दिल्ली में मतदान 7 फरवरी को, 10 फरवरी को नतीजे

By: | Last Updated: Monday, 12 January 2015 11:21 AM
Delhi Assembly Polls on February 7, Counting on February 10

नई दिल्ली:  चुनाव आयोग ने दिल्ली में विधानसभा चुनाव की तारीख की घोषणा कर दी है. दिल्ली में एक चरण में मतदान होंगे.

 

दिल्ली में 7 फरवरी को वोट डाले जाएंगे, जबकि वोटों की गिनती 10 फरवरी को होगी.

दिल्ली इलेक्शनः स्मार्टफोन से ढूंढ सकते हैं अपना नाम 

मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत ने कहा कि निष्पक्ष चुनाव के लिए सारी तैयारी कर ली गई है. याद रहे कि चुनाव आयोग के इस एलान के साथ ही चुनाव आचार संहिता लागू हो गई हैं. अब केंद्र सरकार दिल्ली को लेकर लुभावने घोषणाएं नहीं कर सकेंगी.

 

चुनाव आयोग के मुताबिक दिल्ली में कुल वोटरों की संख्या 1.30 करोड़ है. ये मतदाता दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर अपने-अपने उम्मीदवारों का चयन करेंगे.

 

आयोग ने दिल्ली में कुल 11,763 पोलिंग स्टेशन बनाए हैं.

 

चुनाव आयोग के मतुबिक दिल्ली विधानसभा चुनावों में भी मतदाताओं को ‘इनमें से कोई नहीं’ यानी नोटा का विकल्प उपलब्ध रहेगा.

 

दिल्ली में चुनाव का कार्यक्रम

 

70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में चुनाव के लिए अधिसूचना 14 जनवरी को जारी होगी. उम्मीदवार 21 जनवरी तक नामांकन दाखिल कर सकेंगे. नामांकन पत्रों की जांच 22 जनवरी को होगी और 24 जनवरी तक नाम वापस लिये जा सकेंगे. मतदान 7 फरवरी को होगा.

 

किसने क्या कहा?

 

चुनाव के एलान के बाद सभी पार्टियों ने कहा है कि उनकी तैयारी पूरी है और उनकी ही पार्टी जीत दर्ज करेगी.

 

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने एबीपी न्यूज़ से कहा कि बीजेपी का मुकाबला कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दोनों से है और उनकी पार्टी बहुमत हासिल करेगी. जब उनसे पूछा गया कि उनकी पार्टी की तरफ से सीएम का उम्मीदवार कौन होगा तो उन्होंने साफ किया है कि बीजेपी की तरफ से सीएम का कोई उम्मीदवार पेश नहीं किया जाएगा.

 

आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया ने कहा कि उनकी ही पार्टी दिल्ली में भ्रष्टाचार मुक्त सरकार दे सकती है और जनता अरविंद केरजरीवाल को सीएम बनाएगी.

 

इसी तरह कांग्रेस ने भी दावा किया है कि उनकी पार्टी इस चुनाव में जीत दर्ज करेगी. कांग्रेस नेता मुकेश शर्मा ने कहा कि उनकी पार्टी ने पूरा तैयारी कर ली है और दिल्ली के विकास की जो गति रुकी है उसे दोबारा शुरू करने के लिए दिल्ली की जनता कांग्रेस को ही वोट देगी.

 

दिल्ली में चुनाव क्यों?

पिछले साल 49 दिन की सरकार चलाने के बाद अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. तब से दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लागू है. इस दौरान कई बार सरकार बनाने की कोशिश की चर्चा भी हुई लेकिन नतीजे सिफर रहे.

 

49 दिनों तक सरकार चलाने के बाद पिछले साल 14 फरवरी को केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. दिसंबर 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था. बीजेपी 32 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी थी लेकिन 28 सीटों वाली आम आदमी पार्टी को 8 विधायकों की काग्रेस ने समर्थन दे दिया और सरकार बन गई. लेकिन दोनों ही पार्टियों में बनी नहीं और जनलोकपाल के मुद्दे पर केजरीवाल ने इस्तीफा दे दिया, तब से दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लागू है.

