12 साल बाद अपने वतन लौटी गीता, अब आगे क्या होगा ?

By: | Last Updated: Monday, 26 October 2015 4:13 PM
Deaf-mute Geeta reached in Delhi from Pakistan

नई दिल्ली: गीता अपने वतन अपने घर भारत लौट आई है. वो बेहद खुश नजर आ रही थी. 12 साल बाद गीता अपने मां-बाप से मिलने की उम्मीद में पाकिस्तान से भारत लौटी है लेकिन जिस महतो परिवार की तस्वीर देखकर गीता ने परिवार को पहचाना था उस पिता और उस भाई को अपने सामने देखकर वो उन्हें पहचान नहीं पाई.

 

अब इंतजार डीएनए टेस्ट का है जिसके नतीजे ये साबित करेंगे कि गीता किसकी बेटी है. डीएनए मिलेगा तो क्या होगा और डीएनए नहीं मिलेगा तो क्या होगा इन दोनों सवालों के लिए जवाब लिए पेश है हमारी एक खास रिपोर्ट.

 

भारत लौटी गीता, परिवार को पहचानने से किया इंकार 

आज 12 साल बाद वो दिन आ ही गया जब पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से मोहब्बत का पैगाम अपने साथ लिए गीता अपने वतन लौट आई. लाल रंग का खूबसूरत सलवार सूट पहने और हाथ में गुलदस्ता लिए दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट पर नजर आई. उसके गले में एक लॉकेट था जिस पर गीता लिखा हुआ था.

 

गीता ना बोल सकती है और ना ही सुन सकती है लेकिन गीता के दिल में उमड़ी खुशी को बताने के लिए आज किसी आवाज की जरूरत ही नहीं थी. जिसने भी इस तस्वीर को देखा उसने गीता की आंखों से ही उसकी खुशी को पढ़ लिया.

 

सोमवार शाम को गीता प्रधानमंत्री निवास 7 आरसीआर में मोदी से मिलने पहुंची. गीता के साथ इधी फाउंडेशन के तमाम सदस्य भी मौजूद थे. गीता ने हाथ जोड़कर मोदी को नमस्कार किया तो प्रधानमंत्री ने बड़े ही प्यार से गीता के सिर पर हाथ रख दिया.

 

गीता के बारे में जानकारी देते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बताया इधी फाउंडेशन के लोगों ने जब सलमान कान की फिल्म बजरंगी भाईजान देखी तो उन्हें लगा कि ये उनकी बच्ची की कहानी है. गीता ने भी इस फिल्म को कई बार देखा.

 

ये शायद पहली बार हुआ कि एक फिल्म ने खोई हुई बेटी को उसके मुल्क पहुंचा दिया. फिल्म का नाम बजरंगी भाईजान था जिसमें सलमान खान मुन्नी को हिंदुस्तान से उसके मुल्क पाकिस्तान पहुंचाने जाते हैं. पाकिस्तान की मुन्नी गीता थी जिसे अपने घर हिंदुस्तान आना था

 

ये कहना गलत नहीं होगा कि ये फिल्म ना होती तो गीता की घर वापसी भी अभी शायद दूर होती. गीता अब अपने देश में है लेकिन भारत आते ही इस कहानी में नया मोड़ ये है कि गीता ने महतो परिवार को पहचानने से इंकार कर दिया है.

 

विदेस मंत्री सुषमा स्वराज ने बताया, ”आज गीता महतो दंपत्ति और तीन भाईयों को पहचानने से इनकार कर रही है लेकिन डीएनए टेस्ट के लिए उनका सैंपल जा चुका है और हम टेस्ट का इंतजार करेंगे.” गीता भले ही महतो परिवार को ना पहचान पा रही हो लेकिन खुद को गीता का पिता बताने वाले जनार्दन महतो का दावा है कि गीता उन्हीं की बच्ची है.

 

गीता की इस पूरी कहानी में दो सवाल उठ रहे हैं पहला ये कि अगर महतो परिवार और गीता का डीएनए नहीं मिला तो क्या होगा और अगर मिल गया तो क्या होगा. पहले सवाल का जवाब ये है कि डीएनए नहीं मिलने की सूरत में गीता को इंदौर की एक संस्था में रखा जाएगा जो ऐसे बच्चों का ना सिर्फ ख्याल रखते हैं बल्कि उन्हें पढ़ा-लिखाकर अपने पैरों पर खड़ा होने के काबिल बनाते हैं.

 

दूसरे सवाल का जवाब विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने खुद दिया. व्देश मंत्री ने बताया, ”हम दोबारा दोनों पक्षों को बिठाकर बात करवाएंगे. गीता को भी समझाएंगे कि ये वैज्ञानिक तरीका है गलत नहीं हो सकता.

