दिल्ली पुलिस ने साक्षी महाराज के घर से मीडिया को बाहर निकाला

By: | Last Updated: Tuesday, 13 January 2015 7:30 AM
Delhi : Police presence increased at Sakshi Maharaj’s residence, media asked to leave premises

नई दिल्ली: दिल्ली में बीजेपी सांसद साक्षी महाराज और मीडिया के बीच झड़प हो गई है. आज मीडियाकर्मी ‘चार बच्चों’ वाले विवाद में साक्षी महाराज से बीजेपी के नोटिस की खबर पर प्रतिक्रिया लेने की कोशिश में लगे थे तो पहले वे रेलवे स्टेशन पर पर भड़क गए. जब पत्रकार दिल्ली में उनके सरकारी घर पहुंचे तो साक्षी महाराज की सुरक्षा में लगी दिल्ली पुलिस ने मीडिया को गेट से बाहर कर दिया. यहां पर पत्रकारों के साथ धक्का मुक्की भी की गई.  साक्षी महाराज दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास जियाजी रोड पर स्थित सरकारी आवास में रहते हैं.

 

आपको बता दें कि बीजेपी ने उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज को ‘कारण बताओ’ जारी किया है और उनसे इस बारे में स्पष्टीकरण देने को कहा कि हाल ही में उनके विवादित बयान को लेकर उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं शुरू की जाए?

 

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के निर्देश पर नोटिस भेजा गया है. इस नोटिस में साक्षी महाराज को यह बताने के लिए 10 दिन का समय दिया गया है कि ‘चेतावनी दिए जाने के बाद भी ऐसे विवादित बयान क्यों देते रहे जो पार्टी की नीति के खिलाफ है.’

 

साक्षी महाराज ने पत्रकारों से सिर्फ इतना कहा है कि बीजेपी से उन्हें कोई नोटिस नहीं मिला है. साक्षी महाराज से जब रेलवे स्टेशन पर इस  बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मुझे नोटिस की कोई जानकारी नहीं है. मुझे कोई नोटिस की जानकारी नहीं है.’ जितने भी सवाल पूछे गए सबके जवाब में साक्षी महाराज सिर्फ यह कहते रहे कि उन्हें नोटिस की कोई जानकारी नहीं है.

 

आप क्या रिप्लाई करेंगे? इस वजह से आपको पार्टी से निकाला जा सकता है? दिल्ली चुनावों पर इसका असर पड़ेगा? इन सभी सवालों से खींझे हुए साक्षी महाराज सिर्फ यही कहते रहे, ‘मुझे नोटिस की कोई जानकारी नहीं है. आप क्यों परेशान हैं, मेरे खिलाफ कारवाई होगी ना?

 

साक्षी महाराज ने क्या कहा था-

आपको बता दें कि कुछ ही दिनों पहले साक्षी महाराज उस समय विवादों में आए थे जब उन्होंने हिन्दू महिलाओं से कम से कम चार बच्चे पैदा करने को कहा था. साक्षी महाराज ने कहा था, ‘‘मैं हिंदू महिलाओं से आग्रह करना चाहता हूं कि वे कम से कम चार बच्चों को जन्म दें. उनमें से एक साधुओं और संन्यासियों को दे दें. मीडिया कह रहा है कि सीमा पर संघषर्विराम उल्लंघन की घटनाएं हो रही हैं इसलिए एक को सीमा पर भेजें.’’

 

दूसरे दिन ही साक्षी महाराज ने इस खबर पर कहा, “रात गई, बात गई. वो एक राजनैतिक मंच नहीं था, वो एक आध्यात्मिक कार्यक्रम था. अब उसके बारे में बहुत बहस हो गई, मैं और कुछ कहना नहीं चाहता. यदि मैंने कुछ गलत किया है तो मैं फांसी पर चढ़ने के लिए तैयार हूं.”

 

साथ ही साक्षी ने कहा, ”जो लोग इतना हल्ला कर रहे हैं, या जिन्हें मेरे बयान से दुख पहुंचा है तो कड़ा कानून बनना चाहिए. जो लोग दो या तीन से ज्यादा बच्चे पैदा करे, उनके लिए सजा का प्रावधान होना चाहिए.”

