नकल पर केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने मांगी बिहार सरकार से रिपोर्ट, नवादा और लखीसराय में भी खुलेआम दीवार पर चढ़कर नकल कराते दिखे लोग

By: | Last Updated: Friday, 20 March 2015 3:15 AM

नई दिल्ली: बिहार में परीक्षा केंद्रों पर नकल मामले में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बिहार सरकार से रिपोर्ट मांगी है. बिहार सरकार 10वीं की परीक्षा में नकलचियों के आगे बेबस दिखी.

 

नवादा के परीक्षा सेंटर के बाहर और भीतर पुलिस की मौजूदगी में नकल का खेल चलता दिखा.

 

गुरुवार को बिहार के लखीसराय में भी 10वीं की परीक्षा में खुलेआम चोरी होती रही. प्रशासन की औपचारिक सख्ती के बीच स्कूल की बाउंड्री पर चढ़ चढ़कर लोग नकल कराते नजर आए. 

 

नकल करने के मामले में पिछले दो दिनों में 25 छात्र सस्पेंड हो चुके हैं जबकि 46 अभिभावकों को गिरफ्तार किया गया है. बिहार में दसवीं बोर्ड परीक्षा के अभी 4 पेपर और बाकी हैं. 20 मार्च को सोशल साइंस, 21को लेंग्वेज, 23 को सेकंड लेंगवेंज और 24 मार्च को वैकल्पिक विषय का पेपर होना है.

 

बिहार के शिक्षा मंत्री ने खड़े किए हाथ

 

बिहार में मैट्रिक परीक्षा में धड़ल्ले से हो रही नकल पर राज्य के शिक्षा मंत्री ने हाथ खड़े कर दिए हैं. एबीपी न्यूज ने इस बारे में उनसे बात की तो बिहार के शिक्षा मंत्री पी के शाही ने कहा कि वो अपने ही लोगों पर गोलियां थोड़े ना चलवा सकते हैं.

 

पी के शाही ने नकल पर तत्काल लगाम लगाने पर एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा, ”हमें नहीं पता कि इसे रोकने में कौन सा कारगर कदम उठाया जाए या कौन सी व्यवस्था कराई जाए. मैं मीडिया के माध्यम से बच्चों के अभिभावकों से अपील करता हूं कि बच्चों के भविष्य को देखते हुए अभिभावक बच्चों को नकल ना कराएं. यह एक बहुत गंभीर विषय है. नकल रोकने के लिए सरकार अकेले कुछ नहीं कर सकती, यह सरकार के बूते की बात नहीं है. सरकार अपने ही लोगों पर गोली थोड़े ही चलवा सकती है या उन पर कोई दंडात्मक कार्रवाई थोड़े करेगी.”

 

नकल में प्रशासन के सहयोग पर शिक्षा मंत्री ने कहा, “उनके भी बच्चे इस परीक्षा में शामिल हो रहे होंगे. वे भी तो अभिभावक हैं.”

 

पी के शाही ने कहा, ”14 लाख छात्र 1100 से ज्यादा केंद्रों पर परीक्षा दे रहे हैं. हमारा दायित्व है कि कदाचार मुक्त परीक्षा सरकार कराए लेकिन इसमें बच्चों के अभिभावक, परिवार या रिश्तेदार लोग ही सहयोग कर रहे हैं. इसलिए कहीं न कहीं मुझे लगता है कि नकल रोकने के लिए सामाजिक सहयोग की जरूरत है, इन अभिभावक, परिवार या रिश्तेदारों को समझना चाहिए कि वे कैसा भविष्य बना रहे हैं, उन्हे कैसी शिक्षा देना चाहते हैं?”

क्या हो रहा है बिहार में?

बिहार में छात्र छात्राओं के भविष्य के साथ किस कदर खिलवाड़ हो रहा है इसकी एक बानगी गुरुवार को बिहार के हाजीपुर और वैशाली में देखने को मिली. यहां बिहार बोर्ड की परीक्षा के दौरान धड़ल्ले से नकल कराई जा रही है.

 

छात्र छात्राओं के परिवार वाले परीक्षा केंद्र की दीवार पर चढ़कर नकल करवा रहे हैं. इस पूरे खेल में परीक्षा केंद्र पर तैरान पुलिस और परीक्षा निरीक्षकों की भी मिली भगत होती है. हाजीपुर में परीक्षा माहौल इतना खराब है कि प्रश्नपत्र बंटा नहीं कि नकल के ठेकेदारों के पास पर्चा पहुंच जाता है और परीक्षा केंद्र के बाहर से नकल का सामन सामिग्री अंदर पहुंचनी शुरू हो जाती है.

 

बिहार में बेरोजगारी की समस्या बहुत बड़ी है शायद इस तरह की परीक्षा प्रणाली भी इसके लिए  जिम्मेदार है. सरकार को इन छात्र छात्राओ की चिंता होती तो शिक्षा के गुणवत्ता में सुधार के बारे में सोचती न की इस स्तर की छूट परीक्षा केन्द्रों पर दी जाती.

 

संबंधित खबरें-

बिहार: मैट्रिक परीक्षा में डंके की चोट पर नकल, दीवारों पर चढ़कर दिए जा रहे हैं चिट 

बिहार में नकल पर शिक्षा मंत्री की दो टूक, ‘लोगों पर गोलियां थोड़े ना चलवा सकते हैं’ 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: bihar_cheating_in_nawada
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? ????? Bihar bihar board exam cheating
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017