दिल्ली: डेंगू के कहर से 16 मरीज़ो की मौत, 2000 लोग चपेट में

By: | Last Updated: Friday, 18 September 2015 1:45 AM
delhi: 16 die and 2000 are affected by dengue

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में दो लड़कियों की डेंगू से मौत होने से इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है. मच्छर से होने बुखार से पीड़ित लोगों की संख्या 2,000 पार कर गयी है और शहर के अस्पतालों पर काफी दबाव आ गया है. हालात से सही तरह से नहीं निपट पाने का आरोप झेल रही दिल्ली सरकार ने कहा कि वह एक अध्यादेश (ऑर्डिनेंस) लाने पर विचार कर रही है जिसमें आपात (इमरजेंसी) स्थिति में मरीजों का इलाज करने वाले निजी अस्पतालों को सज़ा दी जाएगा.

 

बच्चों समते 16 की मौत

चिकित्सकों ने बताया कि दक्षिणी दिल्ली के संगम विहार निवासी तीन साल की नेहा माथुर की कल साकेत सिटी अस्पताल में डेंगू से मौत हो गई. उसके अभिभावकों ने एक सरकारी अस्पताल और एक निजी अस्पताल पर आरोप लगाया कि डेंगू से निपटने के लिए उसका समुचित इलाज नहीं किया गया. डॉकटर्स ने बताया कि ओखला निवासी नौ साल की लड़की की आरएमएल (राम मनोहर लोहिया) अस्पताल में मौत हो गई थी. दोनों बच्चों की मौत के साथ अब तक 16 की जान जा चुकी है.

 

2000 लोग प्रभावित

स्वास्थ्य एवं प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से इस बीमारी पर रोक लगाने के लिए प्रयास बढ़ाये जाने के बावजूद मच्छर से फैलने वाली इस बीमारी से पीड़ितों की संख्या 2000 पार कर गई है. इसमें से 1200 मामले पिछले सप्ताह ही सामने आये हैं. राज्य सरकार ने उत्तर पश्चिम दिल्ली में डेंगू मरीजों के अस्थायी उपचार के लिए आगामी अस्पताल में 200 बेड की सुविधा शुरू की है. राज्य सरकार, केंद्र सरकार और एमसीडी संचालित 34 अस्पतालों से संग्रहित आंकड़े के मुताबिक पिछले 24 घंटे में बुखार से पीड़ित 2519 लोगों को भर्ती कराया गया जिसमें 281 में डेंगू पाया गया.

 

इस बीच गाज़ियाबाद के साहिबाबाद इलाके की डीएलएफ कालोनी में डेंगू से 10 साल की बच्ची की मौत हो गयी है. बच्ची को बुखार था और डेंगू की रिपोर्ट पोजिटिव आई थी.

दिल्ली पास होने की वजह से परिजन उसे दिल्ली के जीवन ज्योति अस्पताल में ले गए. अविका ने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया. बच्ची की मौत से परिवार सदमे में है. डेंगू से गाज़ियाबाद में अब तक चार लोगों की जान जा चुकी है.

 

बीजेपी नगर निगम आयुक्तों को ‘आप’ का नोटिस

सरकार ने बीजेपी शासित सभी तीनों नगर निगमों के आयुक्तों को नोटिस जारी कर डेंगू की रोकथाम के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में रोजाना आधार पर जरूरी जानकारी से अवगत कराने का निर्देश दिया है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने नगर निकायों के मेयरों और आयुक्तों के साथ बैठकें कर इसकी रोकथाम के लिए हर मुमकिन कदम उठाने का निर्देश दिया. सरकार ने आदेश का पालन नहीं होने पर तीनों एमसीडी आयुक्तों को कड़ी कार्रवाई के प्रति चेताया है.