 

साध्वी प्राची के बयान ने आग में घी का काम किया-

साक्षी महाराज के बयानों पर हंगामा मचा हुआ है. हंगामे के बीच बीजेपी नेता साध्वी प्राची ने ‘चार बच्चों’ का बयान देकर साक्षी महाराज वाले विवाद को फिर से तूल दे दिया है. साक्षी महाराज तो बयान से पलट गए थे लेकिन साध्वी प्राची बयान पर कायम हैं. साध्वी प्राची का कहना है की उन्होंने कोई भी गलत बात नहीं कही है. साध्वी प्राची ने कहा, ‘जो चार बच्चों की बात कही है वो मैंने गलत नहीं कहा है. हिंदू संस्कृति की रक्षा के लिए जरूरी है और मैं अपने इस बयान पर कायम हूं. 

 

मध्य प्रदेश के भीलवाड़ा के हिंदू सम्मेलन में साध्वी प्राची ने कहा था, ”हम कहते हैं कि हम दो हमारे दो. लेकिन भाइयों और बहनों अब हमें चार-चार बच्चे चाहिए. कहा जाता है कि शेर का एक बच्चा- यह जो बात कही जा रही है वह गलत है. लेकिन एक शेर के एक बच्चे को हम बॉर्डर पर लड़ने के लिए भेज देंगे तो क्या होगा? पाकिस्तान वहां खून-खराबा कर रहा है. इसलिए चार-चार बच्चे पैदा करो. एक बच्चा देश की रक्षा के लिए बॉर्डर पर भेजो, एक बच्चे को समाज के लिए दो और एक बच्चे को संस्कृति की रक्षा करने के लिए वीएचपी को दे दो.”

 

विपक्ष ने घेरा-

बीजेपी चार बच्चों वाले बयान से परेशान है और परेशान इसलिए है क्योंकि विपक्ष का हमला रूक नहीं रहा है.

कांग्रेस नेता, अभिषेक मनु सिंघवी

‘पार्टी में ऐसे कई साक्षी महाराज है. नोटिस देकर, जवाब लेकर कार्यवाही करने का ये मुद्दा नहीं है. ये देश को विभाजन करने का मुद्दा है. पीएम की तरफ से कोई निंदा का बयान नहीं आया है. उन्हें पार्टी से निष्कासित नहीं किया गया है. इस प्रकार के ढ़ीले एक्शन से और भी ज्यादा प्रोत्साहन मिलता है.’

 

एनसीपी नेता, तारिक अनवर

‘ऐसा सिर्फ दिखावे के लिए किया जा रहा है. ये बात सब जानते हैं कि आरएसएस का एजेंडा यही है कि किसी तरह से लोगों के बीच में घृणा पैदा किया जाए और वोटों का ध्रुवीकरण किया जाए. इन तमाम लोगों को इस काम के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है. अब दिल्ली में चुनाव है इसलिए दिखावे के लिए यह नोटिस दिया गया है. हम जानते हैं कि कोई कार्रवाई नहीं होगी.’

 

जेडीयू नेता, केसी त्यागी

‘साक्षी महाराज को दिया यह नोटिस सिर्फ एक नौटंकी है. जब तक भागवत. सिंघल सरीखे नेताओं पर रोक नहीं लगेगी तब तक इन छोटे नेताओं को नोटिस देने का कोई फायदा नहीं होगा.’

 

 

यह भी पढ़ें-

गांधी के हत्यारे गोडसे को देशभक्त बता साक्षी महाराज ने मांगी माफी 

मुस्लिमों पर पीएम मोदी के बयान के बाद भी अपनी बात पर अड़े हैं साक्षी महाराज 

साक्षी महाराज के संसदीय क्षेत्र के दो मदरसों में हिन्दू मुस्लिम बच्चे साथ ले रहे शिक्षा: जफर इरशाद 

आतंकवाद की शिक्षा का गढ़ हैं मदरसे: साक्षी महाराज 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Delhi : Police presence increased at Sakshi Maharaj’s residence, media asked to leave premises
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017