दिल्ली में 22 फीसदी मतदाताओं के नाम सूची से हटाने की आवश्यकता

By: | Last Updated: Wednesday, 28 January 2015 3:10 PM

नई दिल्ली: दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव में अब दो हफ्ते से भी कम समय बचा है और इस बीच एक एनजीओ ने अपने सर्वेक्षण का हवाला देते हुए आज दावा किया कि दिल्ली की मतदाता सूची में गंभीर खामियां हैं और कुल 1.33 करोड़ मतदाताओं में से कम से कम 22 फीसदी मतदाताओं के नाम हटाए जाने की आवश्यकता है.

 

अपने सर्वेक्षण के निष्कषरें को जारी करते हुए जनाग्रह सेंटर फॉर सिटिजनशिप एंड डेमोक्रेसी ने कहा कि 22 फीसदी मतदाताओं के नाम हटाए जाने की आवश्यकता है. इसके अलावा 11 फीसदी मतदाताओं का पता नहीं पाया गया.

 

इससे पहले इस महीने दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी ने दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष माना था कि आगामी चुनावों के लिए उसकी ओर से जारी मतदाता सूची में गलतियां हैं. एनजीओ ने कहा कि तकरीबन 33 फीसदी नामों को मतदाता सूची से हटाने की आवश्यकता हो सकती है और इसमें गंभीर खामियां हैं. दिल्ली में सात फरवरी को चुनाव होने वाले हैं.

 

मतदाता सूची में त्रुटियों की जानकारी देते हुए एनजीओ ने बताया कि 22 फीसदी जिन नामों को हटाए जाने की आवश्यकता है उनमें वह लोग शामिल हैं, जो दिल्ली से बाहर चले गए हैं या जिनकी मौत हो चुकी है या जेल में बंद हैं.

 

चुनाव आयोग ने एक याचिका पर अपने जवाब में कहा था कि वह अपनी गलतियों को सुधार रहा है और उन लोगों की पहचान करने का प्रयास कर रहा है जिन्होंने गलती की. याचिका में राष्ट्रीय राजधानी में फर्जी मतदाताओं की मौजूदगी का आरोप लगाया गया था.

 

जनाग्रह सेंटर फॉर सिटिजनशिप एंड डेमोक्रेसी ने कहा कि सर्वेक्षण दिल्ली के आठ विधानसभा क्षेत्रों में किया गया, जिसमें कहा गया कि 42.50 लाख मतदाताओं के नाम हटाने की आवश्यकता है. सर्वेक्षण के अनुसार अधिकतम 38 फीसदी त्रुटि संगम विहार में पाई गई जबकि सबसे कम 16 फीसदी त्रुटि रोहिणी में पाई गई.

 

निष्कषरें के बारे में बात करते हुए जनाग्रह के समन्वयक श्रीकांत विश्वनाथन ने कहा, ‘‘स्थान परिवर्तन कर चुके, जिन लोगों के नामों की पुनरावृत्ति है या जो मर चुके हैं उन मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से हटाने की आवश्यकता है और जिन 11 फीसदी मतदाताओं का पता नहीं पाया गया है वह भी हटाए जाने वाले संभावितों में हैं.’’

 

उन्होंने कहा कि अगर 2013 के विधानसभा चुनाव में जिस तरह से कई सीटों पर मामूली अंतर से हार-जीत हुई, उसको देखते हुए ये त्रुटियां चुनाव के नतीजे पर प्रभाव डाल सकती हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Delhi polls: 22 per cent voters names need deletion, says NGO
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Delhi ngo poll voter Voter-List
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017