिनापुर में कौरव-पांडव के बीच ‘धर्मयुद्ध’ की संज्ञा दी और स्वयं को अर्जुन बताते हुए कहा कि भाजपा के पास कौरव-सेना यानी समूचा तंत्र है तो सच की राह पर चलने वाली आप के साथ भगवान श्रीकृष्ण हैं.

 

भ्रष्टाचार से त्रस्त जनता को आप में उम्मीद की किरण नजर आई. इस चुनाव के बहाने देश की राजधानी में राजनीति ने एक नई करवट ली है. इसका संदेश निस्संदेह समूचे देश में फैलेगा. दिल्ली की जनता ने अपना दम दिखाकर दुनिया में अपनी इज्जत बढ़ा ली है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Arvind Kejriwal: New face of new politics
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

बिहार: लालू का नीतीश पर सृजन घोटाला दबाने का आरोप, तेजस्वी की सबौर सभा में लगी धारा 144
बिहार: लालू का नीतीश पर सृजन घोटाला दबाने का आरोप, तेजस्वी की सबौर सभा में...

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगा आयकर
बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल...

नई दिल्ली:  लालू परिवार के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली है. एबीपी न्यूज को जानकारी मिली है कि...

अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की हत्या
अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की...

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की...

गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए जिम्मेदार
गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए...

गोरखपुर: बीते हफ्ते गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से हुई 36 बच्चों की मौत के मामले...

अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक सकते: CM योगी
अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धार्मिक स्थलों और कांवड़ यात्रा के दौरान...

बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली: तंत्र साधना के लिए 2 साल के बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट...

जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’
जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’

बेंगलूरू: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक सरकार की सस्ती खानपान सुविधा का उद्घाटन...

घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों को तोहफा, 70% सस्ती होगी नी-रिप्लेसमेंट
घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों को तोहफा, 70% सस्ती होगी नी-रिप्लेसमेंट

नई दिल्ली: घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों के लिए अच्छी खबर है. मोदी सरकार ने नी-रिप्लेसमेंट...

बिहार में बाढ़ का कहर: अबतक 72 की मौत, पानी घटा पर मुश्किलें जस की तस
बिहार में बाढ़ का कहर: अबतक 72 की मौत, पानी घटा पर मुश्किलें जस की तस

पटना: पडोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ से बिहार बेहाल...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017