DEBATE: राजधानी संभाल नहीं सकते, बुलेट ट्रेन का सपना दिखा रहे हैं?

By: | Last Updated: Wednesday, 25 June 2014 12:43 PM
DEBATE: राजधानी संभाल नहीं सकते, बुलेट ट्रेन का सपना दिखा रहे हैं?

नई दिल्ली: बिहार के छपरा में राजधानी एक्सप्रेस हादसे में 4 लोगों की मौत हुई है और 18 लोग जख्मी हो गए हैं. दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस की ग्यारह बोगियां पटरी से उतर गई हैं. जो हुआ वो हादसा था या नक्सलियों की साजिश, इस पर विवाद चल रहा है. इस हादसे से सवाल उठा है मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन योजना पर. जब सरकार राजधानी एक्सप्रेस नहीं चला पाई है तो कैसे चलेगी बुलेट ट्रेन.

 

नीचे दिए गए कमेंट्स बॉक्स की मदद से आप इस बहस में शामिल हो सकते हैं.

 

छपरा से बीस किलोमीटर दूर गोल्डेनगं ज इलाके में हुआ है ये भयानक हादसा. आधी रात का वक्त था जब राजधानी एक्सप्रेस के पैसेंजर गहरी नींद में सो रहे थे. अचानक जोर की आवाज हुई और फिर जो हुआ उसकी तस्वीर आपके सामने है.

 

क्यों हुआ हादसा?

 

ट्रेन छपरा स्टेशन से हाजीपुर के लिए रवाना ही हुई थी कि बीस मिनट बाद करीब सवा दो बजे सब कुछ हो गया. हादसे की हकीकत क्या है इसको लेकर तस्वीर काफी उलझी हुई है. हादसे के ठीक बाद रेल मंत्री और रेलवे अधिकारियों का जो बयान आया उसमें माओवादियों पर शक जताया गया.

 

किन मौके पर मौजूद छपरा के कलेक्टर और एसपी लगातार ये कहते रहे कि उन्हें ऐसा कोई सबूत नहीं मिला जिससे नक्सलियों को जिम्मेदार माना जाए. बिहार सरकार ने भी ऐसा ही कहा है.

 

नक्सलियों की साजिश की बात इसलिए सामने आ रही है, क्योंकि इलाके में नक्सलियों ने दो दिन का बंद बुला रखा है. स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रूडी सुबह तक नक्सलियों की बात से इनकार कर रहे थे, लेकिन दोपहर होते होते उन्होंने भी नक्सलियों के हाथ होने से इनकार नहीं किया.

 

अब लालू और नीतीश जैसे पूर्व रेल मंत्री कह रहे हैं कि जब नक्सलियों की धमकी थी तो फिर रेलवे ने सुरक्षा के लिए क्या कदम उठाये थे?

 

बुलेट ट्रेन का सपना क्यों?

 

हालांकि गृह मंत्री ने भी कहा है कि नक्सलियों की बात कहना अभी जल्दबाजी है. सवाल यात्रियों की सुरक्षा को लेकर उठे हैं इसलिए निशाने पर मोदी सरकार है. सवाल पूछे जा रहे हैं कि जब राजधानी को नहीं संभाल सकते तो फिर बुलेट ट्रेन का सपना क्यों दिखा रहे हैं.

 

हादसे की जांच के लिए खुद रेल मंत्री मौके पर गये थे. हादसे में चार लोगों की जान गई है और दो दर्जन घायल अस्पताल में हैं. खुशनसीब यात्री भी अपने घर चले गये हैं. लेकिन सवाल ये कि क्या इसी तरह की सुरक्षा और सुविधा के भरोसे सरकार देश में बुलेट ट्रेन चलाएगी?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: DEBATE: राजधानी संभाल नहीं सकते, बुलेट ट्रेन का सपना दिखा रहे हैं?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017