सीने में 40 साल से धंसा था तीर, डाक्टरों ने निकाला

By: | Last Updated: Saturday, 19 July 2014 3:47 PM

इन्दौर: मध्यप्रदेश में इन्दौर के महाराजा यशवंतराव (एमवाय) अस्पताल के डाक्टरों की टीम ने 55 वर्षीय एक आदिवासी मरीज का सफल ऑपरेशन कर उसके सीने में 40 साल से धंसा करीब चार इंच गुणा डेढ़ इंच बड़ा तीर का लोहे का नुकीला टुकड़ा बाहर निकाला. मरीज अब स्वस्थ है तथा सात.आठ दिन बाद टांके कटने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जायेगी.

 

महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के सर्जरी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ सुमित शुक्ला ने बताया कि एम वाय अस्पताल में डॉ अंकुर माहेश्वरी, डॉ सोनिया मोजेज, सिद्धार्थ दुबे सहित सात डाक्टरों की टीम ने करीब तीन घंटे का ऑपरेशन कर कल मरीज के सीने से इस तीर के लोहे के टुकड़े को बाहर निकाला, जो करीब 40 साल से उसके सीने में बांयी तरफ धंसा हुआ था.

 

शुक्ला ने बताया कि ऑपरेशन सफल रहा तथा करीब सात.आठ दिन में मरीज के टांके भरने के बाद से अस्पताल से छुट्टी दे दी जायेगी. फिलहाल मरीज को गहन चिकित्सा इकाई (आयसीयू) में रखा गया है.

 

उन्होंने कहा कि यह हैरानी की बात है कि 40 साल तक सीने में तीर का टुकड़ा धंसा होने के बावजूद भी मरीज को कोई इन्फेक्शन नहीं हुआ और वह अपना सामान्य कामकाज करता रहा.

 

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल जिले आलीराजपुर के रहने वाले मानसिंह को 40 साल पहले गांव में पारिवारिक झगड़े के दौरान छाती में तीर लग गया था. तब वह 15 साल की उम्र का था. तब घर वालों ने तीर खींचकर निकाला तो शायद लकड़ी का हिस्सा बाहर आ गया और तीर का लोहे का नुकीला भाग छाती में ही रह गया. उस वक्त जड़ी बुटी लगाकर जख्म भर गया. पिछले दिनों सीने में दर्द की शिकायत पर उसने वहां एक्स रे करवाया. एक्स रे में उसके सीने में बांयी तरफ तीर का टुकड़ा धंसा होने का खुलासा हुआ तब उसे इन्दौर के एमवाय अस्पताल में रैफर किया गया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: carrying arrow in his chest for 40 years
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017