आठ लाख की घड़ी पहनने वाले मोदी के मंत्री हैं डिफॉल्टर!

By: | Last Updated: Friday, 17 July 2015 2:11 PM
chaudhary birender singh_

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह नहीं चुका रहे हैं हरियाणा विधानसभा से लिया गया चौबीस लाख का लोन. इस वजह से बीरेंद्र सिंह को विधानसभा ने डिफॉल्टर घोषित किया हुआ है. एक आरटीआई से खुलासा हुआ है कि कांग्रेस विधायक रहते हुए चौधरी बीरेंद्र सिंह ने हरियाणा विधानसभा के जरिये सस्ता लोन लिया था. 

 

उनपर होमलोन के 15 लाख 33 हजार रुपये और कार लोन के 8 लाख 90 हजार रुपये बकाया हैं जिसे वो नहीं चुका रहे हैं.

 

आपको बता दें कि आठ लाख की घड़ी पहनने वाले मोदी के मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह को हरियाणा विधानसभा ने लोन डिफॉल्टर घोषित कर रखा है. बीरेंद्र सिंह पर विधानसभा से लिए लोन का चौबीस लाख रुपये बकाया हैं. लोन डिफॉल्ट पर मंत्री जी खामोश हैं लेकिन उनकी पत्नी कह रही हैं कि लोन चुकाने के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं. धीरे-धीरे चुका देंगे.

 

अपनी अमीरी का बखान करते हुए मोदी के मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह को देश और दुनिया ने सुना था. यूपी के अमरोहा में किसानों के बीच बोलते हुए मंत्री जी ने बड़े गर्व से अपनी अमीरी का बखान किया था. लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि आठ लाख की घड़ी और अड़तालीस हजार के जूते पहनने वाले मंत्री जी को हरियाणा विधानसभा ने लोन डिफॉल्टर घोषित कर रखा है. चौंकाने वाला ये खुलास हुआ है RTI से. 

 

आरटीआई कार्यकर्ता नरेश कुमार की अर्जी पर पर हरियाणा विधानसभा ने ये जानकारी दी है. चौधरी बीरेंद्र सिंह के अलावा बारह ऐसे और विधायक हैं जिन्होंने विधानसभा के जरिये सस्ता लोन तो लिया लेकिन अब चुका नहीं रहे.

 

आठ लाख की घड़ी पहनने वाले मत्री जी लोन डिफॉल्ट को लेकर खुद तो चुप हैं लेकिन जब उनकी पत्नी से इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने विधानसभा को ही इसके लिए दोषी ठहरा दिया.

 

वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें-

 

मोदी के मंत्री जी डिफॉल्टर हैं!

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: chaudhary birender singh_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017