क्या कांग्रेस हिट एंड रन करती है?

By: | Last Updated: Monday, 10 August 2015 12:33 PM
congress

नई दिल्ली: सदन के दोनों सदनों की कार्यवाही आज भी नहीं चल सकी कांग्रेस अभी भी अपनी मांग पर अड़ी है. राहुल गांधी ने आज कहा, ”कांग्रेस तभी संसद में कामकाज चलाने की अनुमति देगी जब सुषमा स्वराज आईपीएल के पूर्व आयुक्त ललित मोदी के साथ अपने वित्तीय लेनदेन का खुलासा करेंगी.”

 

सदन के बाहर राहुल गांधी सदन चलने की शर्त बता रहे हैं और सदन के अंदर हंगामा करके कांग्रेस कार्यवाही नहीं चलने दे रही है. सुषमा के सवाल पर फिर से हंगामा हुआ और फिर ठप हो गई संसद की कार्यवाही. सरकार कह रही है कि कांग्रेस हिट एंड रन के फॉर्मूले पर काम कर रही है

 

बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी का कहना है, ”वो केवल सुनाना चाहते हैं सुनना नहीं चाहते, इस तरह की सनक देश के लोकतांत्रिक और संसदीय इतिहास की पहली घटना है.”

 

हिट एंड रन का मतलब होता है हमला करना और भाग जाना. वित्त मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि जब विपक्षी सांसद बोलते हैं तो सदन उनकी बात सुनता है. लेकिन जब सरकार के जवाब की बारी आती है तो हंगामा शुरू हो जाता है.

 

जेटली आरोप लगा रहे हैं कि सिर्फ दो नेताओं की वजह से ही संसद ठप है. हालांकि सरकार ने विपक्षी खेमे में सेंधमारी शुरू कर दी है. मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि कांग्रेस अगर चर्चा नहीं होने देगी तो वो साथ नहीं देंगे.

 

इससे पहले लोकसभा की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सुषमा स्वराज और ललित मोदी पर कारोबारी रिश्ते का आरोप लगा दिया. संसद के दोनों सदनों में जिस वक्त हंगामा हो रहा था तब भूटान का संसदीय प्रतिनिधिमंडल सदन की कार्यवाही देखने पहुंचा था. लेकिन हंगामा होता रहा.

 

हंगामे की वजह से जीएसटी और जमीन अधिग्रहण जैसे अहम बिल अटके पड़े हैं. रोजाना साढ़े बारह करोड़ रुपये कार्यवाही का खर्च आता है और अगर इसी तरह संसद का काम ठप रहेगा तो जनता की गाढ़ी कमाई को 260 करोड़ रुपये बर्बाद हो जाएंगे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: congress
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017