बांग्लादेश: दो शीर्ष विपक्षी नेताओं को दी गई फांसी

By: | Last Updated: Monday, 23 November 2015 2:55 AM
bangladesh hangs opposition chiefs for war crimes in dhaka jail

ढाका: बांग्लादेश ने वर्ष 1971 में पाकिस्तान के खिलाफ हुए मुक्ति संग्राम के दौरान युद्ध अपराध करने के जुर्म में दो शीर्ष विपक्षी नेताओं को कल देर रात एक साथ फांसी दे दी.

 

इसे लेकर उनके समर्थकों की ओर से आज छिटपुट हिंसा की गई जबकि कट्टरपंथी जमाते इस्लामी ने कल पूरे देश में हड़ताल का आह्वान किया है.

 

ढाका सेंट्रल जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि कट्टरपंथी जमात ए इस्लामी के महासचिव अली अहसान मोहम्मद मुजाहिद (67 वर्ष) और बीएनपी नेता सलाउद्दीन कादर चौधरी (66 वर्ष) को कल रात 12 बज कर 55 मिनट पर ढाका केंद्रीय जेल में फांसी दे दी गई.

 

राष्ट्रपति अब्दुल हामिद ने कल शाम दोनों की क्षमादान संबंधी याचिकाएं ठुकरा दी थीं. मुजाहिद और चौधरी ने फांसी से बचने की आखिरी कोशिश करते हुए राष्ट्रपति से क्षमादान की गुहार लगाई थी. यह दोनों राष्ट्रपति से क्षमादान की गुहार लगाने वाले पहले युद्ध अपराधी थे.

 

बहरहाल, दोनों के परिवार वालों ने इन खबरों को खारिज कर दिया कि मुजाहिद और चौधरी ने राष्ट्रपति से क्षमादान की अपील की थी जिसके लिए अपराध स्वीकारोक्ति भी जरूरी होती है.

 

खुफिया शाखा के उपायुक्त शेख नज्मुल आलम ने बताया कि फांसी देने के दौरान दोनों ही शांत रहे.

 

मीडिया की रिपोर्ट  में आलम के हवाले से बताया गया, ‘‘जब दोनों को फांसी के तख्ते तक ले जाया गया तो दोनों शांत थे. उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं जताई. फांसी का फंदा एक साथ खींचा गया.’’

 

फांसी के तत्काल बाद रैपीड एक्शन बटालियन (आरएबी) के साथ एंबुलेन्स और सशस्त्र पुलिस कारागार परिसर से दोनों के शव लेकर बाहर आयी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: bangladesh hangs opposition chiefs for war crimes in dhaka jail
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017