ABP NEWS सर्वे: एक महीने में केजरीवाल सरकार पास या फेल?

By: | Last Updated: Saturday, 14 March 2015 3:49 PM
Arvind Kejriwal_Delhi_

नई दिल्ली: एबीपी न्यूज़-नीलसन के त्वरित सर्वे के मुताबिक आम आदमी पार्टी की पीएसी से योगेंद्र यादव-प्रशांत भूषण की विदाई और उसके बाद ऊपजी तनातनी से पार्टी को नुकसान होगा.

 

क्या मौजूदा घटनाक्रम से आप का नुकसान होगा?

 

दिल्ली की बहुमत (52%) जनता की राय है कि आम आदमी पार्टी के भीतर आए तूफान और बग़ावत से पार्टी की परेशनी बढ़ेगी.

 

जो लोग आम आदमी पार्टी के कोर समर्थक नहीं हैं उनका भी मानना है कि ताज़ा घटनाक्रम से ‘आप’ का नुकसान होगा. 34 फीसदी का मानना है कि इससे आम आदमी पार्टी को नुकसान नहीं होगा. 14 फीसदी जनता की इस मुद्दे पर कोई राय नहीं है.

 

क्या योगेंद्र-प्रशांत को निकालने के पीछे केजरीवाल हैं?

जब दिल्ली की जनता से पूछा गया कि क्या आम आदमी पार्टी की सबसे बड़ी बॉडी पीएसी से योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण की छुट्टी के पीछे अरविंद केजरीवाल हैं तो इस मुद्दे पर जनता की मिलीजुली राय रही.

 

43 फीसदी ने इसके पीछे केजरीवाल का हाथ माना तो 44 फीसदी ने उनके शामिल होने को नकार दिया.

 

कौन है दिल्ली का सबसे लोकप्रिय नेता?

 

‘आप’ का ताज़ा संकट हो या योगेंद्र और प्रशांत की पीएसी से विदाई, दिलचस्प बात ये है कि केजरीवाल की लोकप्रियता पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा है. एबीपी न्यूज़-नीलसन के त्वरित सर्वे के मुताबिक बहुमत से ज्यादा 60 फीसदी जनता की राय है कि अरविंद केजरीवाल दिल्ली के सबसे लोकप्रिय नेता हैं.

 

मोदी दूसरे स्थान पर हैं. महज़ 33 फीसदी जनता उन्हें लोकप्रिय नेता मान रही है.

 

खास बात ये है कि केजरीवाल की लोकप्रियता मुसलमानों, झुग्गी, जेजे कोलनियों और झोपडियों के बाशिंदों के यहां ज्यादा है. ये समूह आप के कोर समर्थक हैं.

 

कैसा है केजरीवाल सरकार का कामकाज?

 

त्वरित सर्वे के मुताबिक आधी जनता (49%) का मानना है कि बीते एक महीने में केजरीवाल सरकार का कामकाज अच्छा रहा है.

 

खास बात ये है कि मुसलमानों और झुग्गी झोपडियों में रहने वाले लोग केजरीवाल सरकार के कामकाज से ज्यादा खुश हैं. 9 फीसदी जनता की राय में केजरीवाल सरकार का कामकाज खराब रहा है, जबकि 40 फीसदी औसत बता रहे हैं.

 

क्या जो वादा किया, उसे पूरा किया?

 

अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा चुनाव के दौरान ये नारा दिया था कि जो वादा कर रहे हैं उसे पूरा करेंगे. त्वरित सर्वे के मुताबिक 63 फीसदी लोगों को भरोसा है कि अरविंद केजरीवाल ने चुनावों के दौरान जो वादा किया है उसे पूरा करने में कामयाब रहेंगे. हालांकि, 28 फीसदी को केजरीवाल के वादे पर यकीन नहीं है.

 

48 फीसदी जनता की राय है कि अरविंद केजरीवाल ने जो वादा किया है, बीते एक महीने में उसे पूरा किया है. नौजवान वोटरों और आप के कोर समर्थक केजरीवाल के बीते एक महीने के कामकाज से खुश हैं. हालांकि, 27 फीसदी जनता का मानना है कि अरविंद केजरीवाल को अपने वादे पूरे करने के लिए और वक़्त दिए जाने चाहिए.

 

क्या मोहल्ला सभा के बारे में जानते हैं?

 

केजरीवाल ने चुनाव के दौरान वादा किया था कि हर इलाके में मुहल्ला सभा बनाए जाएंगे, लेकिन बहुमत 53 फीसदी का कहना है कि उन्हें अपने इलाके के मुहल्ला सभा की जानकारी नहीं है. 37 फीसदी ने मुहल्ला सभा की जानकारी होने की बात कही.

एबीपी न्यूज़ नीलसन का ये त्वरित सर्वे 10 और 11 मार्च के बीच किया गया. इस सर्वे में 30 इलाकों के उन 1258 लोगों की राय शामिल की गई है जिन्होंने बीते विधानसभा चुनाव में वोट डाला था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Arvind Kejriwal_Delhi_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017