भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की उठी मांग

By: | Last Updated: Wednesday, 12 August 2015 2:20 PM
Bhojpuri Samaj Delhi_welcome_mauritius_mauritius high commissioner

नई दिल्ली: भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग एक बार फिर बहुत जोर-शोर से उठाई गई है. सांसदो का एक प्रतिनिधि मंडल ने भी इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है और भोजपुरी, राजस्थानी, भोटी भाषा को संवैधानिक मान्यता प्रदान करने का अनुरोध किया है.

 

मंगलवार को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में भोजपुरी समाज दिल्लीं द्वारा मॉरीशस के भारत में नवनियुक्त उच्चायुक्त जगदीश्‍वर गोवर्धन के अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया. इस समारोह में भोजपुरी को मान्यता दिलवाने के लिए 21 फरवरी यानि अंतराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस तक की डेडलाइन तय की गई. यहां पर गोवर्धन ने कहा कि भारत में भोजपुरी को जानबूझ कर दबाया गया है. गोवर्धन ने भोजपुरी में बोलते हुए कहा, ‘भारत में भोजपुरी के जानबूझ के दबावल गईल बा. भोजपुरी मां हई, अगर माई के ही इज्जत ना होई त संस्कृति, सभ्यता के कइसे होई. मातृभाषा से ज्यादा ताकतवर कवनो भाषा ना होला.’

 

गोवर्धन ने कहा, ‘मारीशस को मिनी भारत कहा जाता है और हमारी भाषा, संस्कृति, परंपरा पूरी तरह से भारतीयता के रंग में रंगी  हुई है. उम्मीद है कि भोजपुरी को भारत में भी संवैधानिक मान्यता प्राप्त होगी.’

 

इस मौके पर भोजपुरी समाज दिल्ली के अध्यक्ष अजीत दुबे ने कहा, ‘जगदीश्वर गोवर्धन की भारत में उच्चायुक्त के रूप में नियुक्ति से भारत मॉरीशस के संबंधो में और प्रगाढ़ता आएगी. हमारे लिए यह गौरव की बात है कि मॉरीशस सरकार ने मॉरीशस में भोजपुरी को संवैधानिक मान्यरता प्रदान कर रखी है.’

 

भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किए जाने के प्रश्न‍ पर उन्होंने पिछली यू पी ए सरकार पर वादा- खिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा, ‘उस सरकार ने देश विदेश के 20 करोड़ भोजपुरी भाषियों को केवल कोरा आश्वासन ही दिया. चूंकि देश में अब ऐसी सरकार बनी है जो भारतीय भाषाओं की पक्षधर है तो हमें पूरी आशा है कि यह सरकार भोजपुरी को उसका हक प्रदान करेगी.’

 

इस कार्यक्रम में सांसद जगदम्बिका पाल, अर्जुन मेघवाल, आर. के. सिन्हा,  मनोज तिवारी, विधायक आदर्श शास्त्री  व सीआईएसएफ के पूर्व डी जी के. एम. सिन्हां की उपस्थित थे.

 

सांसद जगदम्बिका पाल ने कहा कि हम भोजपुरी की संवैधानिक मान्यता के लिए कोई कोर कसर नहीं छोडेंगे और लगातार प्रयास जारी है. सांसद अर्जुन मेघवाल ने भोजपुरी, राजस्थानी और भोटी भाषा को संवैधानिक मान्यता प्रदान किए जाने के संबंध में प्रधानमंत्री से अपनी व अन्य सांसदों की हुई मुलाकात का ब्यौरा देते हुए कहा कि ये भाषाएं संवैधानिक मान्यता के लिए पूरी तरह से योग्य‍ हैं और हम इन्हें संवैधानिक मान्‍यता दिलवा के ही दम लेंगें.

 

इस कार्यक्रम में भोजपुरी गायक, अभिनेता और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी भी मौजूद थे. मनोज तिवारी ने कहा कि अगर हम ठान लें तो कोई शक्ति भोजपुरी को रोक नहीं सकती.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Bhojpuri Samaj Delhi_welcome_mauritius_mauritius high commissioner
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017