मरने के बाद भी चार लोगों को जिंदगी दे गया कॉल सेंटर कर्मचारी

By: | Last Updated: Thursday, 10 March 2016 7:52 PM
CALL CENTER employee INDORE

प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर: सड़क दुर्घटना में बुरी तरह घायल होने के बाद यहां दिमागी रूप से मृत घोषित 34 वर्षीय कॉल सेंटर कर्मचारी चार मरीजों को आज नई जिंदगी दे गया. युवक की मृत्यु उपरांत अंगदान से मिले महत्वपूर्ण अंगों का गंभीर रूप से बीमार चार मरीजों के शरीर में सफल प्रत्यारोपण किया गया.

अंगदान को बढ़ावा देने वाली सामाजिक संस्था ‘मुस्कान ग्रुप’ के कार्यकर्ता संदीपन आर्य ने बताया, ‘शहर के एक कॉल सेंटर में काम करने वाले गौरव जैन (34) छह मार्च को सड़क हादसे में बुरी तरह घायल हो गये थे और एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था.

अस्पताल के डॉक्टरों ने उनकी हालत पर सतत निगरानी के बाद उन्हें कल नौ मार्च को दिमागी रूप से मृत घोषित कर दिया.’ उन्होंने बताया कि जैन के परिजन से चर्चा कर उन्हें इस बात के लिये राजी किया कि वे जरूरतमंद मरीजों को नया जीवन देने के लिये इस युवक के महत्वपूर्ण अंग दान कर दें.

युवक के परिजन ने उसका दिल, लीवर, दोनों किडनी, दोनों आंखें और त्वचा दान करने का फैसला किया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: CALL CENTER employee INDORE
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017