बिहार के चंपारण से मोदी का विपक्ष पर हमला, कहा- 'सरकार के काम में रोड़े अटकाए जा रहे हैं'

बिहार के चंपारण से मोदी का विपक्ष पर हमला, कहा- 'सरकार के काम में रोड़े अटकाए जा रहे हैं'

प्रधानमंत्री ने कहा, ''मैं नीतीश जी के धैर्य और कुशल प्रशासन की तारीफ करना चाहता हूं. भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके द्वारा की जा रही उनकी कोशिशों को केंद्र सरकार को पूरा पूरा समर्थन है.''

By: | Updated: 10 Apr 2018 02:44 PM
Champaran Satyagraha, PM Modi address grand event in Bihar's Champaran

मोतिहारी: चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पूरे होने पर बिहार के मोतिहारी से पीएम मोदी ने विपक्ष पर बड़ा हमला किया है और आरोप लगाया कि विपक्ष सरकार के कामों में रोड़े अटका रहा है. इस मौके पर उन्होंने स्वच्छता अभियान को जन आंदोलन में बदलने का आह्वान किया. प्रधानमंत्री ने इस मौके पर 20 हजार स्वच्छाग्रहियों में से कई को सम्मानित किया.


इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने बिहार में 1186 करोड़ की 5 परियोजनाओं की नींव रखी. पिछले साल 10 अप्रैल 2017 को चंपारण सत्याग्रह समोहर शुरू किया गया था जिसका आज समापन हो गया.


आज इतिहास खुद को दोहरा रहा है: पीएम
प्रधानमंत्री ने कहा, ''जो लोग कहते हैं कि इतिहास खुद को दोहराता नहीं है. वो यहां आकर देख सकते हैं कि कैसे सौ वर्ष पहले का इतिहास आज भी साक्षात हमारे सामने मौजूद है. मेरे सामने वो स्वच्छाग्राही बैठे हैं जिनके भीतर गांधी के आचार, विचार और आदर्श का अंश जीवित है. मैं ऐसे सभी स्वच्छाग्राहियों के भीतर विराजमान महात्मा गांधी के उस अंश को शत शत प्रणाम करता हूं.''


अपने अधिकारी की तारीफ, कहा- वे खुद जाकर शौचालय साफ करते हैं
प्रधानमंत्री ने स्वच्छता कार्यक्रम में बेहतरीन काम के लिए अपने एक आईएएस अधिकारी की जमकर तारीफ की. प्रधानमंत्री ने कहा, ''आज मुझे जिस एक व्यक्ति के सम्मान करने का अवसर नहीं मिला लेकिन मेरा मन करता है. मैं आज प्रशासनिक मर्यादाओं को तोड़कर उस बात का जिक्र करना चाहूंगा. उनके नाम और काम की पहचान नहीं होती. वे परदे के सामने नहीं आ पाते. लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनके बारे में बताने का मन करता है''


प्रधानमंत्री ने कहा, ''केंद्र सरकार में हमारे सचिव परमेश्वरन अय्यर इस काम को देख रहे हैं. वे आईएएस की नौकरी छोड़कर अमेरिका चले गए थे. अमेरिका में सुख-चैन की जिंदगी गुजार रहे थे. सरकार बनने के बाद हमने आह्वान किया. मुझे खुशी है कि अमेरिका की शानदार जिंदगी छोड़कर वे भारत लौटे. मैंने उन्हें सरकार में लिया और स्वच्छाग्रह का काम दिया.’’


परमेश्वरन अय्यर की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, ''परमेश्वरन अय्यर जी खुद जगह-जगह जाकर शौचालय की सफाई करते हैं. आज परमेश्वरन जी जैसे मेरे साथी हों. हजारों स्वच्छाग्रही हों तो मेरा विश्वास दृढ़ हो जाता है कि बापू का सपना पूरा हो जाएगा.''


विपक्ष काम में रोड़े अटका रहा है: पीएम
प्रधानमंत्री ने कहा, 'स्वच्छता के बाद स्वास्थ्य के लिए काम करना है और आयुष्मान भारत ऐसी ही एक योजना है. लेकिन इससे दिक्त उन लोगों को हो रही है जो इस बदलाव को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं. वो गरीब को सश्कत होते नहीं देख पा रहे हैं. उन्हें लगता है कि गरीब अगर मजबूत हो गया तो झूठ नहीं बोल पाएंगे. इसलिए सड़क से लेकर संसद तक सरकार के काम में रोड़े अटकाए जा रहे हैं. सरकार जन जन को जोड़ने का काम रही है लेकिन विरोधी जन जन को तोड़ने का काम कर रहे हैं.''


विपक्ष पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ''चंपारण के लिए आज दो नई रेल परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया. मुजफ्फरपुर-सुगौली रेलवे लाइन दोहरीकरण किया जाएगा. इस अवसर पर एक नई ट्रेन का शुभारंभ करने का अवसर मिला है. ये ट्रेन कटिहार से पुरानी दिल्ली तक जाएगी. सरकार ने इसका नाम चंपारण हमसफर रखा है.''

प्रधानमंत्री ने कहा, ''आज मधेपुरा में मधेपुरा इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव फैक्ट्री का भी शुभारंभ किया गया है. यह फैक्ट्री दो कारणों से अहम है. पहला ये मेक इन इंडिया का उदाहरण है दूसरा इससे इस इलाके में रोजगार भी बढ़ेगा. इस फैक्ट्री में बने 12 हजार हॉर्स पॉवर वाले इंजन को हरी झंडी दिखाने का सौभाग्य मुझे मिला है.''


नीतीश कुमार की तारीफ की, कहा- केंद्र सरकार उनके साथ है
प्रधानमंत्री ने कहा, ''मैं नीतीश जी के धैर्य और कुशल प्रशासन की तारीफ करना चाहता हूं. भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके द्वारा की जा रही उनकी कोशिशों को केंद्र सरकार को पूरा पूरा समर्थन है.''

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Champaran Satyagraha, PM Modi address grand event in Bihar's Champaran
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story A To Z: क्या है महाभियोग और जज को कैसे पद से हटाया जा सकता है?