ललितगेट: कांग्रेस ने जारी किए ललित मोदी के लिए वसुंधरा राजे की गवाही के दस्तावेज

By: | Last Updated: Thursday, 25 June 2015 1:41 AM

नई दिल्ली: राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का इस्तीफा मांगते हुए कांग्रेस ने आज उनके खिलाफ हमला तेज किया और उन पर ललित मोदी विवाद में बार बार झूठ बोलने का आरोप लगाया.

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने एआईसीसी ब्रीफिंग में संवाददाताओं से कहा, ‘‘पर्दे उठ गये हैं और राज खुल गया है. वसुंधरा राजे के हस्ताक्षर से 18 अगस्त, 2011 को ब्रिटिश सरकार के सामने ललित मोदी के आव्रजन मामले का समर्थन करने वाला दस्तावेज सामने आ गया है. पहली बार जब मामला सामने आया था तो उन्होंने अज्ञानता प्रकट की थी और फिर कहा कि उन्हें याद नहीं है.’’ रमेश उन खबरों के संदर्भ में बात कर रहे थे जिसमें कथित तौर पर वसुंधरा राजे के हस्ताक्षर वाला एक दस्तावेज सामने आया है जिसमें उन्होंने कथित रूप से ब्रिटेन में पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी के आव्रजन का समर्थन किया था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा हमेशा से कहती रही है कि अगर उनके हस्ताक्षर से जारी कागजात पेश किये जाएं तो वह दोषी हैं. और किसी सबूत की जरूरत नहीं है. वसुंधरा राजे पूरी तरह बेनकाब हो गयी हैं.’’ रमेश ने कहा कि कांग्रेस तत्काल उनके इस्तीफे की मांग करती है क्योंकि उन्होंने आईपीसी, भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम, पीएमएलए और पासपोर्ट अधिनियम समेत चार कानूनों को तोड़ा है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें फौरन इस्तीफा दे देना चाहिए. इसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के इस्तीफे होने चाहिए.’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर निशाना साधते हुए रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री जानते हैं कि उनके लिए तीन मंत्रियों के इस्तीफे मांगना मुश्किल होगा.

 

रमेश ने कहा, ‘‘भ्रष्टाचार के प्रति कतई बर्दाश्त नहीं करने के रख की वकालत करने वाली सरकार को तत्काल उनका इस्तीफा मांगना चाहिए. एक साल पहले इन मुद्दों पर बहुत कुछ बोलने वाले प्रधानमंत्री चुप हो गये हैं और आवरण में बंद हो गये हैं.’’ कांग्रेस नेता ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘भाजपा को ब्रेजन (बेशर्म) जनता पार्टी बोलना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि तीनों नेताओं के इस्तीफे की मांग से समझौता नहीं हो सकता.

 

रमेश ने बुधवार को कहा कि आज रात के बाद वसुंधरा राजे का राजस्थान की मुख्यमंत्री बने रहना ‘अनैतिक’ होगा. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर संघर्ष संसद के अंदर और बाहर दोनों जगह जारी रहेगा.

 

कांग्रेस नेता ने 21 बिंदुओं वाले सात पन्नों के दस्तावेज को दिखाते हुए कहा, ‘‘स्वतंत्र भारत में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ जब किसी पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष ने किसी भगोड़े का समर्थन किया हो.’’ उन्होंने कहा कि भगोड़े शब्द का इस्तेमाल और किसी ने नहीं, बल्कि भाजपा सांसद और पूर्व गृह सचिव आर के सिंह ने किया है.

 

रमेश ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री पारदर्शिता और जवाबदेही के स्वघोषित झंडाबरदार हैं, एक ऐसे शख्स जो एक साल पहले किसी मुद्दे पर बोलते नहीं थकते थे. इस पर उन्हें क्या कहना है? उन्हें पक्के सबूत मिल गये हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह जाली दस्तखत नहीं है. यह असली हस्ताक्षर हैं. राजस्थान की मुख्यमंत्री ने ब्रिटिश सरकार से कहा कि एक भगोड़े, कानून तोड़ने वाले को वहां रकने की इजाजत मिलनी चाहिए. मैं इसे अजीब, असमर्थनीय और राष्ट्रविरोधी मानता हूं.’’ रमेश ने कहा, ‘‘मैं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को बताना चाहता हूं कि दस्तावेज पर जाली दस्तखत नहीं हैं. प्रधानमंत्री के सामने केवल एक विकल्प है. राजस्थान की मुख्यमंत्री को फौरन इस्तीफा देना चाहिए.’’ उन्होंने कहा कि सवाल यह नहीं है कि वह इस्तीफा देंगी या नहीं, बल्कि प्रश्न यह उठता है कि वह कब इस्तीफा देंगी. आज रात को देंगी या कल सुबह.

