दिल्ली सरकार ने भेजा बरखा सिंह को नोटिस

By: | Last Updated: Friday, 15 May 2015 5:22 PM

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष बरखा सिंह को नोटिस भेजा है. यह नोटिस आम आदमी पार्टी (आप) नेता कुमार विश्वास के खिलाफ एक शिकायत पर आयोग की अनियमित गतिविधि के खिलाफ आयोग की एक सदस्य की शिकायत पर जारी किया गया है. डीसीडब्ल्यू की सदस्य जूही खान ने शिकायत दर्ज की थी.

 

डीसीडब्ल्यू प्रमुख को भेजे नोटिस के अनुसार, “आप जिस तरह से लोक हित के पद पर बनी हुई हैं, वह इस पद का दुरुपयोग है.” नोटिस के मुताबिक, “इसलिए आपको कारण बताओ नोटिस भेजा गया है कि इस कदाचार के कारण आपको आपके पद से क्यों नहीं हटाया जा सकता.”

 

बरखा को अगले तीन दिनों में जवाब देने को कहा गया है. नोटिस के मुताबिक, “अगर निर्धारित समय के भीतर जवाब नहीं दिया गया, यह माना जाएगा कि आपको इस मामले में कुछ नहीं कहना है और आपके खिलाफ कानून के तहत उचित कार्रवाई की जाएगी.” आप सरकार ने उन पर आरोप लगाए हैं कि मामले के आयोग में लंबित रहने के बावजूद उन्होंने संवाददाता सम्मेलन बुलाया.

 

नोटिस के अनुसार, ‘यह उल्लेखित है कि आपने कुमार विश्वास के मामले में पांच मई को प्रेस सम्मेलन बुलाया, जबकि शिकायत पर इस तरह की कार्रवाई की कोई नीति नहीं है, फिर भी आपने मुद्दे पर संवाददाता सम्मलेन बुलाया, जब कि यह मामला फैसले के लिए आयोग में लंबित था.” बरखा पर आयोग की दूसरी सदस्यों की छवि खराब करने का आरोप है.

 

नोटिस के मुताबिक, “आपने न सिर्फ अपने आयोग के दूसरे सदस्यों (जूही खान) को उनकी राय रखने से रोका, बल्कि आपने सार्वजनिक स्थान पर उनकी छवि खराब की, सिर्फ इसलिए कि उनकी अलग राय थी. इसके बाद आपने उन पर बिना किसी तथ्य के आप का सदस्य होने के आरोप लगाए.”

 

डीसीडब्ल्यू ने आप की एक कार्यकर्ता की शिकायत पर विश्वास को नोटिस जारी किया था. महिला ने यह शिकायत की थी कि सार्वजनिक रूप से विश्वास द्वारा दोनों के बीच कथित अफेयर की अफवाह से इंकार न करने पर उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई है.

 

विश्वास ने इस मुद्दे पर दिल्ली उच्च न्यायालय की शरण ली और डीसीडब्लूय द्वारा भेजे गए सम्मन पर रोक लगाने की मांग की.

 

कुमार विश्वास को हाई कोर्ट से झटका

 

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) द्वारा कुमार विश्वास को जारी किए गए सम्मन पर रोक लगाने से मना कर दिया. आम आदमी पार्टी (आप) के नेता कुमार विश्वास को यह सम्मन एक महिला की शिकायत पर जारी किया गया था. महिला ने आरोप लगाया है कि कुमार विश्वास ने उसके साथ कथित संबंधों की बात खारिज करने से मना कर दिया है, जिसके कारण उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई है.

 

न्यायाधीश राजीव शकधर ने कहा कि जबतक आप नेता के खिलाफ शिकायत करने वाली महिला को यहां पर मामले में वादी नहीं बनाया जाता, तबतक वह किसी प्रकार का आदेश पारित नहीं कर सकते. न्यायालय में विश्वास की याचिका पर सुनवाई हो रही थी, जिसमें उन्होंने कहा है कि डीसीडब्ल्यू को इस शिकायत का निपटारा नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह आयोग के अधिकार क्षेत्र से बाहर है.

 

मामले की अगली सुनवाई की तिथि 22 मई निर्धारित करते हुए न्यायाधीश शकधर ने कहा, “मैं इस मामले में तब तक आगे की कार्यवाही नहीं कर सकता जब तक कि प्रभावित व्यक्ति को इस याचिका से नहीं जोड़ा जाता.” न्यायालय ने कहा, “महिला ने डीसीडब्ल्यू से अपनी शिकायत वापस नहीं ली है, इसीलिए उसे यहां पर याचिका में शामिल किया जाना चाहिए. आप (विश्वास) उसे यहां पर वादी बनाए बिना याचिका को आगे कैसे बढ़ा सकते हैं.”

 

विश्वास की ओर से न्यायालय में पेश होते हुए आप के सदस्य और वकील सोमनाथ भारती ने कहा कि उन्हें गलत तरीके से सम्मन जारी किया गया है और सम्मन जारी करने का फैसला डीसीडब्ल्यू के अधिकार क्षेत्र से बाहर है. उन्होंने कहा, “डीसीडब्ल्यू की अध्यक्ष बरखा सिंह ने राजनीतिक प्रतिशोध के चलते उन्हें सम्मन जारी किया है.”

 

विश्वास की याचिका में यह भी मांग की गई थी कि महिला को सार्वजनिक रूप से बयान देने से रोका जाए. शिकायतकर्ता महिला आप की कार्यकर्ता है. आप ने महिला द्वारा लगाए गए आरोपों को निराधार बताया है.

 

शिकायत करने वाली महिला ने 2014 के आम चुनाव में अमेठी लोकसभा क्षेत्र में कुमार विश्वास के चुनाव प्रचार में भाग लिया था. उसने कथित संबंधों को लेकर कुमार विश्वास से सार्वजनिक रूप से अफवाह खारिज करने के लिए कहा था. महिला ने बाद में डीसीडब्ल्यू में शिकायत की थी जिसके बाद विश्वास को सम्मन भेजा गया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Delhi Commission for Women_chairperson_Barkha Singh_Aam Aadmi Party_Kumar Vishwas
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017