कैसा होगा भारत का एक्शन प्लान?

By: | Last Updated: Tuesday, 11 August 2015 4:55 PM
dawood ibrahim

नई दिल्ली: हाफिज सईद, दाऊद इब्राहिम और टाइगर मेमन ये वो नाम हैं जो जख्म हरे कर देते हैं. एक बार फिर दाऊद का नाम चर्चा में है इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक दो साल पहले अंडरवर्ल्ड ड़ॉन दाऊद भारत लौटना चाहता था लेकिन उसकी शर्तों पर सरकार विचार नहीं कर पाई. सवाल ये है कि क्या सरकार दाऊद को लाने के लिए शर्तों की मोहताज है?

 

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बयान इतनी उम्मीद जरूर देता है कि शायद एक दिन भारत दुश्मन के घर से उसे घसीटकर लाएगा. इंडियन एक्सप्रेस की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दाऊद दो साल पहले 2013 में भारत लौटना चाहता था लेकिन दाऊद ने कुछ शर्तें रखी थीं जिस पर यूपीए सरकार राजी नहीं हुई. अखबार के मुताबिक कांग्रेस के एक बड़े नेता जो वकील भी हैं, उन्होंने ही दाऊद के ऑफर को पार्टी और सरकार तक पहुंचाया था.

 

दाऊद की शर्त ये थी कि भारत में उस पर जो केस चलाए जाएं, वे उसकी शर्तों के हिसाब से हों, लेकिन यूपीए सरकार और कांग्रेस इसके लिए तैयार नहीं थी. दाऊद को भारत लाना तो है लेकिन उसकी शर्तों पर नहीं. 1993 के मुंबई हमलों की साजिश रचने वाले टाइगर मेमन और दाऊद इब्राहिम थे. पिछले 22 सालों से भारत को इनकी तलाश है और इनका ठिकाना पाकिस्तान में है इसे कोई नकार नहीं सकता.

 

कई मौकों पर ऐसे सुबूत सामने आते रहे हैं जब इनके पाकिस्तान में होने की पुष्टि हुई है. साल 2001 में आगरा सममिट के लिए जब परवेश मुशर्ऱफ भारत आए थे तो लाल कृष्ण आडवाणी ने उनसे सबसे पहले दाऊद ही मांगा था. लेकिन पाकिस्तान ने कभी नहीं माना कि दाऊद उनकी जमीन पर रहकर अपना कारोबार चला रहा है.

 

दुश्मन को उसके घर में घुसकर मारने की सबसे बड़ी मिसाल अमेरिका ने पेश की थी जब साल 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में एक खुफिया ऑपरेशन के बाद ओसामा बिन लादेन को मार गिराया था और पाकिस्तान को भनक तक नहीं लगी थी. इसके बाद ये चर्चा तेज हो गई कि जब अमेरिका अपने दुश्मन से बदला ले सकता है तो भारत क्यों नहीं कर सकता?

 

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ये बहस और तेज हो गई थी. इस बात को और हवा तब मिली जब जून महीने में भारत ने म्यांमार की सीमा में घुसकर 18 सैनिकों की शहादत का बदला लिया था. ये पहला मौका था जब भारत ने किसी दूसरे देश की धरती पर जाकर दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब दिया था.

 

इस ऑपरेशन ने ये टीस मिटा दी कि भारत किसी दूसरे देश में घुसकर वतन के दुश्मनों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं करता जैसे अमेरिका पाकिस्तान में घुसकर लादेन को मार गिराता है. भारत ने ठीक वैसा ही किया सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए सीधे टारगेट पर हमला और फिर वापस लौट आना.

 

फिर चर्चा शुरू हुई कि अब म्यांमार के बाद पाकिस्तान की बारी है. ये चर्चा सुनते ही पाकिस्तान के गृह मंत्री से लेकर पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ तक भारत को धमकी देने लगे.

 

पाकिस्तान के गृह मंत्री निसान खान ने ट्वीट करके कहा-पाकिस्तान म्यांमार की तरह नहीं है. जो पाकिस्तान के खिलाफ नापाक मंसूबे रखते हैं उन्हें कान खोलकर सुन लेना चाहिए कि हमारे सुरक्षाबल किसी भी दुस्साहस का जवाब देना जानते हैं.

 

मुशर्रफ तो परमाणु बम तक पहुंच गए. तय है कि जब कभी भी भारत आतंकियों के खिलाफ डी डे या बेबी जैसा कोई एक्शन प्लान तैयार करेगा तो उसका ढिंढोरा नहीं पीटा जाएगा.

 

लेकिन सालों से इंतजार ही तो रहा है. 22 साल पहले 1993 मुंबई बम धमाकों में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. 1993 के मुंबई हमलों में याकूब मेमन को पहली फांसी हुई लेकिन हमलों की साजिश रचने वाला टाइगर मेमन अब भी भारत की पकड़ से बहुत दूर है. जिस तरह से याकूब को भारत लाया गया उस बातचीत से दाऊद और टाइगर जैसे लोग वापस आएंगे ये दूर की कौड़ी लगता है.

 

इसलिए देश के इन गुनहगारों को वापस लाने का एक ही रास्ता दिखाई देता है. उनके घर में घुसकर मारने का.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: dawood ibrahim
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब पता था’
बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब...

पटना:  बिहार में सबसे बड़ा घोटाला करने वाले सृजन एनजीओ में मोटा पैसा गैरकानूनी तरीके से सरकारी...

यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए
यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए

वाराणसी: उत्तर प्रदेश में वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. यहां पर कुछ...

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017