 

इस बीच आम आदमी पार्टी ने विधायकों की खरीदफरोख्त का आरोप लगाते हुए बीजेपी पर सरकार बनाने का शक जाहिर करती रही. कांग्रेस के विधायकों के टूटने की खबरें आई थीं लेकिन हुआ कुछ नहीं. दिल्ली विधानसभा भंग करने को लेकर आम आदमी पार्टी कोर्ट तक पहुंच गई. अदालत कुछ फैसला करती इससे पहले ही दिल्ली विधानसभा भंग करने का फैसला हो गया और ये तय हो गया कि दिल्ली में फिर से चुनाव होंगे.

 

फिलहाल केजरीवाल ने दिल्ली की सभी 70 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं. कांग्रेस ने भी पुरानी परंपरा तोड़ते हुए चुनाव की घोषणा से पहले ही 24 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है. कांग्रेस ने दिल्ली में अभी तक किसी को सीएम प्रोजेक्ट नहीं किया है.

 

बीजेपी ने अब तक अपने उम्मीदवारों के नाम का एलान नहीं किया है. सवाल यह भी है कि आखिर दिल्ली में बीजपी का चेहरा कौन होगा?

 

दिल्ली में क्या कहते हैं सर्वे?

 

सर्वे : दिल्ली में BJP-AAP के बीच कड़ी टक्कर, त्रिशंकु विधानसभा के आसार 

 

आपको बताते हैं कि चुनाव से पहले दिल्ली के सर्वे क्या कहते हैं. किसकी बन सकती है सरकार और किसको होगा नुकसान.

 

दिल्ली में चुनाव की आहट के बीच अब तक हुए सभी सर्वे में बीजेपी स्पष्ट बहुमत हासिल करती दिख रही है.

 

दिसंबर में हुए एबीपी न्यूज-नीलनस के सर्वे में बीजेपी गठबंधन को 45, आम आदमी पार्टी को 17, कांग्रेस को सात और अन्य के खाते में एक सीट मिलती दिख रही है.

इंडिया टुडे-सिसेरो के सर्वे में बीजेपी को 34-40 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि आप कांटे की टक्कर में है. 25-31 सीटें आप को मिल सकती हैं. कांग्रेस को तीन से पांच सीटें मिल सकती हैं.

 

न्यूज एक्स-सी वोटर के नवंबर मे हुए सर्वे में बीजेपी को 40, आम आदमी पार्टी को 22, कांग्रेस को छह और अन्य को दो सीटें मिलने का अनुमान है.

 

2013 में हुए चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. बीजेपी को 32, आप को 28, कांग्रेस को आठ और अन्य के खाते में दो सीटें गई थीं.

 

संबंधित खबरें-

वाराणसी कैंटोनमैंट चुनाव में सभी सात सीटों पर बीजेपी की हार, निर्दलीय उम्मीदवार जीते

क्या मोदी की रैली में कम लोग जुटने से बीजेपी डर गई है? 

केजरीवाल ने कहा, आप का बीजेपी से सीधा मुकाबला 

सोमवार को होगा दिल्ली में चुनाव की तारीख का एलान! 

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की फिर बनी सरकार: केजरीवाल 

दिल्ली: बीजेपी में जाने की चर्चा के बीच निर्दलीय विधायक शौकीन कांग्रेस में शामिल 

प्रधानमंत्री मोदी पर केजरीवाल ने किया पलटवार 

‘ज मोदी सरकार ने केवल वायदे किये, आप एक विफल प्रयोग :कांग्रेसब-जब भाजपा आई है, झुग्गियों पर आफत लाई है’ 

सरकार चलाने का मास्टर कौन? 

PM मोदी का केजरीवाल पर हमला, कहा- दिल्ली का एक साल बर्बाद करने वाले को मिले सज़ा 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Delhi Assembly Polls on February 7, Counting on February 10
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: election
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017