 

रमेश ने कहा, ‘‘उन्हें (राजे को) तत्काल इस्तीफा देना चाहिए. इसके बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी का इस्तीफा आना चाहिए.’’ यह साफ करते हुए कि कांग्रेस इस मामले पर चैन से नहीं बैठेगी रमेश ने कहा कि इन तीन नेताओं के इस्तीफे की मांग पर कोई समझौता नहीं हो सकता.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा संघर्ष संसद के भीतर और बाहर जारी रहेगा.’’ माकपा की वरिष्ठ नेता बृंदा करात ने कहा, ‘‘राजे को एक सेकंड के लिए भी पद पर रहने नहीं दिया जा सकता.’’ उन्होंने कहा, ‘‘नरेन्द्र मोदी और अमित शाह सहित यह भाजपा के शीर्ष नेताओं की जिम्मेदारी है कि वह तत्काल कार्रवाई करें और उनसे इस्तीफा लें क्योंकि यह साफ है कि वह इस्तीफा देने वाली नहीं हैं.’’ करात ने कहा, ‘‘पहली बार तथ्य सामने आने पर उन्होंने सबसे पहले झूठ बोला. वह जानती हैं कि क्या करना चाहिए, लेकिन इस उम्मीद में सबकी आंखों में धूल झौंकने की कोशिश कर रही हैं कि सच सामने नहीं आएगा. अब उनके सामने इस्तीफा देने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है.’’

 

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और राजे के पुराने प्रतिद्वंद्वी अशोक गहलोत ने कहा, ‘‘असली चरित्र सामने आ गया है और किस तरह का पत्र लिखा गया है. हवाला के जरिए धन का भी स्थानांतरण हुआ है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘खुला भ्रष्टाचार हुआ है और अगर काला धन वापस लाने का वसुंधरा का तरीका सही है तो अरूण जेटली का तरीका नाकाम हो गया है. नरेन्द्र मोदी के लिए यह परीक्षा की घड़ी है और हम उनके कदम का इंतजार कर रहे हैं.’’

 

दस्तावेज किया जारी

कांग्रेस का दावा है कि ये राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के दस्तखत हैं जो उन्होंने आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी के लिए 2011 में किए थे.

 

अब तक बीजेपी ये कहते हुए वसुंधरा का बचाव कर रही थी कि जो कागज मीडिया में लीक किए गए थे उनमें वसुंधरा के हस्ताक्षर नहीं है. इसलिए उसकी सत्यता पर संदेह था. लेकिन अब कांग्रेस जो दस्तावेज सामने लेकर आई है उसमें दस्तखत साफ दिख रहे हैं.

 

आपको बता दें कि इसी दस्तावेज की बदौलत ललित मोदी को ब्रिटेन में रहने की इजाजत मिली थी.

 

 

क्या है ललित मोदी कांड?

आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी ने आखिर ऐसा क्या किया था जो उनकी मदद के लिए सुषमा स्वराज और वसुंधरा राजे के इस्तीफे की मांग हो रही है. इसे कुछ बिंदुओं की मदद से समझने की कोशिश करते हैं-

 

दरअसल 11 April 2010 को आईपीएल के दौरान ललित मोदी ने तब के केंद्रीय राज्य मंत्री शशि थरूर पर आरोप लगाए.

 

आपको बता दें कि थरूर की तब की दोस्त सुनंदा पुष्कर की कोच्चि IPL टीम में स्वेट एक्विटी निकली थी.

 

14 मई 2010 को आईपीएल में पैसों की गड़बड़ी के आरोपों के बाद ललित मोदी लंदन भाग गए.

 

ललित मोदी ने तब आरोप लगाया कि यूपीए सरकार ने सुरक्षा वापस ले ली है और वो डी कंपनी के निशाने पर हैं.

 

4 मार्च 2011 को भारत सरकार ने ललित मोदी का पासपोर्ट जब्त किया क्योंकि ED समन के बावजूद वो खुद पेश नहीं हुए

4 अगस्त 2014 को ललित मोदी पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में पाए गए जबकि उनका पासपोर्ट जब्त किया जा चुका था.

 

27 अगस्त 2014 को दिल्ली हाईकोर्ट ने पासपोर्ट जब्त करने को गलत बताया.

 

7 जून 2015 को Sunday Times ने खुलासा किया कि ब्रिटिश सांसद कीथ वाज और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ललित मोदी को ब्रिटेन से बाहर जाने में मदद की.

 

खुलासा ये भी हुआ कि साल 2011 में  ललित मोदी को लंदन में रहने देने के लिए वसुंधरा राजे गवाह भी बनी थी. अब उसी गवाही के दस्तावेज सामने आए हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: congress_issues_documents
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे बातचीत
डोकलाम विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कहा- समाधान के लिए चीन के साथ करते रहेंगे...

नई दिल्ली: बॉर्डर पर चीन से तनातनी और नेपाल में आई बाढ़ को लेकर शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने...

15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी सरकार ने मंगवाए वीडियो
15 अगस्त को राष्ट्रगान नहीं गाने वाले मदरसों के खिलाफ होगी कार्रवाई, यूपी...

लखनऊ: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों में राष्ट्रगान गाए जाने का...

ब्रिक्स सम्मेलन: तनातनी के बीच सितंबर के पहले हफ्ते में चीन जाएंगे पीएम मोदी
ब्रिक्स सम्मेलन: तनातनी के बीच सितंबर के पहले हफ्ते में चीन जाएंगे पीएम मोदी

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद को लेकर चीन युद्ध का माहौल बना रहा है. इस तनाव के माहौल में पीएम नरेंद्र...

गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे हुई ?
गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे...

इलाहाबाद: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले की न्यायिक जांच की मांग को...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017