शाही इमाम के समर्थन पर खुद केजरीवाल ने साधी चुप्पी

By: | Last Updated: Saturday, 7 February 2015 5:09 AM
Arvind Kejriwal silent on Shahi Imam Bukhari

नई दिल्ली: दिल्ली में तेज़ रफ्तार वोटिंग जारी है, लेकिन सियासी मुद्दे राजनीतिक दलों और नेताओं का पीछा नहीं छोड़ रहे हैं. आज सुबह जब वोट देने के लिए आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल निकले तो मीडिया ने उनसे दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी के समर्थन पर सवाल पूछा डाला, लेकिन उन्होंने इस सवाल पर चुप्पी साध ली.

 

हालांकि, शुक्रवार को जब शाही इमाम ने आम आदमी पार्टी के समर्थन में वोट करने की अपील की थी तो तुरंत आम आदमी पार्टी ने इमाम के समर्थन को ठुकरा दिया.

 

अब सवाल है कि आज अरविंद केजरीवाल की चुप्पी का क्या मतलब है? एबीपी न्यूज़ के एक्सपर्ट्स का कहना है कि केजरीवाल रणनीति के तहत नहीं बोल रहे है ताकि वोटिंग के दौरान किसी विवाद में फंसकर अपना खेल खराब नहीं किया जाए.

 

इमाम बुखारी ने शुक्रवार को मुसलमानों से अपील है कि वो आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों की जिताएं.

जिसके बाद आम आदमी पार्टी ने न सिर्फ बुखारी की अपील को ठुकराया था, बल्कि आशंका जताई कि बुखारी ने बीजेपी की मिलीभगत से आम आदमी पार्टी के समर्थन में अपील की थी.

 

आप ने बुखारी का समर्थन ठुकराया

 

आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष का कहना है कि उन्हें उस इमाम बुखारी का समर्थन नहीं चाहिए, जो वक़्त वक़्त पर कई दलों से समर्थन ले चुके हैं.

 

आशुतोष ने कहा, “जिस बुखारी ने अपने बेटे की दस्तारबंदी में देश के पीएम के बजाए पाकिस्तान के पीएम को न्योता दिया था, हम चाहें पीएम के कितने ही विरोध हों, लेकिन उनके सम्मान को दरकिनार नहीं कर सकते. हम बुखारी की राजनीति की निंदा करते हैं और उसने समर्थन को ठुकराते हैं.”

 

आशुतोष ने आगे कहा, “आम आदमी पार्टी  आम आदमी की राजनीति करती है, किसी हिंदू या मुसलमान की राजनीति नहीं करती है.”

 

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा कि जिस तरह चुनाव के एक दिन पहले बुखारी ने आम आदमी पार्टी के समर्थन में बयान दिया और फिर बीजेपी नेता अरुण जेटली का बयान आया उससे जाहिर है कि दोनों की मिलीभगत है.

 

आपको बता दें कि अरुण जेटली ने बुखारी के आम आदमी पार्टी के समर्थन पर कहा था कि दिल्ली की जनता इस ‘फतवे’ का जवाब बैलेट से देगी.

 

क्या कहा था बुखारी?

 

बुखारी का कहना था कि देश की गंगा- जमुनी तहज़ीब को बचाने के लिए उनकी दिल्ली के वोटरों खासकर मुसलमानों से अपील है कि आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों की जीत यक़ीनी बनाएं.

 

आम आदमी पार्टी के पक्ष में वोट की अपील करते हुए इमाम बुखरी ने कहा, “हमने इस चुनाव में सेकुलर दल को हिमायत करने का फैसला किया है और इसी के तहते मुसलमानों से अपील करता हूं कि वो आम आदमी पार्टी के उम्मीदरों के हक में वोट करें.”

 

आपको बता दें कि दिल्ली चुनाव में ये पहला मौका नहीं है जब किसी धार्मिक गुरू ने किसी पार्टी के पक्ष में सियासी बयान दिए हों. इससे पहले डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत राम रहीम ने बीजेपी को को वोट देने की अपील की थी.

 

यह भी पढ़ें-

पांच बड़े सर्वे के मुताबिक कौन जीत सकता है दिल्ली का दिल!  

दिल्ली चुनाव में 200 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान: एसोचैम 

सात सर्वे की जुबानी: जानें दिल्ली की जंग कौन जीतेगा?

अमित शाह से एबीपी न्यूज़ की EXCLUSIVE बातचीत 

‘बीजेपी को हराने’ के लिए ममता ने थामा ‘आप’ का झाड़ू 

दिल्ली चुनाव में हार-जीत मोदी जी की होगी: शत्रुघ्न सिन्हा

दिल्ली चुनाव: पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस बार कम बिकी प्रचार सामग्री 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Arvind Kejriwal silent on Shahi Imam Bukhari
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: AAP arvind kejriwal BJP election shahi imam
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017