जानें क्या है छत्तीसगढ़ का चावल घोटाला?

By: | Last Updated: Saturday, 4 July 2015 5:53 PM
chawal ghotala_

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में राज्य खाद्य आपूर्ति निगम में हुए घोटाले की आंच अब मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह तक पहुंचने लगी है.  4 महीने से जारी एंटी करप्सन ब्यूरो और ईओडब्लू की छापेमार कार्रवाई में एक कथित डायरी के सामने आने के बाद इस पूरे मामले पर राजनीति तेज हो गई है. कांग्रेस ने आरोप लगाया है की डायरी में सीएम मैडम का उल्लेख है, जिससे यह साफ़ होता है की पैसा मुख्यमंत्री तक पहुंचता है. हालांकि इस कथित डायरी में सीएम मैडम के नाम की पुष्टि जांच एजेंसी नहीं कर रही है.

 

क्या है पूरा मामला

 

इस पूरे चावल घोटाले और कथित डायरी के बारे में समझने के लिए सबसे पहले आपको इस पूरे सिस्टम को समझना पड़ेगा. आपको बता दें की छत्तीसगढ़ राज्य खाद्य आपूर्ति निगम वह संस्था है जो राज्य में पीडीएस सिस्टम का संचालन करती है.  यह संस्था किसानो से धान खरीदती है, धान का मिलिंग करवाती है और इसके बाद राज्य के सरकारी गोदामों में चावल का सप्लाई करती है. इसके तहत ही गरीबों को चना, चावल मिट्टी का तेल चना दाल, सभी बांटा जाता है.  एंटी करप्सन ब्यूरो और ईओडब्लू ने 12 फरवरी को छत्तीसगढ़ राज्य खाद्य आपूर्ति निगम रायपुर मुख्यालय समेत करीब 12 अलग-अलग जिलों के ठिकानों में छापेमार करवाई की शुरुआत की .

 

इस कार्रवाई में कुल 25 अधिकारी दोषी पाये गए जिसमे से 16 अधिकारी-कर्मचारी को शाशन ने निलंबित कर दिया तो वहीँ 2 संविदा कर्मचारी को बर्खास्त किया गया. 25 अधिकारी-कर्मचारियों में से 10 के खिलाफ आय से अधिक सम्पति का मामला दर्ज किया गया है. वहीँ इस पूरे कार्रवाई में अबतक 6 करोड़ 38 लाख 73 हजार 540 रुपए नगद बरामद किये गए हैं. 

 

कांग्रेस विधायक कथित डायरी लेकर विधानसभा में कर चुके हैं प्रदर्शन

 

इस पूरे मामले पर नया मोड़ तब आया जब विधानसभा में कांग्रेस के 30 विधायक एक डायरी लेकर पहुँच गए. दरअसल कांग्रेस के विधायक जो कथित डायरी लेकर विधानसभा पहुंचे, उसमे सीएम मैडम के नाम का जिक्र है. डायरी में साफ़-साफ़ लिखा है की 3 लाख रुपए सीएम मैडम को दिया गया है. अब कांग्रेस इस कथित डायरी को सामने रखकर यह आरोप लगा रही है की छत्तीसगढ़ राज्य खाद्य आपूर्ति निगम में करोड़ों का घोटाला हुआ है, जिसका पैसा मुख्यमंत्री तक पहुंचा है.

 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल का कहना है की यदि मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री का नाम उस डायरी में नहीं है तो मुख्यमंत्री सदन के पटल में डायरी रखें. उनका आरोप है की छापामार करवाई के दौरान शिवशंकर भट्ट जो आपूर्ति निगम में प्रबंधक के पद पर था वो मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और बीजेपी सांसद रमेश बैस का पीए हुआ करता था.  इस पूरे घोटाले में शिवशंकर भट्ट मुख्य आरोपी है. कांग्रेस ने मुख्यमंत्री को चुनौती देते हुए कहा की अगर वो भ्रस्टाचार में शामिल नहीं हैं तो डायरी सार्वजनिक करें.

 

दो आईएएस अफसर अलोक शुक्ला और अनिल टुटेजा का नाम भी शामिल है इस घोटाले में अब तक कितने लोगों पर हो चुकी है चावल घोटाले में कार्रवाई छत्तीसगढ़ में चावल घोटाले मामले पर एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने 12 फरवरी को छापामार कार्रवाई के दौरान कुल 25 अधिकारी-कर्मचारी पर कार्रवाई की थी.

चावल घोटाले में शामिल 16 अधिकारी-कर्मचारी को निलंबित किया जा चुका है तो वहीँ 2 लोगों को नौकरी से बर्खास्त किया जा चुका है. जिसमे से 10 के खिलाफ अनुपातहीन संपत्ति के मामले अलग से दर्ज किये गए  है. एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने शुक्रवार को इसमें से 12 अधिकारी-कर्मचारी को आरोपी बनाकर कोर्ट में पेश किया है.  कोर्ट के सामने आरोपियों ने जमानत की अर्जी भी दी थी लेकिन कोर्ट ने जमानत देने से इंकार कर दिया.  और सभी आरोपियों को 15  दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

 

एसीबी द्वारा गिरफ्तार अधिकारियों-कर्मचारियों के नाम

 

प्रबंधक शिवशंकर भट्ट के अलावा निलंबित जिला प्रबंधक टीकमदास हरचंदानी, रायगढ़ में पदस्थ कनिष्ठ तकनीकी सहायक लक्ष्मीनारायण पटेल, जगदलपुर में पदस्थ कनिष्ठ तकनीकी सहायक सतीश कुमार कैवर्त्य, नान के बिलासपुर जिला प्रबंधक कौशल किशोर यदु, मुख्यालय में पदस्थ कंपनी सचिव संदीप अग्रवाल, स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन, बालोद के शाखा प्रबंधक दिलीप कुमार शर्मा, नान के सूरजपुर प्रभारी जिला प्रबंधक रविंद्रनाथ सिंह, संविदा पर नियुक्त सहायक प्रबंधक (तकनीकी) देवेंद्र सिंह कुशवाह, सहायक प्रबंधक (क्वालिटी कंट्रोल) रामफूल पाठक, नान के कांकेर जिला प्रबंधक अशोक सोनी , और मुख्यालय में पदस्थ एएओ सुधीर कुमार भोले शामिल हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: chawal ghotala_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017