तीन तलाक पर कानून का ओवैसी ने किया विरोध, कहा- शरीयत की हिफाजत के लिए एकजुट हों मुसलमान | Asaduddin Owaisi calls for unity among Muslims to protect Shariat, opposes Centre's bill on triple talaq

तीन तलाक पर कानून का ओवैसी ने किया विरोध, कहा- शरीयत की हिफाजत के लिए एकजुट हों मुसलमान

By: | Updated: 02 Dec 2017 08:11 PM
Asaduddin Owaisi calls for unity among Muslims to protect Shariat, opposes Centre’s bill on triple talaq

हैदराबाद: तीन तलाक पर प्रस्तावित कानून का कड़ा विरोध करते हुए एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को 'शरीयत' की रक्षा के लिए भारतीय मुसलमानों से एक होने का आह्वान किया. सुप्रीम कोर्ट की तरफ से मुद्दे पर दिए गए फैसले को अस्पष्ट बताते हुए उन्होंने कहा कि यह कोई नहीं कह सकता कि एक बार में तीन दफा तलाक बोलने पर शादी समाप्त हो जाएगी या फिर उसे केवल एक तलाक माना जाएगा. उन्होंने हैरानी जताया कि सरकार कैसे संसद में विधेयक ला सकती है.


सांसद ने नरेंद्र मोदी सरकार से पूछा कि क्या सरकार उन महिलाओं को आर्थिक सहायता मुहैया कराएगी जिनके पतियों को तीन साल जेल भेज दिया जाएगा. मिलाद-उन-नबी के मौके पर पार्टी मुख्यालय दारुसलाम में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने चेतावनी दी कि कानून, अपनी पत्नियों को छोड़ने वाले पतियों की एक नई समस्या की ओर ले जा सकता है.


असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों के बारे में बोलने लेकिन 'हिंदू बहनों' की अनदेखी करने पर मोदी सरकार की आलोचना की. उन्होंने कहा कि '20 लाख हिंदू महिलाओं को उनके पतियों ने छोड़ दिया है', क्या मोदी इनके बचाव में भी आएंगे? उन्होंने कहा कि संघ परिवार मुस्लिम महिलाओं के प्रति सहानुभूति दिखाता है, लेकिन एक फिल्म को रिलीज करने की अनुमति नहीं दे रहा है.


ओवैसी ने पूछा, "जब आप एक फिल्म ('पद्मावती') को रिलीज करने की अनुमति नहीं दे सकते, तो आप मेरी शरीयत में कैसे हस्तक्षेप कर सकते हैं." एमआईएम अध्यक्ष ने कहा कि मुसलमानों को राजपूतों से सबक सीखना चाहिए, जो कम संख्या में होने के बावजूद फिल्म की रिलीज रोकने के लिए एक साथ आए.


एआईएमआईएम के अध्यक्ष ने कहा, "अगर मुस्लिम देश को मजबूत बनाने और शरीयत को बचाने के लिए एक हो सकते हैं, तो हम निश्चित रूप से कुछ कर सकते हैं." सांसद ने कहा कि समुदाय को पटेल, गुर्जर, जाट और मराठों से भी सबक सीखना चाहिए जो अपने अधिकारों और आरक्षण के लिए लड़ने के लिए एक साथ आए थे.


गुजरात चुनावों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस के नेता एक-दूसरे के मंदिरों का दौरे कर रहे हैं और हर नेता खुद को 'अन्य की तुलना में बड़ा हिंदू' साबित करने का दावा कर रहा है. उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों पार्टियां विभिन्न समुदायों के लिए आरक्षण की पेशकश में एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा कर रही हैं लेकिन मुसलमानों के लिए कोटे का विरोध करने में एकजुट हो जाती हैं. उन्होंने दोनों पार्टियों को 'ढोंगी' करार दिया.


अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की तरफ से हाल में भारतीय मुसलमानों की प्रशंसा पर ओवैसी ने कहा कि यह मीडिया के लिए एक खबर है क्योंकि इसे एक पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है. उन्होंने कहा, "मेरी पार्टी यही बातें बीते साठ साल से कह रही है. हम कहते रहे हैं कि हम अपने देश से प्यार करते हैं, हमें संविधान में विश्वास है और देश मजबूत हो सकता है अगर मुसलमानों को उनका संवैधानिक हक मिले."

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Asaduddin Owaisi calls for unity among Muslims to protect Shariat, opposes Centre’s bill on triple talaq
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पंजाब नगर निकाय चुनाव में कांग्रेस ने मारी बाजी, बीजेपी की बड़ी हार