महाराष्ट्र सदन घोटाला: भुजबल पहुंचे ED कार्यालय, क्या होगी गिरफ्तारी?

By: | Last Updated: Monday, 14 March 2016 12:37 PM
Chhagan Bhujbal arrives at ED office in Mumbai

नई दिल्ली/मुंबई : महाराष्ट्र सदन घोटाले के जांच के दायरे में घिरे महाराष्ट्र के पूर्व उप मुख्यमंत्री छगन भुजबल के मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही है. इस मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निर्देशालय ने छगन भुजबल को समन भेजकर सोमवार पूछताछ के लिए हाज़िर रहने को कहा था. भुजबल मुंबई स्थित ईडी कार्यालय पहुंच गए हैं. इससे पहले छगन भुजबल के भतीजे और इस मामले में सहा आरोपी समीर भुजबल को पूछताछ के लिए बुलाकर गिरफ्तार किया गया था. यही वजह है की इस पूछताछ ने छगन भुजबल पर भी गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है.

छगन भुजबल, उनके बेटे पंकज और भतीजे समीर पर आरोप है की उन्होंने दिल्ली महाराष्ट्र सदन बनाने का कॉन्ट्रैक्ट देने के लिए करोड़ों की रकम घूस के तौर पर ली. वहीँ इसके अलावा मुंबई का कालीन यूनिवर्सिटी लैंड स्कैम, अंधेरी आरटीओ, मुंबई-नासिक टोल रोड, नवी मुंबई का हेक्स वर्ल्ड हाऊसिंग प्रोजेक्ट जैसे अलग अलग 9 प्रोजेक्ट्स में अपने करीबियों को कॉन्ट्रैक्ट देकर करीब 870 करोड़ का घोटाला किया. इसी सिलसिले में समीर की गिरफ़्तारी और पंकज के पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय तीसरे मुख्य आरोपी छगन भुजबल से पहली बार पूछताछ कर रही है.

प्रवर्तन निर्देशालय ने 17 जून 2015 को छगन भुजबल और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ़ मनी लॉन्डरिंग एक्ट और फेमा के अंतर्गत दो एफआइआर दर्ज़ की थी. इसके बाद प्रवर्तन निर्देशालय ने भुजबल परिवार की मुंबई और नवी मुंबई में दो प्रॉपर्टी सील कर 114 करोड़ रिकवर किये. लेकिन, अब इस घोटाले के कई जानकारियां सामने आनी बाकी हैं.

इन्ही मामलों में महाराष्ट्र एंटी करप्शन डिपार्टमेंट ने भी छगन भुजबल, उनके परिवार के सदस्यों के साथ-साथ सरकारी अधिकारियों पर मामला दर्ज़ कर जांच शुरू की है. बीजेपी नेता किरीट सोमैया और आप की पूर्व नेता अंजलि दमानिया ने बॉम्बे हाई कोर्ट में पीआईएल दर्ज़ की जिसके अब एसीबी को जांच के आदेश दिए गए. आरोप लगाये गए हैं कि कांग्रेस-एनसीपी की सरकर में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर रहते समय छगन भुजबल ने करीबियों को कांट्रैक्ट देकर ना सिर्फ अपने बल्कि अपने परिवार के सदस्यों को भी करोड़ों का फायदा पहुँचाया.

फरवरी 2016 में एसीबी ने छगन भुजबल, उनके बेटे पंकज, भतीजे समीर समेत 14 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर की. इससे पहले साल 2009 में भी कैग की रिपोर्ट में ये कहा गया था कि पीडब्ल्यूडी मंत्री रहते हुए कांट्रैक्ट देते समय करोड़ों का घोटाला हुआ. लेकिन, भुजबल एसीबी और प्रवर्तन निर्देशयल की इस करवाई को राजनैतिक दबाव का परिणाम बता रहे हैं. भुजबल परिवार का कहना है की उनपर लगे आरोप बेबुनियाद हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Chhagan Bhujbal arrives at ED office in Mumbai
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017