बिहार में अगले सीएम के लिए नीतीश का नाम उछाले जाने पर लालू की पार्टी गरम

By: | Last Updated: Thursday, 7 August 2014 3:33 AM
cm_nitish_kumar

नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा है कि अगले साल अगर जेडीयू-आरजेडी गठबंधन को बहुमत मिला तो नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री होंगे.

 

जीतन राम मांझी के इस बयान को लेकर गठबंधन में विवाद हो सकता है क्योंकि गठबंधन में नेता को लेकर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है. लालू की पार्टी से राबड़ी देवी भी मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार रह चुकी हैं इसलिए गठबंधन में नीतीश के नाम पर मुहर लग जाएगी ये अभी नहीं कहा जा सकता. क्या नीतीश के नाम पर मानेंगे लालू, ये बड़ा सवाल है.

 

वहीं सीएम जीतन राम मांझई के बयान पर आरजेडी ने आपत्ति जताई है. आरजेडी प्रवक्ता मनोज झा ने एबीपी न्यूज़ से कहा, ”इस तरह की टिप्पणी से गठबंधन की वैचारिक मजबूती प्रभावित होगी और अभी इस तरह की टिप्पणी करना अपरिपक्वता है. यह बयान गठबंधन के लिए ठीक नहीं है. ”

 

जेडीयू प्रवक्ता अजय आलोक का कहना है कि, ”सीएम जीतन राम मांझी ने कुछ गलत नहीं कहा है और इसे लेकर कोई विवाद नहीं होगा.”

 

अभी बिहार में दस सीटों पर जो उपचुनाव हो रहे हैं उसमें लालू नीतीश और कांग्रेस का गठबंधन है. लालू और नीतीश की पार्टी 4-4 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.

 

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद नीतीश की पार्टी में विद्रोह की नौबत आ गई थी. दो दर्जन विधायक बागी हो गए थे.

 

जीतन राम मांझी सरकार को बचाने के लिए लालू ने बिना शर्त समर्थन देकर दोस्ती का पहला दांव चला. इसके बाद राज्यसभा चुनाव में जब नीतीश कुमार के उम्मीदवार की जीत खतरे में थी तब भी लालू ने आगे आकर नीतीश के उम्मीदवारों का समर्थन किया था. इसके बाद ताजा राजनीतिक हालात में बीजेपी के बढते असर को रोकने के लिए दोनों दल एक साथ आने को मजबूर हो गये  लोकसभा चुनाव में नीतीश को दो सीटें मिली और लालू की पार्टी को चार सीटें मिलीं.