ब्लॉग: उस स्रोत को सुखाओ जहां से कट्टरवाद का मवाद पैदा होता है

By: | Last Updated: Thursday, 18 December 2014 7:39 AM

ऑस्ट्रेलियाई शहर सिडनी और पाकिस्तानी शहर पेशावर में हुए आतंकी हमलों से एक बार फिर पूरी दुनिया थर्रा गई है. सोमवार को एक ईरानी मूल का नागरिक सिडनी के ‘लिंट चॉकलेट वैफे’में घुस गया. पूरे 17 घंटों तक उसने दर्जन भर से अधिक नागरिकों को बंधक बनाए रखा. ईरानी नागरिक हारुन मोनिस की हरकतें पहले से ही संदेहास्पद थीं. 1996 में वह ईरान से निर्वासित होकर ऑस्ट्रेलिया आया था. अफगानिस्तान में नार्दर्न एटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन (नाटो) द्वारा जारी आतंक विरोधी सैन्य अभियान में ऑस्ट्रेलिया भी हिस्सेदार है. वकालत के पेशे से जुड़े हारुन मोनिस ने कुछ दिनों पहले ही अफगानिस्तान की सैन्य कार्रवाई में शहीद हुई सैनिकों के परिजनों को पत्र लिखा था जिसमें उसने ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों को हत्यारा करार दिया था. चूंकि ऑस्ट्रेलिया आतंक का शिकार देश नहीं रहा है इसलिए संभवत: मोनिस की इस हरकत को ऑस्ट्रेलियाई प्रशासन और जांच एजेंसियों ने सिर्फ मनोरुग्ण के प्रलाप के रूप में देखा होगा. चूंकि अब आतंक की आग का उन्हें अहसास हो गया है सो भविष्य में ऑस्ट्रेलियाई ऐसे मामलों के प्रति संवेदनशील रहेंगे.

 

पाकिस्तानी शहर पेशावर में मंगलवार की सुबह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के फिदायीन एक मिलिट्री स्कूल में घुस गए. इस हमले में 141 स्कूली बच्चों और शैक्षणिक कर्मचारी मारे गए. पाकिस्तानी टेलिविजन चैनलों पर जिस तरह के दृश्य दिखाई दिए उनकी वीभत्सता दिल दहलानेवाली है. दो दशक पहले इस आतंक का शिकार जब मुंबई शहर हुआ था, सैकड़ों निर्दोषों के चीथड़े सिलसिलेवार विस्फोटों में उड़ते हुए हम लोगों ने देखे थे. तब पाकिस्तान और उसके प्रश्रयदाता देश इन वहशियाना हरकतों को हमारी आंतरिक सांप्रदायिक समस्या करार देकर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने से इंकार कर रहे थे. आज भी आतंक के खिलाफ लड़ाई पूरे मन से ईमानदारी से नहीं लड़ी जा रही है.

 

बीते माह 18 नवंबर को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेशी मामलात के सलाहकार सरताज अजीज द्वारा बीबीसी को दिया गया इंटरव्यू इस सच का जीवंत प्रमाण है. सरताज अजीज जब बीबीसी को इंटरव्यू दे रहे थे तब पाकिस्तान के सेना प्रमुख राहिल शरीफ अमेरिकी यात्रा पर थे. अमेरिका आतंक विरोधी धुरी में अपने रणनीतिक साथी पाकिस्तान से ‘अफ-पाक’ मसले पर विमर्श कर रहा था. जबकि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेशी मामलात के सलाहकार सरताज अजीज बीबीसी से कह रहे थे- ‘जो आतंकवादी पाकिस्तान की सुरक्षा के लिए खतरा नहीं हैं उन्हें निशाना बनाने की कोई आवश्यकता नहीं है.’

 

सरताज अजीज पाकिस्तान सरकार की उस नीति को ही दोहरा रहे थे जो ‘गुड तालिबान’ और ‘बैड तालिबान’ का वर्गीकरण करता है. 9/11 के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के आतंकी हमले के बाद जब अमेरिका के नेतृत्व में ‘नाटो’ की फौजों ने अफगानिस्तान में सैन्य कार्रवाई शुरू की तो बड़े पैमाने पर तालिबान के आतंकी अफगानिस्तान से भाग कर पाकिस्तान में छिप गए. इनमें कुछ आतंकी पाकिस्तान में भी कार्रवाइयां करते हैं जबकि कुछ अफगानिस्तान, नाटो की कमान और हिंदुस्तान को निशाना बनाते हैं. पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाईयां करनेवाले ‘बैड तालिबान’ और शेष लोगों के खिलाफ कार्रवाइयां करनेवाले पाकिस्तानी सत्ता संस्थान की नजर में ‘गुड तालिबान’ है.

