गठबंधन पर शिवसेना चाहती है पीएम मोदी से सीधी बात लेकिन बीजेपी नहीं तैयार

By: | Last Updated: Saturday, 20 September 2014 2:43 AM

नई दिल्ली : महाराष्ट्र में सीट बंटवारे पर शिवसेना और बीजेपी का झगड़ा अभी नहीं सुलझा है. शुक्रवार शाम 6 दिन बाद दोनों पार्टियों के नेताओं की बैठक में गठबंधन नहीं तोड़ने पर सहमति जरूर बनी.

 

सूत्रों के मुताबिक शिवसेना के नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी और उद्धव ठाकरे के बीच सीट बंटवारे पर बातचीत की मांग रखी है लेकिन बीजेपी इसके लिए भी तैयार नहीं है.

 

बैठक में शिवसेना की ओर से आदित्य ठाकरे ,सांसद अनिल देसाई , विधायक सुभाष देसाई शामिल हुए जबकि बीजेपी की तरफ से महाराष्ट्र के प्रभारी ओम माथुर और महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष देंवेंद्र फडणवीस मौजूद थे.

 

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा हमें जो सही लगा वही फॉर्मूला बीजेपी को दिया है और अब उसे ही फैसला लेना है. बताया जा रहा है कि बैठक में शिवसेना ने बीजेपी को 110, खुद 160 और अन्य पार्टियों को 18 सीटें देने का प्रस्ताव दिया जिसे बीजेपी ने ठुकरा दिया.

 

शिवसेना-बीजेपी गठबंधन में शामिल छोटे दलों ने भी दबाव बढ़ाना शुरू कर दिया है. राष्ट्रीय समाज पक्ष के महादेव जानकर ने कहा है कि अगर शिवसेना बीजेपी के नेता ये सोच रहे हैं कि सिर्फ 4-5 सीटें देंगे तो इसे स्वीकार नहीं किया जाएगा .

 

गठबंधन के पक्ष में, लेकिन 119 सीटें मंजूर नहीं है- बीजेपी अब तक की पूरी खबर पढ़ें

 

शिवसेना और बीजेपी के गठबंधन में हो रही देरी पर सहयोगी भी आंख दिखाने में लगे हैं. आरएसपी ने कुल 14 सीटों की मांग की है. और अब कह रहे हैं कि अगर शिवसेना बीजेपी के नेता ये सोच रहे हैं कि सिर्फ 4-5 सीटें देंगे तो इसे स्वीकार नहीं किया जाएगा . एक और सहयोगी पार्टी शिव संग्राम के नेता विनायक मेटे ने भी सीटों को लेकर हो रही देरी को गठबंधन के हित में नहीं बताया है.

 

बीजेपी ने शिवसेना के उस ऑफर को ठुकरा दिया है जिसमें 119 सीटों पर लड़ने की बात हो रही थी . बीजेपी कह रही है कि बीते 25 सालों में जिन सीटों पर शिवसेना कभी नहीं जीती उन सीटों पर शिवसेना दावा छोड़ दे . लेकिन शिवसेना बीजेपी को 119 से ज्यादा सीट देने को राजी नहीं है .

 

शिवसेना बीजेपी की तल्खी का अंदाजा आप ऐसे पोस्टर से लगा सकते हैं . मुंबई में बीजेपी की ओर से लगाए गए पोस्टर में सिर्फ नरेंद्र मोदी की तस्वीर है . इसमें न तो शिवसेना के किसी नेता का नाम है और ना ही किसी की तस्वीर . दिन में बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक भी हुई जिसमें पार्टी ने शिवसेना के ऑफर को ठुकरा दिया .

 

बीजेपी को शिवसेना के जिस फॉर्मूले पर एतराज है उसके मुताबिक 288 सीटों में से शिवसेना खुद 153 सीटों पर लड़ेगी और अपने पुराने कोटे की 16 सीटें सहयोगियों को देगी . बीजेपी 117 सीटों पर लड़ेगी और अपने कोटे की दो सीटें सहयोगियों को देगी .

 

शिवसेना के ऑफऱ में शर्त ये भी है कि अगर सहयोगी और सीटों पर अडे रहे तो बीजेपी अपने कोटे से ही उनको सीटें देगी . यानी बीजेपी के खाते में 117 से कम सीटें ही रहेगी . 2009 में शिवसेना 169 और बीजेपी 119 सीटों पर लडी थी .

 

एबीपी न्यूज-नीलसन ने भी पिछले महीने सर्वे किया था कि अगर दोनों पार्टियां अलग-अलग लड़ेंगी तो बीजेपी को सबसे ज्याद 103 और शिवसेना को 64 सीटें मिलेंगी. हालांकि अगर गठबंधन कायम रहा तो 200 सीटें मिल सकती हैं .

 

बीजेपी और शिवसेना का महाराष्ट्र में 25 साल से गठबंधन है . बीजेपी की दलील है कि बीते पच्चीस साल में शिवसेना जिन सीटों पर कभी नहीं जीती उस पर फिर से समझौता हो .शिवसेना इसके लिए राजी नहीं है .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: bjp shivsena
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017