 

1000 बिस्तर बढ़ाने के आदेश

गृह मंत्रालय ने भी हालात की समीक्षा की और राज्य सरकार को हर संभव कदम उठाने का निर्देश दिया. सूत्रों के अनुसार, अध्यादेश सरकार को यह अधिकार देगा कि वह आपात स्थिति वाले मरीज को भर्ती करने से इनकार करने वाले अस्पतालों पर भारी जुर्माना लगाये और यहां तक कि उनका पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन) भी रद्द कर दे. कल दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने निजी अस्पतालों को निर्देश दिया था कि वे डेंगू के मरीजों के इलाज के लिए बिस्तरों की संख्या में 10-20 प्रतिशत की जल्द से जल्द बढ़ोतरी करें. उन्होंने इसके साथ ही दिल्ली सरकार की ओर से संचालित अस्पतालों को भी निर्देश दिया था कि वे रविवार तक बिस्तरों की संख्या एक हजार तक बढ़ायें. ऐसे में जब डेंगू के मामले बढ़ रहे हैं, आप ने कहा कि वह मरीजों को मुफ्त इलाज मुहैया कराने के लिए पूरे दिल्ली में ‘फीवर क्लीनिक्स’ की स्थापना करेगी.

 

मौत पर आरोप-प्रत्यारोप

सत्ताधारी पार्टी ने बीजेपी शासित निगमों पर इस बीमारी को फैलने से रोकने में ‘पूर्ण रूप से विफल’ रहने का आरोप लगाया था. आप की दिल्ली इकाई के सचिव दिलीप पांडेय ने एक संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि नगर निगमों के स्वास्थ्य निरीक्षक अपना काम ठीक ढंग से नहीं कर रहे हैं जिन पर डेंगू फैलाने वाले मच्छरों को फैलने से रोकने की जिम्मेदारी है. वहीं, निगमों ने भी आप सरकार पर आरोप लगाया कि वह डेंगू से निपटने के लिए पर्याप्त धनराशि जारी नहीं कर रही है. पांडेय ने कहा कि पार्टी ने चिकित्सकों से सम्पर्क किया है और ये चिकित्सक पूरी दिल्ली में डेंगू के मरीजों को ‘मुफ्त चिकित्सा’ मुहैया कराएंगे. पांडेय ने कहा, ‘‘फिलहाल हम 30 क्लीनिक खोल रहे हैं और उनकी संख्या बढ़कर 60 से 70 होने की संभावना है. उन्होंने कहा कि पार्टी करीब 1200 कार्यकर्ताओं को शनिवार से लोगों को डेंगू के बारे में जागरूक करने और उसे रोकने के लिए उठाये जाने वाले कदमों के बारे में बताने के लिए लगाएगी.’’

 

कांग्रेस भी मौत पर कर रही है राजनीति

कांग्रेस ने दिल्ली में डेंगू के मामलों को रोकने में ‘निष्क्रियता’ के खिलाफ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया. वर्तमान में शहर में कुल बिस्तरों की संख्या 50 हजार है जिसमें दिल्ली सरकार संचालित अस्पतालों में 10 हजार बिस्तर जबकि 20 हजार निजी अस्पतालों में हैं. नगर निगमों और केंद्र की ओर से संचालित अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या क्रमश: 10-10 हजार है. सरकार ने सरकारी अस्पतालों में काम करने वाले सभी चिकित्सकों और पैरामेडिक्स की छुट्टी रद्द कर दी है.

 

संबंधित ख़बरें-

डेंगू: बजट घटाएंगे तो मच्छर कैसे मारेंगे?

एबीपी न्यूज का असर: अब सस्ते रेट पर होगा इन अस्पतालों में टेस्ट

डेंगू से जल्दी निजात दिलाएंगें ये सुपरफूड 

डेंगू के डर से बकरी का दूध हुआ 2000 रुपये लीटर 

डेंगू का डंक : हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब, अब तक 14 की मौत 

मच्छर मारने में नाकाम रही दिल्ली सरकार, 50 रुपये में होगी प्लेटलेट्स की जांच

बच्चों को डेंगू वायरल से बचाने के लिए ये टिप्स अपनाएं

इस तरह का डेंगू नहीं है जानलेवाः आईएमए

डेंगू से बचाव के लिए ये तरीके अपनाएं

अमन की मौत का जिम्मेदार कौन? 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi: 16 die and 2000 are affected by dengue
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: AAP affected BJP death toll Delhi Dengue
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017