पाकिस्तानी बोट उड़ा दो, मैं बिरयानी नहीं खिलाना चाहता हूं: डीआईजी

By: | Last Updated: Wednesday, 18 February 2015 7:27 AM
Coast Guard DIG

नई दिल्ली: इंडियन एक्सप्रेस में आज खबर छपी है कि कोस्टगार्ड के डीआईजी बीके लोशाली ने पाकिस्तान की बोट को पोरबंदर के समंदर में उड़ाने का आदेश दिया था. ये भी छपा कि लोशाली ने कहा कि वह पाकिस्तानियों को बिरयानी नहीं खिलाना चाहते थे. अब लोशाली ने कहा है कि उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है. पाकिस्तान की बोट में जो विस्फोट हुआ वो कोस्टगार्ड ने नहीं किया था. तोगाशी की सफाई के फौरन इंडियन एक्सप्रेस ने तोगाशी के भाषण का वीडियो जारी कर दिया है जिसमें तोगाशी कह रहे हैं कि विस्फोट का आदेश उन्होंने दिया था.

 

पिछले साल 31 दिसंबर की रात पाकिस्तानी नाव में हुए धमाके को लेकर एक नया मोड़ आ गया है. इसे लेकर कोस्ट गार्ड डीआईजी ने रक्षा मंत्रालय के दावे से अलग बयान दिया है. पाकिस्तानी बोट उड़ाने के उनके बयान उठा यह विवाद सरकार के लिए गले की हड्डी बन सकता है.

 

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक डीआईजी बी के लोशाली ने दावा किया था कि उन्होंने ही पाकिस्तान की बोट को उड़ा देने का आदेश दिया था क्योंकि वो बोट पर सवार पाकिस्तानियों को बिरयानी नहीं खिलाना चाहते थे. कोस्टगार्ड के डीआईजी लोशाली का दावा इसलिए विस्फोटक है क्योंकि पाकिस्तानी बोट के बारे में सरकार ने कुछ और कहानी सुनाई थी. भारत सरकार ने ये कहा था कि बोट पर पाकिस्तानियों ने खुद ही विस्फोट किया था.

 

लोशाली डीआईजी के साथ कोस्ट गार्ड के चीफ ऑफ स्टाफ नार्थ वेस्ट रिजन भी हैं. इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि जलते हुए बोट के वीडियो टेप को देखकर नहीं लगा कि उस पर विस्फोटक रहा होगा. लोशाली ने कोस्टगार्ड और एल एंड टी कंपनी के सीनियर अफसरों की मौजूदगी में ये खुलासा किया. मौका था इंटरसेप्टर बोट के लॉन्च का जिसे एल एंड टी ने बनाया है. ये खुलासा करते हुए लोशाली ने ये भी कहा कि मुझे लिखी हुई स्पीच दी गई थी लेकिन मैं मन की बात करूंगा.

 

2 जनवरी को रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि पाकिस्तानी बोट को कोस्ट गार्ड ने रूकने को कहा था कि लेकिन बोट ने स्पीड बढ़ा ली और भारतीय समंदर की सीमा से भागने की कोशिश करने लगा था. कोस्ट गार्ड ने डेढ घंटे बाद फायरिंग के बाद उसे रोका था. फिर बोट में धमाका हुआ था.