चित्तूर एनकाउंटर: फर्जी होने का विवाद बढ़ा, ABP न्यूज से एनजीओ का दावा- बस से उतारकर मारा गया लोगों को

By: | Last Updated: Thursday, 9 April 2015 2:54 AM
Chittoor encounter: An NGO claims that 7 of 20 people who were shot dead were picked up from bus by police

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के चित्तूर एनकाउंटर में एक एनजीओ ने दावा किया कि पुलिस ने नगरी इलाके मे बस मे से सात लोगों को पहले हिरासत मे लिया उसके बाद उनका एनकाउंटर कर दिया गया.

 

सामाजिक कार्यकर्ता क्रांतिवीर ने एबीपी न्यूज़ से कहा, ”पुलिस ने गाड़ी से कुछ लोगों को उतारकर कस्टडी में लिया था. जो लोग मारे गए हैं उन्हें पहले ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. जिस गाड़ी से लोगों को गिरफ्तार किया गया है वो उसमें आठ लोग तिरूपति जा रहे थे जिसमें से एक बच गया है. पुलिस से बचे इस चश्मदीद ने ये बातें बताई हैं जो कि सबसे बड़ा सबूत है.”

 

क्रांतिवीर का कहना है कि वे इस पूरे मामले को मानवाधिकार आयोग के सामने रखेंगे औऱ गवाह को भी पेश करेंगे.

 

शेशाचलम के जंगलों में 20 चंदन तस्करों के एनकाउंटर के विरोध में चित्तूर से लेकर चेन्नई तक विरोध -प्रदर्शन हो रहे हैं. एनकाउंटर में मारे गए 12 लोग तमिलनाडु के रहनेवाले थे. इस एनकाउंटर को लेकर राजनीति  गरमाई हुई है. DMK, MDMK और PMK ने घटना की निष्पक्ष जांच की मांग की है.

 

तमिलनाडु के सीएम पनीरसेल्वम ने लिखी आंध्र के सीएम नायडू को चिट्ठी, मानवाधिकार आयोग ने भी आंध्र प्रदेश के मुख्य सचिव और डीजीपी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. 

 

20 तस्करों की मुठभेड़ में मारे जाने की घटना के एक दिन बाद बुधवार को केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से इस मामले की रपट मांगी है.

 

पुलिस ने फुटेज जारी किया

आंध्र प्रदेश के चित्तूर एनकाउंटर पर उठ रहे सवालों के बीच – पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज जारी किया है, जिसमें चंदन काट रहे लोगों के दिखने का दावा किया गया है.

 

आंध्र प्रदेश पुलिस ने चंदन की लकड़ी की स्मगलिंग के आरोप में जिन 20 लोगों को मार गिराया था, तमिल नाडु सरकार ने उनके परिवारवालों को 3-3 लाख मुआवजे की घोषणा कर दी है.

 

लाल चंदन के 20 तस्करों के मारे जाने के बाद आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सोमवार की रात इस घटना को लेकर गृहमंत्री से बातचीत की थी. उन्होंने कहा, “आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कल (मंगलवार) गृह मंत्री से बातचीत की. मंत्रालय ने राज्य सरकार को घटना की विस्तृत रपट देने के लिए कहा है.”

 

सामूहिक तौर पर 20 लोगों के मारे जाने के बाद तमिलनाडु में खासा बवाल मचा, क्योंकि मारे गए अधिकांश लोग तमिलनाडु के थे. इस घटना की स्वतंत्र जांच की भी मांग की गई.

 

इस घटना पर तमिलनाडु सरकार व प्रदेश की राजनीतिक पार्टियों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी, क्योंकि मृतकों में 12 तमिलनाडु के तिरूवन्नामलाई तथा वेल्लोर जिले के थे और वे आंध्रप्रदेश के जंगल में लाल चंदन के पेड़ काटने व दुर्लभ चंदन की लकड़ियों को ले जाने के लिए गए थे. उनमें से अधिकांश गरीब जनजाति समुदाय के लोग थे.

 

आंध्रप्रदेश उच्च न्यायालय ने मांगे मारे गए लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट

मानवाधिकारों के लिए आवाज उठाने वाले एक समूह ने तिरूपति के जंगल में आंध्रप्रदेश पुलिस द्वारा 20 कथित चंदन तस्करों को मार गिराने के मुद्दे पर हैदराबाद उच्च न्यायालय का दरवाजा यह कहते हुए खटखटाया कि यह ‘‘मुठभेड़ नहीं, हत्या थी.’’ इस बीच उच्च न्यायालय ने राज्य पुलिस प्रमुख से शवों के पोस्टमार्टम के लिए उठाए गए कदमों के बारे में 10 अप्रैल तक एक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है.

 

मुख्य न्यायमूर्ति कल्याण ज्योति सेनगुप्ता और न्यायमूर्ति पी वी संजय कुमार की खंड पीठ ने आंध्रप्रदेश के डीजीपी से मृतकों की पहचान करने, उनके शवों के पोस्टमार्टम के लिए तथा मृतकों के शव उनके परिजनों को सौंपने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में एक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा.

 

अतिरिक्त महाधिवक्ता डी श्रीनिवास ने अदालत को बताया कि आवश्यक कानूनी प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है. पीठ एक मानवाधिकार समूह की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें आरोप लगाया गया है कि सेषाचलम की पहाड़ियों पर लाल चंदन की तस्करी में कथित तौर पर लिप्त 20 लोगों की हत्या हुई है, न कि वे लोग मुठभेड़ में मारे गए हैं.

 

अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 10 अप्रैल को नियत की है. आंध्रप्रदेश पुलिस के अनुसार, पुलिस के एक कार्य बल तथा वन विभाग के अधिकारियों ने संयुक्त तलाशी अभियान के दौरान 200 से अधिक लोगों को लाल चंदन के पेड़ काटते देखा. आत्म समर्पण के लिए कहने पर इन लोगों ने पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों पर हमला कर दिया जिससे छह पुलिस कर्मी घायल हो गए. आंध्रप्रदेश पुलिस का कहना है कि उसने आत्मरक्षा के लिए गोलियां चलाई.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Chittoor encounter: An NGO claims that 7 of 20 people who were shot dead were picked up from bus by police
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017