 

करीब 12 साल पहले जिंदगी के एक मोड़ पर गीता पाकिस्तान जा पहुंची थी. लेकिन अब पूरी कहानी डीएनए सैंपल पर आकर अटक गई है बिहार के सहरसा जिले का रहने वाला महतो परिवार जरूर दावा कर रहा है कि उनकी खोई हुई बेटी हीरा ही गीता है लेकिन कहानी में कुछ पेंच है जो उलझे हुए हैं.

 

महतो परिवार का दावा है कि गीता जब खोई तब उसकी उम्र करीब 11-12 साल थी लेकिन वो एक तस्वीर दिखाते हैं जिसमें उसकी गोद में एक बच्चा है.

 

जनार्दन महतो का दावा है कि गीता की शादी भी हो चुकी थी उसका एक बेटा भी है. ये बेटा भी अब बड़ा हो चुका है. बच्चा भी गीता को अपनी मां बताता है. लेकिन गीता ने शादी होने और बच्चा होने इन दोनों बातों से बार-बार इंकार किया है.

 

ये बात भी हैरान करने वाली है कि महतो परिवार के मुताबिक जब गीता परिवार से बिछड़ी उस वक्त उसकी उम्र 11-12 साल थी सवाल ये है कि क्या 11 साल की छोटी सी उम्र में गीता मां बन चुकी थी और उसकी गोद में बच्चा भी था.

 

गीता इधी फाउंडेशन के पांच सदस्यों के साथ भारत आई थी. वो चैरिटेबल इधी फाउंडेशन जिसने इतने सालों तक गीता का ख्याल रखा उसे प्यार दिया और एक बेटी की तरह गीता को पाकिस्तान से विदाई दी. एक वक्त था जब गीता को संभालना मुश्किल हो गया था. वो इधी फाउंडेसन के हर सेंटर से भागने की कोशिश किया करती थी आखिर में बिलकिस इधी ने गीता को संभाला और सात साल तक अपने पास रखा.

 

12 साल तक पाकिस्तान में सैकड़ों मुस्लिम बच्चों के बीच में रहने के बावजूद गीता अपने कमरे में दीया जलाकर और घंटी के साथ पूजा किया करती थी. गीता को पूजा का सामान भी बिलकिस इधी ने ही दिया क्योंकि वो समझ गई थीं कि गीता पाकिस्तान की नहीं हिंदुस्तान की बच्ची है.

 

गीता को अपना परिवार और अपने मां-बाप मिलने में अभी कुछ वक्त जरूर बाकी है लेकिन गीता की ये खुशी बता रही है कि जब वो अपने देश आ गई है तो उसके माता-पिता भी उसे जरूर मिल जाएंगे.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Deaf-mute Geeta reached in Delhi from Pakistan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: geeta Welcome Geeta
First Published:

Related Stories

बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब पता था’
बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब...

पटना:  बिहार में सबसे बड़ा घोटाला करने वाले सृजन एनजीओ में मोटा पैसा गैरकानूनी तरीके से सरकारी...

यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए
यूपी: वाराणसी में लगे PM मोदी के लापता होने के पोस्टर, देर रात पुलिस ने हटवाए

वाराणसी: उत्तर प्रदेश में वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. यहां पर कुछ...

एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!
एबीपी न्यूज़ की खबर का असर, गायों की मौत के मामले में बीजेपी नेता गिरफ्तार!

रायपुर: एबीपी न्यूज की खबर का असर हुआ है. छत्तीसगढ़ में गोशाला चलाने वाले बीजेपी नेता हरीश...

जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच
जानिए क्या है फिजिक्स के प्रोफेसर की बाइक में बम का सच

नई दिल्लीः आजकल सोशल मीडिया पर एक टीचर की वायरल तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि वो अपनी...

19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और पुलिस
19 अगस्त को गोरखपुर में होंगे राहुल गांधी, खुद के लिए नहीं लेंगे एंबुलेंस और...

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 19 अगस्त को यूपी के गोरखपुर जिले के दौरे पर रहेंगे. राहुल...

नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी
नेपाल से बातचीत के जरिए ही निकल सकता है बाढ़ का स्थायी समाधान: सीएम योगी

सिद्धार्थनगर/बलरामपुर/गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को...

पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश की
पीएम मोदी ने की नेपाल के प्रधानमंत्री से बात, बाढ़ से निपटने में मदद की पेशकश...

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा से...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. डोकलाम विवाद के बीच पीएम नरेंद्र मोदी का चीन जाना तय हो गया है. ब्रिक्स देशों के सम्मेलन के लिए...

सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन
सरकार के रवैये से नाराज यूपी के शिक्षामित्रों ने फिर शुरू किया आंदोलन

मथुरा: यूपी के शिक्षामित्र फिर से आंदोलन के रास्ते पर चल पड़े हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...

बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान
बाढ़ से रेलवे की चाल को लगा 'ग्रहण', सात दिनों में करीब 150 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली: असम, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से भारतीय रेल को पिछले सात...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017