बीजेपी में अटल, आडवाणी, जोशी युग का अंत, संसदीय बोर्ड से दिखाया गया बाहर का रास्ता

By: | Last Updated: Tuesday, 26 August 2014 10:15 AM
Atal Advani Joshi era end, now they no more members of parliamentary board

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी में अब अटल, आडवाणी और जोशी युग का पूरी तरह से अंत हो गया है और इसका सबूत है अमित शाह की नई टीम, जिसमें उन्हें संसदीय बोर्ड से बाहर का रास्ता दिखाया गया है.

 

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित भाई शाह ने मंगलवार को पार्टी के केंद्रीय संसदीय बोर्ड का गठन किया है, जिसमें बीजेपी के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को जगह नहीं दी गई है.

 

हालांकि, सीनियर नेताओं को खपाने के लिए बीजेपी ने एक मार्गदर्शक मण्डल का गठन किया, जिसमें  बीजेपी के बुजुर्ग हो चले नेताओं अटल, अडवाणी और जोशी को जगह दी गई. इस मार्गदर्शक मण्डल का सदस्य गृह मंत्री राजनाथ और प्रधानमंत्री मोदी को भी बनाया गया है.

 

आपको बता दें कि बीजेपी में संसदीय बोर्ड सबसे बड़ी संस्था है. संसदीय बोर्ड ही तमाम नीतिगत फैसले लेता है. किसी को पार्टी से निकालने या लेने का फैसला यही बोर्ड करता है.

 

संसदीय बोर्ड के ताज़ा गठन पर पार्टी के सीनिर नेता आडवाणी और जोशी की प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.  एबीपी न्यूज़ संवाददाता विकास भदौरिया का कहना है कि अमित शाह ने ये फैसला सभी बड़े नेताओं से विचार विमर्श करने के बाद किया है.

 

ये हैं केंद्रीय संसदीय बोर्ड के नए सदस्य:

 

1.     अमित भाई शाह (अध्यक्ष)

2.     नरेन्द्र भाई मोदी (प्रधानमंत्री)

3.     राजनाथ सिंह ( गृह मंत्री)

4.     अरूण जेटली (वित्त मंत्री)

5.     सुषमा स्वराज (विदेश मंत्री)

6.     एम. वैंकेया नायडू ( शहरी विकास मंत्री)

7.     नितिन गडकरी (शिपिंग और परिवहन)

8.     अनंत कुमार  (रसायन एवं उर्वरक )

9.     थावरचंद गेहलोत ( सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता)

10.    शिवराज सिंह चौहान (मध्यप्रदेश के सीएम)

11.    जगत प्रकाश नड्डा  (महासचिव)

12.    रामलाल (महासचिव)

 

इस नए लिस्ट को अगर संसदीय बोर्ड के पुराने लिस्ट से तुलना की जाए तो तीन नाम निकाले गए हैं तो तीन नए नाम जोड़े गए हैं, बाकी सभी सदस्यों को जस का तस रखा गया है.

 

नए संसदीय बोर्ड में जो तीन नए चेहरे शामिल किए गए हैं उनमें जेपी नड्डा, शिवराज सिंह चौहान और खुद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह हैं.

 

क्यों अहम हैं अटल, आडवाणी और जोशी?

 

अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी बीजेपी के संस्थापक संदस्य हैं और यही नेता पार्टी को शिखर पर ले गए. इन नेताओं के बिना बीजेपी की कल्पना नहीं की जा सकती.

 

बीजेपी का उद्भव 1980 में हुआ और तब पार्टी को लोकसभा चुनाव में महज़ दो सीट मिले. दिल्ली की सत्ता पर पार्टी ने पहली बार 1996 में दस्त दो दी, लेकिन पटखनी खा गए. पार्टी कोशिश में लगी रही हैं और वाजपेयी के नेतृत्व में पार्टी ने 1998 में गठबंधन सरकार बनाया और छह साल तक बीजेपी की सरकार रही.

 

क्या है संसदीय बोर्ड?

 

1. बीजेपी में संसदीय बोर्ड फैसले लेने वाली सबसे बड़ी संस्था है.

 

2. टिकट बंटवारा और उम्मीदवारों के चयन पर अंतिम मुहर भी बोर्ड ही लगाता है.

 

3. पार्टी की रूपरेखा भी बोर्ड तैयार करता है.

 

4. किसी भी अहम मुद्दे पर फैसला लेने का अधिकार भी सिर्फ बोर्ड के पास होता है.

 

5. पार्टी अध्यक्ष ही बोर्ड का भी अध्यक्ष होता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Atal Advani Joshi era end, now they no more members of parliamentary board
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे बातचीत
डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे...

नई दिल्ली: बॉर्डर पर चीन से तनातनी और नेपाल में आई बाढ़ को लेकर शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने...

15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी सरकार ने मंगवाए वीडियो
15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी...

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाए जाने का...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017