गुजरात स्थानीय निकाय चुनाव कांग्रेस के लिए हार के बावजूद जीत : शिवसेना

By: | Last Updated: Friday, 4 December 2015 7:31 AM
”congress won despite losing gujarat civic polls”

फाइल फोटो

मुंबई: राजग के सहयोगी दल शिवसेना ने गुजरात स्थानीय निकाय के चुनावी नतीजों को ‘‘कांग्रेस के लिए हार के बावजूद जीत’’करार दिया है.  शिवसेना ने आज कहा कि ये नतीजे दिखाते हैं कि गुजरात की जनता पूरी तरह से प्रधानमंत्री के पीछे नहीं खड़ी है और भाजपा को यह आकलन करना चाहिए कि नरेंद्र मोदी की ‘होमपिच’ (गृह राज्य) में आखिर ये ‘‘खतरे की घंटियां’’ बजनी क्यों शुरू हो गई हैं?

 

शिवसेना ने यह भी कहा कि इस बात का अध्ययन किया जाना चाहिए कि जब राज्य विकास के मामलों में अपने ‘नंबर वन’ होने का दावा करता है तो भाजपा राज्य के ग्रामीण इलाकों में हार क्यों गई? शिवसेना ने कहा कि 20 साल तक सत्ता से बाहर रहने वाली कांग्रेस ने गुजरात के ग्रामीण इलाकों में शानदार वापसी की है, जहां यह 31 जिला पंचायतों में से 21 और 230 तालूका पंचायतों में से लगभग 110 में जीती है. जबकि भाजपा सभी छह नगर निगमों और 56 नगरपालिकाओं में से 40 में जीतकर शहरी इलाकों पर अपनी पकड़ बनाए रखने में कामयाब रही है.

 

बिहार विधानसभा चुनावों में हारने के बाद भाजपा को अब गुजरात के ग्रामीण इलाकों के स्थानीय निकायों में हार का सामना करना पड़ा है. यह हार एक ऐसे समय हुई है, जब राज्य में 12 साल तक शासन कर चुके नरेंद्र मोदी को दिल्ली गए हुए एक साल से ज्यादा हो गया है.

 

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में छपे संपादकीय में कहा गया, ‘‘निकाय चुनावों के नतीजे यही दिखाते हैं कि गुजरात की जनता पूरी तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पीछे नहीं खड़ी है. हालांकि भाजपा सभी छह नगर निगमों में जीती है लेकिन कोई यह नहीं कह सकता कि कांग्रेस हार गई है.’’

 

 संपादकीय में कहा गया, ‘‘नगर निगमों पर भाजपा का शासन होगा और जिला परिषदों पर कांग्रेस का. संक्षेप में कहें तो कांग्रेस इस चुनाव में हारने के बावजूद जीत गई है. भाजपा को अब यह आंकने की जरूरत है कि नरेंद्र मोदी की ‘होमपिच’ पर खतरे की घंटियां बजनी क्यों शुरू हो गई हैं?’’

 

सत्तारूढ़ गठबंधन के सहयोगी दल ने यह भी कहा कि बिहार विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को एक नया जीवन मिलना ठीक है लेकिन मोदी के गृह राज्य में पार्टी के द्वारा अच्छा प्रदर्शन किया जाना भारी चिंता का विषय है.

 

शिवसेना ने कहा, ‘‘यह अध्ययन कराए जाने की जरूरत है कि यदि विकास के मामले में नंबर वन राज्य के रूप में पेश की जा रही गुजरात की तस्वीर सच्ची है तो फिर ग्रामीण इलाकों में लोग भाजपा के खिलाफ क्यों हो गए?’’

 

शिवसेना ने कहा, ‘‘लोकतंत्र में मतदाता सवोच्च होता है और इसने बड़े-बड़े नेताओं को उनका स्थान दिखा दिया है. प्रधानमंत्री ने कांग्रेस-मुक्त भारत का नारा दिया था लेकिन बिहार के बाद कांग्रेस अब गुजरात में भी बढ़ी रही है.’’ संपादकीय में कहा गया, ‘‘इन नतीजों ने कांग्रेस को खुश होने का मौका दे दिया है.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ”congress won despite losing gujarat civic polls”
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017