मोदी, क्या हुआ आपका वादा?

By: | Last Updated: Wednesday, 25 February 2015 4:04 PM
Bullet Train_Narendra Modi_Abp News_Rail Budget_

नई दिल्ली: बुलेट ट्रेन देश के लिए सबसे बड़ा सपना है. यह वो सपना जो प्रधानमंत्री ने दिखाया और देश ने देखना शुरू कर दिया है, लेकिन देखना यह है कि ये सपना हकीकत में कब बदलेगा? 2014 के अंतरिम रेल बजट में बुलेट ट्रेन शुरू करने की बात कही गई थी लेकिन ये बुलेट ट्रेन के सपनों का ये कारवां कहां तक पहुंचा है आइए आपको बताते हैं.

 

मोदी ने दिल्ली में सत्ता संभालने से पहले ही देश को बुलेट ट्रेन का सपना दिखाया था. केंद्र में बीजेपी की सरकार बनी और अंतरिम बजट में बुलेट ट्रेन के नाम पर 100 करोड़ रुपए देने का एलान हुआ.

 

मोदी सरकार की योजना है कि भारत में बुलेट ट्रेन के लिए डायमंड चतुर्भुज बनाया जाए. यानी ऐसा नेटवर्क जिसमें दुनिया के बाकी देशों की तरफ भारत में भी 250 से 300 किमी प्रति घंटे की तेज रफ्तार से ट्रेनें पटरी पर दौड़ें. इसी में है अहमदाबाद से मुंबई के बीच बनने वाला ट्रैक.

 

आपको बता दें कि मुंबई अहमदाबाद रूट पर दो स्टडीज हुई हैं. पहली ज्वाइंट फिजिबिलिटी स्टडी भारत और जापान के साथ. इसकी अंतरिम रिपोर्ट सौंप दी गई है. और दूसरी बिज़नेस मॉडल स्टडी फ्रेंच रेलवेज के साथ. फ्रेंच रेलवे ने सिंतबर में स्टडी रिपोर्ट जमा कर दी है.

 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आमतौर पर एक किलोमीटर का ट्रैक बनाने में 3 करोड़ रूपयों के आसपास का खर्च आता है जबकि बुलेट ट्रेन पर करीब आठ गुना. इसी तरह एक बुलेट ट्रेन की कीमत करीब डेढ़ हजार करोड़ के आसपास बैठती है जबकि इतने में करीब 5000 डिब्बे भारतीय रेल खरीद सकती है.

 

बुलेट ट्रेन के लिए निवेश चाहिए औऱ प्रधानमंत्री के जापान दौरे के बाद ये भरोसा भी मिला. जापान के राष्ट्रपति जब पिछले साल नवंबर में दिल्ली दौरे पर आये थे तब दिल्ली और चेन्नई के बीच बुलेट ट्रेन दौड़ाने को लेकर समझौता हुआ था.

 

भारतीय रेल अधिकारी चीन जाकर वहां की बुलेट ट्रेन की स्टडी पूरी कर चुकें है. इस साल जनवरी महीने में दिल्ली-चेन्नई रूट पर ज्वाइंट फिजिबिलिटी स्टडी भी शुरू हो चुकी है.

 

बुलेट ट्रेन की केवल इन दोनों लाइन पर इतना ही काम शुरू हुआ है सरकार का कहना कि एक बार फाइलों से निकलकर ट्रैक पर काम शुरू हो गया तो 6 साल में बुलेट ट्रेन पटरी पर दौड़ने लगेगी

 

सरकार ने पिछले रेल बजट में 100 करोड़ दिए थे बुलेट ट्रेन के लिए. एक अनुमान के मुताबिक 60000 करोड़ क खर्चा सिर्फ मुम्बई अहमदाबाद रूट पर आना है. ऐसे में अगर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को देश में पेहली बुलेट ट्रेन लेन का सपना साकार करना है तो बजट भी बढ़ाना होगा और काम की रफ़्तार भी.

 

बुलेट ट्रेन को दौड़ाने में अभी वक्त लगेगा लेकिन दिल्ली से आगरा के बीच सेमी बुलेट ट्रेन का ट्रायल हो चुका है 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पटरी पर दौड़ती ये देश की पहली सेमी बुलेट ट्रेन का नमूना है.

 

दिल्ली से आगरा के बीच 200 किमी की दूरी सेमी बुलेट ट्रेन ने 90 मिनट में तय की है. देश की रेल व्यवस्था को रफ्तार देने के लिए नौ हाईस्पीड ट्रेनें देने का एलान किया गया था.

 

इकनॉमिक टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक मथुरा से अलवर के बीच इलेक्ट्रीफिकेशन का काम पूरा हो चुका है उम्मीद है कि दिल्ली आगरा रूट पर अप्रैल महीने से इलेक्ट्रिन ट्रेन दौड़ने लगेगी.

 

सरकार की योजना सेमी बुलेट ट्रेन के लिए पटरियों को बदलने की नहीं है. बल्कि रेलवे इन पटरियों को अपग्रेड कर सेमी बुलेट चलाने का प्लान तैयार कर रहा है. लेकिन अभी ये सवाल बना हुआ है कि सरकार का ये सपना कब तक साकार होगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Bullet Train_Narendra Modi_Abp News_Rail Budget_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017