बीफ पर बैन से इनकी रोजी रोटी पर असर

By: | Last Updated: Wednesday, 3 June 2015 5:12 PM
beef ban

नई दिल्ली: इसी साल मार्च महीन में महाराष्ट्र में बीफ पर बैन लगाया गया और फिर हरियाणा ने भी बीफ कारोबार पर पाबंदी लगा दी. इसके बाद से देश में बीफ को लेकर बहस उठ खड़ी हुई कि बहुसंख्यक समाज की भावनाओं को देखते हुए बीफ पर बैन लगाना चाहिए या फिर इस कारोबार से जुड़े अल्पसंख्यक समाज से जुड़े लोगों के हितों का खयाल किया जाना चाहिए. आपको बता दें ताजा विवाद सिर्फ गाय का मांस नहीं है बल्कि गो वंश से जुडे बैल और सांड़ के मांस के कारोबार से जुड़ा हुआ है.

 

महाराष्ट्र में गोवंश पर बैन सैकड़ों लोगों की रोजी रोटी के लिए आफत बन चुका है . व्यापारी से लेकर दुकानदार और किसान तक इस बैन की वजह से परेशान हैं . यवतमाल जिले के एक ऐसे ही मेले की कहानी बताते हैं आपको जहां गोवंश पर बैन लोगों की जिंदगी के सामने रोजी रोटी की समस्या लेकर आया है.

 

महाराष्ट्र के यवतमाल जिले का घाटंजी मेला कभी जानवरों की भीड़ से भरा पूरा रहता था . लेकिन गोवंश पर पाबंदी लागू होने के बाद से मेले की रौनक गायब हो चुकी है . हफ्ते में दो बार यहां जानवरों का मेला लगता है . पहले जहां पांच हजार से ज्यादा जानवर होते थे वहीं अब मुश्किल से तीन- चार सौ जानवर भी नहीं खरीदे बेचे जा रहे हैं .

 

लोग डर के मारे भी मेले में जानवर नहीं ले जा रहे . लोगों का कहना है कि पुलिस गाय बछ़ड़ों को पकड़कर गौशाला में डाल दे रही है और खरीदने बेचने वालों को गिरफ्तार भी कर ले रही है .

 

मेले में जानवरों की संख्या घटने से सिर्फ व्यापारी ही नहीं स्थानीय दुकानदारों की रोजी रोटी पर भी आफत आ गई है . पांच एकड़ जमीन के मालिक प्रभुदास किसान हैं . पहले इनके पास आठ जानवर थे . लेकिन खेती में नुकसान के बाद अब जानवरों का गुजारा नहीं कर पा रहे . हारकर प्रभुदास ने गाय और बछड़े को बेचने का फैसला किया लेकिन पाबंदी की वजह से कोई ग्राहक नहीं मिल रहा है .

 

प्रभुदास अकेले नहीं हैं . महादेव ठाकरे से लेकर दीपक अरसोड तक . आस पास के गांवों के रहने वाले पेशे से किसान इन सब लोगों की परेशानी एक ही तरह की है . जिन लोगों का घर जानवरों की खरीद बिक्री से ही चलता है उनकी तो और भी बुरी हालत है . मेले में भीड़ होने से पहले जहां स्थानीय दुकानदारों को अच्छी कमाई होती थी वो भी अब ग्राहक को तरस रहे हैं . घंटी से लेकर रस्सी तक की बिक्री कम हो गई है .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: beef ban
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: beef ban
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017