चीन को चुभा युद्ध के लिए तैयार रहने वाले आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान

चीन को चुभा युद्ध के लिए तैयार रहने वाले आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान

शुआंग गेंग ने कहा, ‘‘दो दिन पहले ही, राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने संकेत दिया था कि दोनों देश एक दूसरे के लिए विकास के अवसर हैं, खतरा नहीं हैं.’’

By: | Updated: 07 Sep 2017 06:32 PM

बीजिंग: चीन ने गुरुवार को सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की. सेना प्रमुख ने कहा था कि बीजिंग, भारत के संयम की परीक्षा ले रहा है. चीन ने कहा कि यह बयान इस सप्ताह श्यामन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति शी चिनफिंग की ओर से व्यक्त किए गए विचारों के विरोधाभासी है. रावत ने नई दिल्ली में सेंटर फॉर लैंड वारफेयर स्टडीज की तरफ से आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा कि भारत को दो मोर्चों पर युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए क्योंकि चीन ने अपना दमखम दिखाना शुरू कर दिया है, वहीं पाकिस्तान के साथ सुलह की कोई गुंजाइश नहीं लगती.


 चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग का बयान


इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने एक ब्रीफिंग में कहा, ‘‘हमने भारत में संबंधित लोगों के बयान देखे हैं, हमने भारत की प्रेस में भी कुछ बयान देखे हैं. डोकलाम में दोनों देशों की सेनाओं के बीच 73 दिन तक बने रहे गतिरोध के समाप्त होने के बाद शी और मोदी की पहली मुलाकात में उनकी तरफ से व्यक्त विचारों का जिक्र करते हुए गेंग ने यह भी पूछा कि क्या रावत बोलने के लिए अधिकृत हैं और क्या उनके विचार भारत की सरकार के रुख का प्रतिनिधित्व करते हैं.


चीन और भारत महत्वपूर्ण पड़ोसी हैं: गेंग शुआंग


शुआंग ने कहा, ‘‘जैसा कि भारतीय प्रेस में खबरें आई हैं. हमें नहीं पता कि वह ऐसी बातें कहने के लिए अधिकृत हैं या नहीं, या ये केवल उनके स्वत: स्फूर्त बयान थे या उनकी बात भारत सरकार के रुख का प्रतिनिधित्व करती हैं.’’ चीन और भारत को महत्वपूर्ण पड़ोसी और दो बड़े देश बताते हुए गेंग ने कहा कि संबंधों का मजबूत और सतत विकास दोनों देशों के हितों को साधने वाला है. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय यही देखना चाहता है.


शुआंग गेंग ने कहा, ‘‘दो दिन पहले ही, राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने संकेत दिया था कि दोनों देश एक दूसरे के लिए विकास के अवसर हैं, खतरा नहीं हैं.’’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी कहा था कि भारतीय पक्ष द्विपक्षीय संबंधों के सतत विकास के लिए चीन के साथ काम करना चाह रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘हमें एक दूसरे को शत्रु नहीं मानना चाहिए. दोनों पक्षों को सीमावर्ती क्षेत्रों में अमन चैन बनाये रखने के लिए मिलकर काम करना चाहिए.’’ रावत के बयान के जवाब में गेंग ने कहा, ‘‘उम्मीद है कि ये सैन्य अधिकारी इस चलन को स्पष्ट तरीके से देखेंगे और चीन और भारत के संबंधों के विकास में योगदान देंगे.’’

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story बारह घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद लव और प्रिंस हुए अलग