बिहार में लालू से दोस्ती का भूमिहार वोट पर असर नहीं- विजय चौधरी

By: | Last Updated: Sunday, 9 August 2015 5:15 AM
Bihar Election_

नई दिल्ली: बिहार के जल संसाधन मंत्री विजय चौधरी नीतीश कुमार के लिए लकी माने जाते हैं. 2010 के चुनाव में विजय चौधरी प्रदेश अध्यक्ष थे और पार्टी को बहुत बड़ी जीत मिली. विजय  अभी जल संसाधन मंत्री होने के साथ बिहार विधान सभा में सत्ताधारी दल के नेता हैं.

 

नीतीश के अधिकांश कार्यक्रमों में विजय चौधरी साथ होते हैं. शनिवार को विजय चौधरी बिहारी सम्मान समारोह में शामिल होने दिल्ली पहुंचे थे. नीतीश सरकार में नंबर दो विजय चौधरी से राजनीति, चुनाव और रणनीति को लेकर एबीपी न्यूज़ के सीनियर प्रोड्यूसर मनोज कुमार ने पांच सवालों पर बातचीत की.

 

सवाल- इस बार फिर सरायरंजन से ही लड़ेंगे ?

 

जवाब- हां, वहीं सब कुछ है. फिर वहीं की सेवा करूंगा.

 

सवाल- अब लालू के साथ हैं तो वोट मांगने में दिक्कत नहीं होगी ?

 

जवाब- वोटर विकास देखता है. क्षेत्र के लोगों की जितनी सेवा हमने की है उस आधार पर लोग हमें वोट देंगे. राज्य सरकार में मंत्री रहते जितने काम हमने अपने इलाके में किए उस पर वोट मांगेंगे. हमने इलाके में अमन, चैन और शांति स्थापित करने का काम किया है. लोग इसीलिए हमें वोट देंगे.

 

सवाल- आप भूमिहार जाति से हैं,  लालू भूमिहार विरोधी राजनीति करते हैं इसे भूमिहारों को कैसे समझाएंगे ?

 

जवाब- समाज के लोग हमारे साथ हैं. आज कौन जाति, कौन समाज, कौन सा वर्ग ऐसा है जिसे विकास नहीं चाहिए. विकास हमारे सरकार की उपलब्धि है. भूमिहार भी विकास चाहता है विवाद नहीं. हमारे लिए और कोई मुद्दा ही नहीं है.

सवाल- सुना जा रहा है कि सीटों को लेकर लालू की पार्टी से विवाद चल रहा है ?

 

जवाब- सीटों को लेकर कोई विवाद नहीं है. जब भी कोई गठबंधन होता है तो सीटों को लेकर इस तरह की हवा उड़ती है. सिर्फ हमारे यहां ही चर्चा नहीं है. विरोधी गठबंधन में भी सीटों को लेकर विवाद हो रहा है. दो-तीन दलों का गठबंधन होता है तो हर पार्टी अधिक से अधिक सीट लेना चाहती है. उसी रणनीति पर हर बड़ी पार्टी आगे बढ़ती है. हमारी पार्टी भी बढ़ेगी. सीट बंटवारे के संदर्भ में बैठेंगे तो सब चर्चा खत्म हो जाएगी.

 

सवाल- कुछ तय तो किया होगा कि पार्टी कितनी सीटों पर लड़ेगी ?

 

जवाब- सीटों को लेकर अभी कोई बात नहीं हुई है. सभी चीजों पर विचार विमर्श होगा. जीत-हार का समीकरण देखा जाएगा फिर तय होगा कि हम कितने पर लड़ेंगे बाकी सहयोगी पार्टियां कितनी सीटों पर लड़ेगी. चुनाव तो जीतने के लिए लड़ा जाएगा न.

 

समस्तीपुर जिले के रहने वाले विजय चौधरी पहले कांग्रेस में थे. 1980 के दशक में कांग्रेस के विधायक हुआ करते थे. नीतीश कुमार ही इन्हें जेडीयू में लेकर आए. 2009 के लोकसभा चुनाव के बाद जब ललन सिंह और नीतीश कुमार में रिश्ते खराब हुए तब विजय चौधरी को प्रदेश जेडीयू का अध्यक्ष बनाया गया था.

 

गंभीर दिखने और मीठा बोलने वाले विजय चौधरी के संगठनात्मक नेतृत्व में बिहार का चुनाव लड़ा गया और पार्टी ने 115 सीटों पर जीत हासिल की. सरकार में मंत्री बनने के बाद विजय चौधरी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया तब से वो मंत्री हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Bihar Election_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017