एबीपी न्यूज के खास कार्यक्रम घोषणापत्र में चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा-चौधरी चरण सिंह स्मारक बनना चाहिए

By: | Last Updated: Friday, 19 September 2014 2:41 PM
birendra singh repling our question

नई दिल्ली: एबीपी न्यूज के खास कार्यक्रम घोषणापत्र में चौधरी बीरेंद्र सिंह हमारे हर तीखे सवाल का जवाब दिये हैं. उन्होंने चौधरी चरण सिंह की स्मारक भवन बनाने की हिमायत की है.

सवाल: वैसे तो हरियाणा में विकास और भ्रष्टाचार सबसे अहम मुद्दे हैं. सभी पार्टियों की रैली में इस पर नारे तो लगते हैं लेकिन आखिर में घूम फिर कर बात मोदी पर आ जाती है. सवाल यही है कि हरियाणा में कोई मुद्दा है या सिर्फ मोदी हैं?

 

उत्तर : देखिए, किसी चुनाव को जीतने के लिए तीन चीजें बहुत जरूरी होती हैं. पहली पार्टी, पार्टी का लीडर और कैंडिडेट. भारतीय जनता पार्टी ने हरियाणा में अपना प्रभाव स्थापित कर लिया है. हरियाणा के गांव की युवा पीढ़ी ने अब नयापन चाहता है. युवा अपने भविष्य को संजोने के लिए मोदी जी की तरफ देख रहा है.

 

क्या अगर मोदी लहर के बल पर बीजेपी सरकार बनी तो आपका स्टेटस खत्म हो जाएगा. इस चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा कि लहर तभी होती है जब पानी हो. लोग जुड़ेंगे तभी कांरवा बनेगा.

 

आप हर बीजेपी के नेता और हर विधायक की सोच को एक नहीं समझ सकते हैं. योगी की अलग सोच है. और सबकी अलग-अलग होती है.

 

मतदाताओं ने अब यह मन बनाया है कि हम ऐसे लोगों को लेकर आएं जो डिलीवर कर सकें. मेरे पास 42 साल की राजनीतिक अनुभव है. संगठन में ऐसा कोई पद राजनीतिक नहीं है जो कि मेरे पास नहीं रहा हो. मैंने मर्यादित राजनीति की है.

चौधरी चरण सिंह का स्मारक बनना चाहिए कि नहीं. इस पर चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा कि चौधरी चरण सिंह किसानों के सबसे बड़े रहबर थे. उनकी स्मारक बननी चाहिए

 

सवाल: चौधरी बीरेंद्र सिंह कांग्रेस के तपे तपाए नेताओं में से थे. 42 साल खपा दिए हरियाणा में कांग्रेस को बनाए रखने में. अब कांग्रेस और बीरेंद्र सिंह जुदा हो चुके हैं. लोगों को कैसे समझाएंगे कि अब कांग्रेस नहीं बीजेपी को वोट देना है. लोग इतनी आसानी से बीरेंद्र सिंह पर कैसे भरोसा करेंगे ?

 

 

उत्तर : मौका परस्ती की बात आप करें. तो 1991 में राजीव गांधी जी ने कहा था कि आप स्पष्ट बहुमत दें तो मैं हरियाणा को एक नया नेता दूंगा. जो राजनीति में होता है वही नेताओं ने खेला. एक बार मुझे फोन करके राष्ट्रपति भवन से कहा गया कि आप कैबिनेट मंत्री बन रहे हैं कुछ ही वक्त पहले मनमोहन सिंह का फोन आया कि अब संभव नहीं है. हरियाणा में इंडियन नेशनल कांग्रेस नहीं भूपिन्दर सिंह हुड्डा की कांग्रेस है.

 

हरियाणा में फ्रैक्चर मैंनेडेट मिलने मतदाताओं की उम्मीद पर सरकारें खरा नहीं उतरी हैं. नरेंद्र मोदी ने एक नया अध्याय शुरू की है जिसे हरियाणा में दोहराया जाएगा.

 

आप यह मान लीजिए कि कांग्रेस को बीरेंद्र सिंह ने दिया तो मैंने भी कांग्रेस को बहुत कुछ दिया है. राजनीतिक तौर पर जब तक मैं कांग्रेस में रहा निष्ठा पूर्वक काम किया. अपने तरफ से मैंने कांग्रेस के लिए बहुत काम किया है.

 

राजनीति में हमारे साथ जो लोग जुड़ते हैं वह यह चाहते हैं कि हमारे नेता हमारे लिए लड़े. हम भी यही चाहते हैं कि बीजेपी के लोग हमारे साथ आए उन लोगों को जरूर महत्व दें जो जीतने के काबिल हैं.  15 अगस्त की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जो भाषण था उसमें उन्होंने स्पष्ट कहा था कि जातिवाद, क्षेत्रवाद औऱ सांप्रदायिक सोच से लड़ना है.

 

उसके बाद हम लोग उसी रास्ते पर चल रहे हैं. योगी आदित्यनाथ पर उन्होंने कहा कि हर आदमी योगी नहीं होता. सत्ता प्राप्ति के बाद एक स्ट्रिकटली किसी आइडियोलोजी से देश नहीं चल सकता है. सबकी अपनी राजनीति है.

 

हरियाणा का विकास अच्छा नहीं हुआ. मैं सिर्फ हरियाणा का विकास चाहता हूं. हिन्दूस्तान में सबसे अच्छे बैल नागौर जाता था. हमारे मुख्यमंत्री ने गुडगांव को जमीन लेन देन का एक मेला बना दिया है.

 

कौन हैं चौधरी बीरेंद्र सिंह ?

 

चौधरी बीरेंद्र सिंह, हरियाणा की राजनीति का बड़ा चेहरा, विधानसभा चुनाव में बीजेपी का तुरुप का इक्का हैं. उम्र 68 साल, राजनीति विरासत में मिली, कानून की पढ़ाई की, ब्लाक स्तर से राजनीति की शुरुआत, 42 साल तक कांग्रेस से जुड़े रहे, पांच बार विधायक बने, दो बार संसद पहुंचे.

 

चार दशकों तक हरियाणा में कांग्रेस की दिशा और दशा तय करने वाले चौधरी बीरेंद्र सिंह एक समय मुख्यमंत्री पद के बड़े दावेदार थे. कांग्रेस महासचिव रह चुके बीरेंद्र सिंह हिमाचल और उत्तराखंड में कांग्रेस के चुनाव प्रभारी भी रहे. लेकिन 2014 के आम चुनाव के बाद बीरेंद्र सिंह कांग्रेस छोड़ बीजेपी के साथ आ गए. 

 

चौधरी बीरेंद्र सिंह अपनी साथ सुथरी छवि और साफगोई के लिए मशहूर रहे हैं. राजनीति में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर पिछले साल बोलते हुए बीरेंद्र सिंह ये तक कह दिया था कि राज्यसभा सांसद बनने के लिए 100 करोड़ लगते हैं. हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव में बीरेंद्र सिंह बीजेपी के स्टार प्रचारक हैं. उनके बजाय उनकी पत्नी चुनाव लड़ रही हैं. फिलहाल चौधरी बीरेंद्र सिंह का एक ही मिशन है – हरियाणा में कमल खिलाना.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: birendra singh repling our question
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: birendra singh Haryana
First Published: