हार से बीजेपी को भविष्य में मिलने वाली शिकस्त भांप लेनी चाहिए: जाखड़

हार से बीजेपी को भविष्य में मिलने वाली शिकस्त भांप लेनी चाहिए: जाखड़

एक सवाल के जवाब में जाखड़ ने कहा कि सुखबीर बादल और अकाली दल के अन्य नेता शुरू से ही कह रहे थे कि गुरदासपुर उपचुनाव, छह महीने पुरानी कांग्रेस सरकार पर एक जनमत संग्रह होगा.

By: | Updated: 15 Oct 2017 06:06 PM

गुरदासपुर/ चंडीगढ़: गुरदासपुर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा के प्रत्याशी को हराने के बाद कांग्रेस के नेता सुनील जाखड़ ने आज कहा कि भगवा पार्टी को अब भविष्य में मिलने वाली असफलताओं को भांप लेना चाहिए.


एक निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने भाजपा के अपने करीबी प्रतिद्दंदी स्वर्ण सलारिया को 1,93,219 मतों के अंतर से हराया है.


जाखड़ ने अपनी जीत के बाद कहा, “ भाजपा को अब भविष्य में मिलने वाली असफलताओं का अनुमान लगा लेना चाहिए.”


उन्होंने कहा, “लोगों ने भाजपा को खारिज किया है और साथ ही अकाली (उनके सहयोगी) को भी आईना दिखाया है.”


उन्होंने कहा कि अकाली दल का सफाया छह महीने पहले ही हो गया था जब पंजाब विधानसभा चुनावों में उन्हें तीसरा स्थान मिला था.


जाखड़ ने कहा, “अब, मेरे ख्याल से इससे (गुरदासपुर में कांग्रेस की जीत) शिरोमणि अकाली दल के पतन की शुरुआत हो चुकी है क्योंकि पिछले छह महीने से किसी ने भी प्रकाश सिंह बादल को नहीं देखा है. सुखबीर सिंह बादल के नेतृत्व वाली नई सरकार टूटने के कगार पर है. मेरे विचार से पूरी पार्टी में नए नेतृत्व के तहत सुधार किया जाएगा.”


एक सवाल के जवाब में जाखड़ ने कहा कि सुखबीर बादल और अकाली दल के अन्य नेता शुरू से ही कह रहे थे कि गुरदासपुर उपचुनाव, छह महीने पुरानी कांग्रेस सरकार पर एक जनमत संग्रह होगा.


जाखड़ ने कहा “अब, सुखबीर को अपने शब्दों पर अफसोस होगा. अब अकाली के लोग कहां जाएंगे और कहां अपना चेहरा छिपाएंगे, लोगों ने अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में फिर से भरोसा दिखाया है और साथ ही नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया है.” गुरदासपुर में इस जीत के बाद कांग्रेस कार्यकर्ता ‘लड्डू’ बांटकर जश्न मना रहे हैं जबकि कुछ कार्यकर्ताओं को झूमते हुए देखा जा सकता है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story कभी मटके में जाता था टीकाकरण का वैक्सीन