आस्ट्रेलिया के PM एबट सत्ता से बेदखल, 8 साल में 5वें पीएम बनेंगे मैलकम

By: | Last Updated: Tuesday, 15 September 2015 2:58 AM
Australia’s prime minister faces party leadership ballot

केनबरा: आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी एबॉट को चुनौती पेश करने वाले मैलकम टर्नबुल ने पार्टी के अंदर हुए एक मतदान में नाटकीय ढंग से उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया.

 

इस तरह, पिछले आठ साल में टर्नबुल देश के अब पांचवें प्रधानमंत्री होंगे. सत्तारूढ़ लिबरल पार्टी ने उन्हें अंदरूनी कलह के बीच अलोकप्रिय मौजूदा प्रधानमंत्री की जगह चुना है. आनन फानन में बीती रात पार्टी नेतृत्व के लिए कराए गए मतदान में 57 वर्षीय एबॉट को 44 वोट मिले जबकि टर्नबुल को 54 वोट मिले. एबॉट की सरकार ने दो साल पहले ही सत्ता संभाली थी.

 

एबॉट भारत को आस्ट्रेलियाई यूरोनियम बेचने के प्रबल समर्थक थे. एबॉट ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ नयी दिल्ली में 2014 में एक यूरेनियम समझौते पर हस्ताक्षर किया था. टर्नबुल की जीत पूर्व प्रधानमंत्री जुलिया गिलार्ड द्वारा केविन रड के खिलाफ 2010 में किए गए तख्तापलट की याद दिलाता है.

 

लिबरल सांसदों ने पार्टी का उप नेता बनाए रखने को लेकर जूली बिशप के लिए मतदान किया. एबॉट के गवर्नर जनरल को पत्र लिखने और इस्तीफा देने के बाद टर्नबुल (60) के शपथ लेने की उम्मीद है.

 

टर्नबुल देश के 29 वें प्रधानमंत्री होंगे. उन्होंने कल दोपहर प्रश्नकाल के समय कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया और एबॉट से कहा कि वह नेतृत्व के लिए उन्हें चुनौती देंगे.

 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री देश की जरूरतों को आर्थिक नेतृत्व मुहैया करने में अक्षम हैं. उन्होंने कहा कि अपना नाम आगे बढ़ाने के लिए वह लगातार दबाव में थे.

 

उन्होंने कहा, ‘‘यह स्पष्ट है कि सरकार आर्थिक नेतृत्व मुहैया करने में सफल नहीं रही जिसकी हमे जरूरत है. यह किसी एक मंत्री की गलती नहीं थी. आखिरकार, वह (टोनी एबॉट) हमारे राष्ट्र को जरूरी आर्थिक नेतृत्व देने में सक्षम नहीं रहे. वह आर्थिक भरोसा मुहैया करने में सक्षम नहीं रहे जैसा कि कारोबार को जरूरत है.’’

 

एबॉट ने संसद भवन में कहा कि इस देश का प्रधानमंत्री पद कोई पुरस्कार या ऐसा कोई खिलौना नहीं है जिसकी मांग की जाए. उन्होंने कहा कि वह कई महीनों से चल रही अस्थिरता से निराश हैं और वह अपने साथी लिबरल सदस्यों से कहना चाहते हैं कि अस्थिरता को रोकना होगा.

 

इससे पहले संवाददाता सम्मेलन में टर्नबुल ने कहा कि यदि एबॉट नेता बने रहते हैं तो गठबंधन सरकार अगला चुनाव हार जाएगी.

 

उन्होंने कहा कि उन्होंने हल्के में फैसला नहीं किया है बल्कि यह पर्याप्त रूप से स्पष्ट है कि सरकार आर्थिक नेतृत्व मुहैया करने में सफल नहीं रही है जिसकी हमे जरूरत है और आस्ट्रेलिया को एक नयी शैली का नेतृत्व चाहिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Australia’s prime minister faces party leadership ballot
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017