'16 दिसंबर' के नाबालिग दोषी की रिहाई, निर्भया के परिजन निराश

By: | Last Updated: Friday, 18 December 2015 2:56 PM
Delhi HC refuses to stay release of 2012 gangrape-murder case juvenile convict

नई दिल्ली : देश को झकझोर कर रख देने वाले ’16 दिसंबर’ गैंगरेप के मामले में अदालत का फैसला आ गया है. फैसले के अनुसार उसकी रिहाई तय मानी जा रही है. क्योंकि अदालत ने कह दिया है कि उसे बाल सुधार गृह में रोका नहीं जा सकता है.  21 साल के हो  चुके दोषी को रिहा न करने को लेकर याचिका दी गई थी. जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत सजायाफ्त दोषी की रिहाई 20 दिसंबर को होनी है. हाई कोर्ट ने अपनी ओर से कहा है कि इस बारे में जुवेनाईल जस्टिस बोर्ड ही फैसला करेगा. निर्भया के परिजन इस फैसले से काफी निराश हैं.

केंद्र सरकार ने भी इस मामले में दोषी को जेल से रिहा नहीं करने की अपील की थी. जबकि, बीजेपी नेता सुब्रमण्यम  स्वामी ने याचिका दी थी कि वह समाज में रहने लायक नहीं है. क्योंकि, सुधार गृह में रहने के दौरान उसका संपर्क आतंकी साजिश में पकड़े गए दोषियों से हो गया था. इस बीच उसकी रिहाई का विरोध निर्भया के मां-बाप भी कर रहे हैं. उन्होंने कहा है कि ऐसे दरिंदों को समाज में रहने का कोई हक नहीं है.

इससे पहलेे दिल्ली सरकार ने यह फैसला किया था कि दोषी का पुर्नवास किया जाएगा. इसकेे लिए उसे 10 हजार रुपए और सिलाई की मशीन दी जाएगी. इस फैसले को लेकर भी काफी बहस हो रही है. निर्भया के मां-बाप ने तो इस फैसले को पागलपन करार दिया है. पुलिस रिकार्ड के अनुसार इसी नाबालिग ने सबसे वहशी भूमिका निभाई थी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Delhi HC refuses to stay release of 2012 gangrape-murder case juvenile convict
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017