हिंसक हुआ पटेल आंदोलन,13 साल बाद अहमदाबाद में लगा कर्फ्यू

By: | Last Updated: Wednesday, 26 August 2015 1:15 AM
Curfew in Gujarat towns after arrest of Patel leader sparks violence

अहमदाबाद: पटेल समुदाय के लिए ओबीसी आरक्षण मांग को लेकर चल रहे आंदोलन में बीते दिन 22 वर्षीय नेता हार्दिक पटेल को गिरफ्तार करने और फिर छोड़न के बाद गुजरात के कई इलाक़ों में आगजनी और तोड़फोड़ की गई. जिसके बाद देर रात करीब 2 बजे से राज्य के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. आज  भी दे आंदोलनकारियों की हिंसा जारी है. लोगों  ने सेना पर पत्थरबाजी की.

 

 

कई इलाकों में इस तरह की घटना के बाद राज्य में लगभग 13 साल बाद कर्फ्यू लगाया है. गुजरात के मेहसाणा जिले के 3 इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है. जिला प्रशासन ने मेहसाणा शहर, उंझा और विसनगर में कर्फ्यू लगाया है. जिसमें अब 4 से ज्यादा लोग एक जगह इकट्ठा नहीं हो सकते.

गुजरात के लगभग 9 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू की खबर है. जिनमें अहमदाबाद के रामूल, निकोल, बापूनगर, ओढव, नरोड़ा, कृष्णा नगर, घाटलोड़िया, नाराणपुरा, वाणज थाना क्षेत्र आते हैं.

 

अहमदाबाद के पुलिस कमिश्नर शिवानंद झा ने कहा, ”हालात को काबू करने के लिए सेना की मदद की जरूरत है.” सेना अब से थोड़ी देर में गुजरात पहुंचने वाली है.

 

वहीं अहमदाबाद में पटेल समाज को आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे नेता हार्दिक पटेल को हिरासत में लेने के बाद कल रात ही छोड़ दिया गया था.

 

हार्दिक पटेल को कल अहमदाबाद में हुई रैली के बाद बिना इजाजत के धरने पर बैठने के कारण हिरासत में लिया गया था पटेल समाज ने सिर्फ रैली करने की इजाजत मांगी थी.

 

कल रिहाई के बाद हार्दिक पटेल ने आज गुजरात बंद का आह्वान किया है. हालांकि हार्दिक ने अपने समुदाय के लोगों से अपील की है कि वे शांति बनाए रखें। उनको आज कुछ देर के लिए हिरासत में लिए जाने के बाद हिंसा भड़क गई थी.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ गुजरात में ही कमल को उखाड़ फेंकने की धमकी देने वाले 22 साल के हार्दिक पटेल ने कल अहमदाबाद में रैली की जिसमें पाटीदार समाज के लाखों लोग शरीक हुए थे.

 

पाटीदार समाज की मांग है कि उन्हें गुजरात के 27 फीसदी ओबीसी आरक्षण के कोटे में शामिल किया जाए, जबकि राज्य सरकार उनकी मांग को ठुकरा चुकी है.

 

गुजरात की सीएम आनंदी बेन पटेल का कहना है कि पटलों को आरक्षण नहीं दिया जा सकता. याद रहे हैं कि गुजरात में पाटीदार समाज आर्थिक रुप से संपन्न और राजनीतिक रूप से काफी मजबूत है.

 

राज्यभर में आरक्षण की आग के बीच गुजरात विधानसभा में आज से तीन दिन के लिए मानसून सत्र शुरू होगा, पटेल आरक्षण विवाद पर हंगामें की भी पूरी आशंका है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Curfew in Gujarat towns after arrest of Patel leader sparks violence
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017