बिहार चुनाव : तीखी बयानबाजी और बगावती तेवरों का दिलचस्प मुकाबला

By: | Last Updated: Wednesday, 9 September 2015 9:18 AM
Bihar Election : Interesting contest this time

पटना : बिहार में चुनाव की तारीखों का ऐलान भले ही आज हुआ लेकिन यहां चुनावी माहौल पहले से ही गरमा चुका है. राजनीतिक बयानबाजी तीखी हो चुकी है और तोड़फोड़ की राजनीति भी तेज हो रही है. सभी दलों ने मैदान में अपनी ताकत झोंक दी है और गठबंधन अपनी-अपनी रणनीति बनाने में लगे हैं. इस बीच लगभग हर गठबंधन में बगावती तेवरों ने चुनावी पारा और चढ़ा दिया है.

 

पांच साल बाद बिहार एक बार फिर चुनाव के लिए तैयार है लेकिन इस बार पिछली दफा के बजाय परिस्थितियां बिल्कुल अलग हैं. पिछली बार के सहयोगी, इस बार मैदान में आमने-सामने हैं. अमूमन तीसरे या चौथे नंबर पर रहने वाली पार्टी बीजेपी, बड़ी भूमिका में नजर आ रही है. हालांकि सीटों का बंटवारा अभी भी बीजेपी और सहयोगी दलों के लिए चुनौती बना हुआ है जबकि नीतीश के नेतृत्व में बने महागठबंधन में सी़टों को लेकर फूट पहले ही पड़ चुकी है.

 

ऐसे में इस बार का मुकाबला काफी दिलचस्प होने वाला है. बिहार में पीएम मोदी एक के बाद एक रैलियां कर रहें हैं तो चुनावी गीतों ने राज्य में हर संगीत को फीका कर रखा है. पोस्टर वॉर का नया रूप यहां देखने को मिल रहा है. बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स ने फुटपाथों और मकानों को ढक रखा है. गांवों की चौपालों से लेकर शहर के चौराहों तक सिर्फ चुनावी माहौल ही दिखाई दे रहा है.

 

MUST READ: क्या कहते हैं बिहार के 2014 के लोकसभा चुनाव के आंकड़े?

 

चुनाव की तारीखों के ऐलान से ठीक पहले एनडीए में सीटों के बंटवारे को लेकर दिल्ली में हलचल है. रामविलास पासवान और मांझी बिहार में ज्यादा सीटों की मांग कर रहे हैं. आज सुबह पासवान की बीजेपी महासचिव अनंत कुमार से मुलाकात होनी थी लेकिन ये बैठक अब शाम को होगी. बीजेपी के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव ने कहा है कि मांझी और पासवान में कोई झगड़ा नहीं है.

 

मोदी के ‘अच्छे दिनों’ में गरीबों के पेट पिचके: लालू 

 

इधर लालू यादव पर परिवारवाद का आरोप लगाते हुए विरोधी हमला कर रहे हैं. कल इस पर जवाब देने खुद लालू के बेटे तेजस्वी सामने आए. तेजस्वी ने न सिर्फ विरोधियों की पार्टी का परिवारवाद उजागर किया बल्कि चैलेंज भी दिया कि दम है तो इस बार परिवारवाद वालों को टिकट नहीं देकर दिखाओ.

 

SPECIAL: बिहार में असली ट्विस्ट अभी बाकी है! 

 

महागठबंधन से अलग हुए मुलायम सिंह यादव और नीतीश कुमार के बीच पहली दफा सीधी लड़ाई शुरू हो गई है. बिहार में सीट बंटवारे से नाराज होकर मुलायम सिंह महागठबंधन से अलग हो गए हैं. कल मुलायम ने नीतीश पर सीधा निशाना साधते हुए काह कि बीजेपी के साथ सरकार बनाने वाले कैसे सेक्युलर हो सकते हैं.

 

महागठबंधन में बगावत के सुर, आरजेडी सांसद ने कहा, ‘मोदी नीतीश का डीएनए एक’ 

 

एनडीए में भी सबकुछ ठीक नहीं है पासवान और मांझी आमने सामने हैं तो महागठबंधन में अब नीतीश के खिलाफ लालू के सांसद तस्लीमुद्दीन ने मोर्चा खोल दिया है. अररिया से आरजेडी के सांसद तस्लीमुद्दीन ने कहा है कि नीतीश झूठ की नाव पर सवार है. तस्लीमुद्दीन ने कहा है कि मोदी और नीतीश दोनों का डीएनए एक है.

 

बिहार: एनडीए में फूट, ‘दलित नेता’ बनने के लिए भिड़े मांझी और पासवान 

 

आपको बता दें कि बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं. 2010 के चुनाव में जब बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन था तब जेडीयू को 115 और बीजेपी को 91 सीटों पर जीत मिली थी. लालू और पासवान के गठबंधन को उस चुनाव में 22 और 3 सीटें हासिल हुई. सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ी कांग्रेस के खाते में 4 और अन्य को 8 सीटों पर जीत मिली थी.

 

FULL INFORMATION: घिर गए, यादव चक्रव्यूह कैसे तोड़ेंगे लालू? 

 

विधानसभा चुनाव की कुल 243 सीटों में से नीतीश कुमार की पार्टी 100 सीटों पर लड़ेगी और लालू की पार्टी 98 सीटों पर. 40 सीटें कांग्रेस के पास है और बाकी बची 5 सीटें मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी को लड़ने के लिए दी गई थी. लेकिन, महागठबंधन से अलग होने के बाद समाजवादी पार्टी ने बिहार की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है.

 

दो पिछड़ों का बेटा साथ आया तो कहते हैं जंगल राज आ गया: लालू 

 

ये है विधानसभा में पार्टियों की मौजूदा ताकत.

जेडीयू (106)

बीजेपी (85)

आरजेडी (24)

कांग्रेस (5)

सीपीआई (1)

निर्दलीय (5)

रिक्त: 16

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Bihar Election : Interesting contest this time
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017