 

बीबीसी के इंटरव्यू में सरताज अजीज कहते हैं- ‘अफगान तालिबान यह अफगानिस्तान की समस्या है. दक्कानी नेटवर्क उस समस्या का एक हिस्सा है. इसलिए अफगानी तालिबान से चर्चा करना अफगान सरकार का काम है सो पाकिस्तान सिर्फ तालिबानियों को समझा सकता है. अब 1990 के दशक वाली स्थिति शेष नहीं बची.’ जो सरताज अजीज कह रहे हैं वहीं पाकिस्तानी सेना, आईएसआई की नीति भी रही है. इसी वर्ष अक्टूबर, 2014 में अमेरिका के प्रतिरक्षा मंत्रालय ने अमेरिकी कांग्रेस को एक 100  पृष्ठों वाली ‘रिपोर्ट ऑन प्रोग्रेस टोवर्ड सिक्योरिटी एंड स्टैबिलिटी इन अफगानिस्तान’ सौंपी है. इस रिपोर्ट में साफ शब्दों में लिखा गया है कि अफगानिस्तान और हिंदुस्तान की भूमि पर बारंबार जो भी आतंकी हमले हो रहे हैं उनमें पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों के हाथ हैं. इनके चलते अफगानिस्तान-पाकिस्तान और हिंदुस्तान क्षेत्र में शांति और स्थिरता खतरे में है. यह सारी हरकत पाकिस्तान की हिंदुस्तानी सैन्य क्षमता से ईर्ष्या और अफगानिस्तान में हिंदुस्तानी कंपनियों के विकास कार्यों के प्रति द्वेष के चलते कर रहा है.’

 

सरताज अजीज का बयान और अमेरिकी प्रतिरक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट हिंदुस्तान में पाकिस्तान की ओर ‘अमन की आशा’ रखनेवालों के गाल पर करारा तमाचा है. हिंदुस्तानी धरती पर आतंकवाद का खतरा अब पाकिस्तान तक सीमित नहीं है. जिस तरह आरिब मजीद समेत कल्याण के चार मुस्लिम युवक ‘इस्लामिक स्टेट’ के लिए लड़ने के लिए इंटरनेट पर कट्टरपंथी बन गए वह भावी खतरे के द्वार पर दी गई दस्तक है. जब 4 युवक इराक में लापता हो गए और उनके परिजन खुद गृह मंत्रालय से गुहार लगाने लगे तब जाकर हमारा तंत्र जागरुक हुआ. बैंगलोर का एक युवक 2013 से इस्लामिक स्टेट का ट्विटर हैंडल चला रहा था. जब ब्रिटिश समाचार चैनल ने उसको बेनकाब किया तब जाकर हमारी खुफिया एवं जांच एजेंसियां जागृत हुर्इं.

 

बीते पखवाड़े भर हिंदुस्तान में धर्मांतरण उर्फ घरवापसी पर जमकर चर्चा हुई. तमाम टिप्पणीकारों ने आशंका प्रकट की कि इसके चलते देश खतरे में है. देश विभाजित हो जाएगा आदि आदि…. ऐसे पूजनीय विद्वतजन सेकुलरों से एक सवाल पूछने का मन होता है. क्या देश को किसी गरीब के हिंदू, मुस्लिम या ईसाई बन जाने से देश टूट जाया करते हैं? यदि हां, तो बीते 2000 वर्षों में इस देश के कितने टुकड़े हुए? दिखाए! यह देश बंटा तो सियासत की शतरंज पर सत्ता प्राप्ति के लिए मजहबी दुरुपयोग से? जिन मोहम्मद अली जिन्ना को रसूल और उसके खुदा पर भरोसा तक नहीं था वह एक इस्लामी राष्ट्र के ‘कायदे आजम’ बन गए. जो सनातनी हिंदू होने पर गौरव करते थे उन महात्मा गांधी का हिंदुस्तान ‘सेकुलर राष्ट्र’.

 

महात्मा गांधी ने ईसाई मिशनरियों के धर्मांतरण के प्रयासों पर कितने प्रहार किए हैं, अगर उसे सोनिया गांधी पढ़ लें तो उसे वह योगी आदित्यनाथ का वक्तव्य समझने की गलती कर सकती हैं. देश की अखंडता को खतरा किसी व्यक्ति, समूह के पंथ परिवर्तन से नहीं हुआ करता, मगर यदि कोई पंथ अन्य पंथों की कत्ल को अपना धर्म मान बैठे तो पूरी मानवता के लिए खतरा खड़ा होता है. हिंदुस्तान समेत पूरी दुनिया में जिहाद के आतंकी फलसफे को माननेवालों के खिलाफ मानवतावादी अभियान खड़ा होना चाहिए. आप हजारों कसाब को फांसी दे दो ‘इस्लामी जिहाद’ का यह कलंकित पर्व नहीं खत्म होगा. उस स्रोत को सुखाओ जहां से कट्टरवाद का मवाद पैदा होता है. वर्ना, 9/11, 26/11, 15/12, 16/15 ये सारी तिथियां रह जाएंगी. 365 दिन का ग्रेगेरियन कैलेंडर रक्त से लाल हो जाए उसके पहले इस वैचारिक विष को खींचना पड़ेगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Blog: Prem Shukla
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: prem shukla
First Published:

Related Stories

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी
'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी

नई दिल्ली: नागरिक अधिकार कार्यकर्ता इरोम शार्मिला और उनके लंबे समय से साथी रहे ब्रिटिश नागरिक...

अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे
अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे

 मुंबई: मुंबई पुलिस के मशहूर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को महाराष्ट्र...

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017