हत्या से पहले अखलाक ने हिंदू दोस्त को की थी मदद के लिए आखिरी फोन कॉल

By: | Last Updated: Monday, 5 October 2015 4:33 AM

नई दिल्ली : भीड़ उसके घर में घुस चुकी थी, अभी वह कुछ समझ ही पाता कि लोग उसके सिर पर खड़े थे. उसमें उसके पड़ोसी भी थे, उसने उनसे मदद भी मांगी. भीड़ जानवर बन चुकी थी और तब फोन पर अखलाक ने मदद मांगी. मौत सामने देख कर भी अखलाक को अपने हिंदू दोस्त की ही याद आई. लेकिन, उसके बचपन का दोस्त जबतक वहां पहुंचता, काफी देर हो चुकी थी.

 

पढ़ें : दादरी कांड: बाप की हत्या के बाद बेटे ने कहा,- ‘सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तां हमारा…’

 

अखलाक की मोबाईल कॉल डीटेल से इस बात का खुलासा हुआ है कि उसने आखिरी बार फोन अपने बचपन के दोस्त मनोज सिसोदिया को किया था. सिसोदिया गांव में ही परचून की दुकान चलाता है.  मनोज को अखलाक के घर पहुंचने में करीब 10 से 15 मिनट का समय लगा लेकिन तब तक अखलाक की मौत हो चुकी थी.

 

पढ़ें : आजम की चुनौती, कहा- हिम्मत हो तो बीफ बेचने वाले होटलों को तोड़ दो

 

मनोज का कहना है कि इससे पहले कभी भी उसके गांव में सांप्रदायिक घटना नहीं घटी. मनोज का कहना है कि वह सोने की तैयारी कर रहा था तभी अचानक उसके मोबाइल पर अखलाक की कॉल आई. उसने कहा कि मनोज भाई हम खतरे में हैं. किसी तरह पुलिस को फोन करके फोर्स बुलवा दो. ये उसके आखिरी शब्द थे.

 

पढ़ें : अखलाक के परिजनों से मिले सीएम अखिलेश, 40 लाख मुआवजे का किया ऐलान

 

मनोज का कहना है कि वह अपने दोस्त को तो नहीं बचा पाया लेकिन बेटे दानिश को बचाने में सफल हो गया. हालांकि, मनोज का कहना है कि उसे काफी डर है कि अखलाक का करीबी होने और उसके परिवार की मदद करने के लिए उसे निशाना बनाया जा सकता है.

 

पढ़ें : धर्म से जुड़े हैं दादरी हत्या के तार : ओवैसी

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Dadri lynching: Akhlaq’s last phone call was to his Hindu friend
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017