1984 दंगे: सीबीआई ने टाइटलर को दी क्लीनचिट

By: | Last Updated: Wednesday, 25 March 2015 2:50 PM
Clean chit to Congress leader Jagdish Tytler in 1984 riots case

नई दिल्ली: सीबीआई ने 1984 के सिख विरोधी दंगों के सिलसिले में वरिष्ठ कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर के खिलाफ एक मामले में अदालत में तीसरी बार ‘क्लोजर’ रिपोर्ट दाखिल की है. इस मामले में अदालत ने आज पीड़ित को नोटिस जारी किया. पीड़ित के वकील ने जांच एजेंसी द्वारा मामला बंद करने संबंधी रिपोर्ट दाखिल किए जाने का विरोध करते हुये सवाल किया कि क्यों यह ‘गोपनीय’ तरीके से किया गया.

 

सीबीआई ने कहा कि एक सत्र अदालत के निर्देश पर उसने मामले में और जांच की और इसे बंद करने के लिये रिपोर्ट दाखिल की है. अप्रैल 2013 में एक सत्र अदालत ने मामला बंद करने के लिये दाखिल सीबीआई की रिपोर्ट खारिज करते हुए इसमें और जांच करने का निर्देश दिया था. सीबीआई पहले भी मामले को बंद करते हुए टाइटलर को दो बार क्लीन चिट दे चुकी है.

 

सीबीआई की मामला बंद करने संबंधी नवीनतम रिपोर्ट मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष दाखिल की गय. उन्होंने बाद में इसे अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट (एसीएमएम) सौरभ प्रताप सिंह के पास भेज दिया. एसीएमएम ने पीड़ित और शिकायतकर्ता लखविंदर कौर को 27 मार्च के लिए नोटिस जारी किया. कौर के पति बादल सिंह 1984 के दंगों में मारे गए थे.

 

अदालत ने कहा कि रिकॉर्ड पर गौर करने से पता लगता है कि आरोपी जगदीश टाइटलर के संबंध में पहले भी मामला रद्द करने की रिपोर्ट दाखिल की गयी थी. एसीएमएम ने कहा, ‘‘सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर मौजूदा क्लोजर रिपोर्ट के आलोक में लखविंदर कौर को अदालती नोटिस जारी किया जाए…27 मार्च के लिए.’’

 

दंगा पीड़ितों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता एच एस फुल्का ने सीबीआई द्वारा मामला बंद करने के लिये रिपोर्ट दाखिल करने पर अप्रसन्नता जतायी. उन्होंने कहा, ‘‘यह गोपनीय तरीके से क्यों किया जा रहा है? यहां तक कि शिकायतकर्ता को भी इसके बारे में सूचना नहीं दी गयी है. इसे गोपनीय तरीके से दाखिल किया गया है. इससे पता लगता है कि प्रयास किया गया है कि अदालत गोपनीय तरीके से मामला बंद करने संबंधी रिपोर्ट स्वीकार कर ले.’’

 

उन्होंने कहा कि मामला बंद करने के लिये यह रिपोर्ट 24 दिसंबर 2014 को दाखिल की गयी थी और उन्हें इस संबंध में आज ही जानकारी मिली और वह भी अनधिकृत रूप से एक अन्य वकील के जरिए. उन्होंने कहा कि पीड़ित को अब तक इसकी सूचना नहीं है. सत्र अदालत ने 10 अप्रैल 2013 को सीबीआई की मामला बंद करने की रिपोर्ट को दरकिनार कर दिया था जिसमें टाइटलर को क्लीन चिट दी गयी थी. अदालत ने तीन लोगों की हत्या के मामले में फिर से जांच का आदेश दिया था.

 

अदालत ने सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह उन गवाहों के बयान भी दर्ज करे जिनके बारे में जांच के दौरान जानकारी मिली और जिन्होंने घटना का चश्मदीद गवाह होने का दावा किया था. अदालत ने कहा था कि अमेरिका में रह रहे उन तीन लोगों का बयान दर्ज करना सीबीआई का ‘दायित्व’ है जिनके नामों का जिक्र एक चश्मदीद गवाह ने किया था. गवाह का दावा था कि वे तीनों भी घटनास्थल पर मौजूद थे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Clean chit to Congress leader Jagdish Tytler in 1984 riots case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017