Exclusive: 24 संदिग्ध मौतों का व्यापम से नहीं है कोई रिश्ता, CBI क्लोजर रिपोर्ट

Exclusive: 24 संदिग्ध मौतों का व्यापम से नहीं है कोई रिश्ता, CBI क्लोजर रिपोर्ट

सीबीआई को अपनी रिपोर्ट में हर संदिग्ध मौत को व्यापम से संबंध खारिज करने के लिए सीबीआई की विशेष अदालत में पक्ष रखना होगा.

By: | Updated: 20 Sep 2017 09:01 AM

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के चर्चित व्यापम घोटाले में 24 संदिग्ध मौत मामले में एबीपी न्यूज ने बड़ा खुलासा किया है. व्यापम घोटाले में मौतों की जांच कर रही सीबीआई ने क्लोजर रिपोर्ट में कहा है कि संदिग्धों की मौत किसी साजिश के तहत नहीं हुई है. यानी सीबीआई ने उन सभी मौतों का व्यापम से कनेक्शन खारिज किया है. सीबीआई ने ये रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में पेश कर दी है.


सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट अभी सुप्रीम कोर्ट में ही दाखिल हुई है. इसके बाद सीबीआई को अपनी रिपोर्ट में हर संदिग्ध मौत को व्यापम से संबंध खारिज करने के लिए सीबीआई की विशेष अदालत में पक्ष रखना होगा.


व्यापम घोटाले से जुड़ी संदिग्ध मौतों पर सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट कहती है कि 24 में से 10 लोगों ने जो संदिग्ध तौर पर सुसाइड किया, उनकी मौत की वजह कतई व्यापम घोटाला नहीं है. सीबीआई के मुताबिक, सुसाइड करने वालों ने या तो एकतरफा प्यार में जहर खाया. या फिर घरेलू तनाव के कारण फांसी के फंदे पर लटक गए.



मध्य प्रदेश के मुरैना में अपने ही घर में पंखे से लटककर 26 जुलाई को प्रवीण यादव नाम के एक शख्स ने खुदकुशी कर ली थी. प्रवीण पर व्यापम घोटाले के जरिए मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेने का आरोप था और पेशी से एक दिन पहले उसने यहां जान दे दी. हांलाकि प्रवीण यादव की संदिग्ध खुदकुशी की जांच अब तक सीबीआई के दायरे में नहीं आई है.


इस मामले में मध्य प्रदेश सरकार संदेह के घेरे में है. जिसकी बनाई एसटीएफ ने नौ संदिग्ध मौतों में बिना पोस्टमार्टम अपनी रिपोर्ट लगा दी. एसआईटी संदेह के घेरे में है, जिसकी निगरानी में जांच कर रही एसटीएफ की पड़ताल पर हमेशा सवाल उठते रहे. सीबीआई की जांच भी संदेह से परे नहीं, जिसने कई पोस्टमार्टम रिपोर्ट ना होने के बाद भी कह दिया कि मौत का व्यापम से संबंध नहीं.


तो क्या STF से लेकर CBI तक पर कोई राजनीतिक दबाव रहा, जो अधूरी जांच पर क्लोजर रिपोर्ट लगाई जा रही है. प्रवीण यादव के पिता, नरेंद्र तोमर की बहन, नम्रता डामोर के पिता, ऐसे हर उस परिवार को अब भी इंसाफ का इंतजार है, जो मानते हैं कि इनके अपनों की मौत के पीछे व्यापम घोटाले का वो चेहरा है, जिस तक हाथ ना पहुंचे, इसलिए जांच एजेंसी ने लीपापोती करके जांच के नाम पर केस का पिंडदान कर दिया है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आपको पता है? अगर बैंक लॉकर में रखा आपका बेशकीमती सामान चोरी हो गया तो बैंक नहीं करेगा भराई