बिहार चुनाव: एनडीए को उत्तर बिहार तो महागठबंधन को सीमांचल और अंग से उम्मीद

By: | Last Updated: Tuesday, 8 September 2015 7:03 AM
Bihar Election_Congress

नई दिल्ली: बिहार में विधानसभा का बिगुल बजने वाला है. आज चुनाव की तारीखों का एलान हो सकता है. बिहार की राजनीति इस बार रिवर्स गियर में है. लालू और नीतीश बीस साल की राजनीतिक दुश्मनी भूलकर साथ आ चुके हैं तो पासवान अब बीजेपी के रथ पर सवार हैं. जिन नीतीश कुमार ने पिछले साल जीतन राम मांझी को मुख्यमंत्री बनाया था वो अब बीजेपी के साथ खड़े हैं.

 

आज की तारीख में बिहार में एनडीए में 4 पार्टियां हैं. बीजेपी, एलजेपी, आरएलएसपी और हम. महागठबंधन में सीटों के बंटवारे से पहले तक 5 पार्टियां थी. लेकिन अब एनसीपी और समाजवादी पार्टी बाहर जा चुकी है. यहां सिर्फ आरजेडी, जेडीयू और कांग्रेस बची है.

 

इन दो गठबंधनों के अलावा समाजवादी पार्टी, एनसीपी, पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी, साधु यादव की गरीब जनता दल सेक्यूलर भी ताल ठोक रही है.

 

बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं. 2010 के चुनाव में बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन था. उस वक्त एनडीए को 206 सीटों पर जीत मिली थी. जेडीयू को 115 और बीजेपी को 91 सीटों पर जीत मिली..लालू की पार्टी आरजेडी का तब पासवान से गठबंधन था. लालू को 22 और पासवान को तब 3 सीटों पर जीत मिली थी.

सभी सीटों पर लड़ने वाली कांग्रेस को महज 4 सीटों से संतोष करना पड़ा था. अन्य के खाते में 8 सीटें गई थी. 6 जिसमें निर्दलीय और एक-एक सीटें लेफ्ट और जेएमएम को मिली थी.

 

राजनीतिक रूप से बिहार को हम चार हिस्सों में बांटते हैं तो तिरहुत, सारण और मिथिला मिलाकर उत्तर बिहार बनता है. कोसी और पूर्णिया मिलाकर सीमांचल. पटना और मगध मिलाकर एक रीजन है और मुंगेर-भागलपुर मिलाकर अंग का एक अलग रीजन. इनमें गंगा पार उत्तर बिहार का इलाका सबसे बड़ा है. यहां विधानसभा की 110 सीटें हैं. सीमांचल में 37, भोजपुर-मगध में 69, और अंग के इलाके में 27 सीटें हैं.

 

2010 के चुनाव में उत्तर बिहार, सीमांचल में बीजेपी और जेडीयू लगभग बराबर थी. अंग में बीजेपी और जेडीयू में तिगुने का अंतर था. भोजपुर-मगध में भी जेडीयू-बीजेपी में अच्छा खासा अंतर था.

 

इस बार उत्तर बिहार में बीजेपी को अच्छी उम्मीद दिख रही है. दिक्कत सीमांचल और अंग के इलाके में है. जेडीयू और आरजेडी को सीमांचल और अंग से तो पूरी उम्मीदें हैं ही मगध पर भी पार्टी ने पूरा जोर लगा रखा है. उत्तर बिहार में लालू-नीतीश को मिथिला की 37 सीटों से ज्यादा उम्मीद है. सारण लालू का गृह प्रमंडल है इसलिए यहां से भी उन्हें ज्यादा उम्मीदें हैं.

 

2010 में उत्तर बिहार में जेडीयू को 49 और बीजेपी को 47 सीटें मिली थी. सीमांचल में जेडीयू को 14 और बीजेपी दोनों को 14- 14 सीटें. भोजपुर मगध वाले इलाके में जेडीयू को 35 मिली तो बीजेपी को 24, अंग में बीजेपी 6 पर रह गई और जेडीयू को 17 सीटें मिली थी.

 

महागठबंधन में सीटों का बंटवारा हो चुका है. 100-100 सीटें लालू-नीतीश के पास है और 40 कांग्रेस के पास. एनसीपी वाली 3 सीटें किसको मिलेगी ये तय नहीं है. पहले इन तीन सीटों के साथ लालू ने अपने खाते की दो सीटें समाजवादी पार्टी को दी थी. लेकिन समाजवादी पार्टी सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. एनडीए में अभी सीटों का बंटवारा नहीं हुआ है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Bihar Election_Congress
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017