दिल्ली से आगरा अब 90 मिनट में, दिल्ली से आगरा के बीच हाई स्पीड ट्रेन का हो रहा है ट्रायल

By: | Last Updated: Thursday, 3 July 2014 4:31 AM
delhi_agra_highspeed_train

नई दिल्ली: देश की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन का ट्रायल रन शुरू हो गया है. ठीक सवा ग्यारह बजे नई दिल्ली स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर छह से सेमी बुलेट ट्रेन आगरा के लिए रवाना हो गई थी. ट्रेन अब आगरा पहुंच गई है.  11.15 बजे नई दिल्ली से रवाना होने के बाद ट्रेन 11 बजकर 36 मिनट पर फरीदाबाद पुहंची.  ट्रेन 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलकर 90 मिनट में आगरा तक का सफर तय करेगी.

 

दिल्ली से आगरा की दूरी एक सौ पनचानवे किलोमीटर है. अभी इस रूट पर भोपाल शताब्दी सबसे तेज चलने वाली ट्रेन है. जो 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलकर दिल्ली से आगरा की दूरी 126 मिनट में तय करती है. सेमी बुलेट ट्रेन इस सफर को 90 मिनट पर तय करेगी. सवाल ग्यारह बजे नई दिल्ली के प्लेटफॉर्म नंबर 6 से ट्रेन रवाना होगी.

 

दिल्ली से आगरा 90 मिनट

बुलेट ट्रेन तो नहीं लेकिन सेमी बुलेट ट्रेन का ये सपना तो अब  साकार होने जा रहा है. 3 जूलाई को इसका पहला ट्रायल रन होगा. इसके लिए सारी तैयारियां पूरी हो चुकी है. डिविजिनल रेलवे मैनेजर और कमिश्नर रेलवे सेफटी इसका जायजा लेने के लिए जा रहे है 3जुलाई को.

 

फिलहाल पहली सेमी बुलेट ट्रेन 160 की स्पीड पर दिल्ली और आगरा के बीच चलेगी. अभी इस रुट पर सबसे तेज गाड़ी भोपाल शताब्दी है, जो 110 किलोमीटर की रफ्तार से चल कर 126 मीनट में दूरी तय करती है. लेकिन अब इसे घटा कर 90 मीनट करना है, जिसके लिए ट्रक पर काम करना है. सूत्र बताते है कि आने वाले जूलाई के बजट में भी इस पर जोर रहेगा.

 

नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले रेलवे के लिए अपने भाषणों में एक ही जिक्र किया था, देश को बुलेट ट्रेन का वादा . नए रेल मंत्री और प्रधआनमंत्री के बीच की पहली मुलाकात में इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने त्वरित गति से काम करने के आदेश दिए है. जिसके बाद उम्मीद जताई जा रही  है कि इस साल नवंबर तक ये शुरु भी कर लिया जाएगा.  

 

आज देश की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन का ट्रायल रन हो रहा है. लेकिन सरकार का सपना इससे भी कहीं आगे है. सरकार ने चुनाव में जिस बुलेट ट्रेन का सपना दिखाया था उस पर अब काम शुरू हो चुका है. सेमी बुलेट के बाद बुलेट ट्रेन का सपना पीएम नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. भारत में ये हकीकत के कितना करीब है ये बताने से पहले आपको बताते हैं कि बुलेट ट्रेन आखिर है क्या?

 

दुनिया के चुनिंदा देश हैं जो बुलेट ट्रेन चला रहे हैं इन्हीं में शामिल हैं जापान, चानी, फ्रांस और जर्मनी जैसे देश.

 

जापान ने कुछ महीने पहले ही ऐसी ट्रेन का परीक्षण किया जिसकी रफ्तार 500 किलोमीटर प्रतिघंटे थी. ये ट्रेन पटरियों पर नहीं बल्कि चुंबकीय ट्रैक पर दौड़ती है इन्हें मैगलेव ट्रेनों के नाम से जाना जाता है.

 

इन ट्रेनों को पटरी पर आने में वक्त लगेगा लेकिन औसतन 318 किलोमीटर के रफ्तार से दौड़ने वाली ट्रेन जापान में खूब दौड़ रही हैं. अब जरा 318 की औसत से लंबी दूरी की भारतीय ट्रेनों की तुलना करके देखिए ये औसत 70-80 के आसपास ही बैठती है.

 

बुलेट ट्रेन पटरी पर लगे इलैक्ट्रोमैगनेटों के तीव्र चुंबकीय बल के चलते हवा में कुछ सेंटीमीटर ऊपर उठ जाती हैं और चुंबकों के कारण ही हवा में सरपट भागती हैं. जबकि साधारण ट्रेन पटरी पर पहियों के सहारे चलती हैं. बुलेट ट्रेन भार भी ज्यादा ढो सकती हैं और इससे पटरियों में टूट-फूट की आशंका भी कम होती हैं. इतनी तेज रफ्तार गाड़ियों को सिग्नल देना इंसानों के बस की बात नहीं लिहाजा ये ट्रेन कंप्यूटर के इशारे पर चलती हैं.

 

चाहिए क्या होगा

भारत को अगर बुलेट ट्रेन चलानी हैं तो मौजूदा पटरियों पर वो इसे नहीं दौड़ा सकता. इसके लिए नए सिरे से पटरियां तैयार करनी होंगी. भारत को पैसा चाहिए होगा इस नए रूट को बिछाने के लिए. इसकी लागत भी आम पटरियों से कहीं ज्यादा है. भारत को वक्त चाहिए होगा क्योंकि नए सिरे से काम करने में लंबा वक्त लगने वाला है. ऐसे में ये सपना तो अच्छा लगता है लेकिन जल्दी में पूरा होता नजर नहीं आता.

 

जापान ने साल 1964 में बुलेट ट्रेन की शुरूआत की थी. अब 2240 किलोमीटर के ट्रैक पर जापान में बुलेट दौड़ती है. फ्रांस ने 1981 में, जर्मनी ने 1991 में और चीन ने 2007 में बुलेट ट्रेन की शुरूआत कर दी थी. लेकिन शुरू करने से पहले दशकों की मेहनत लगी थी. भारत की हालत इनसे अलग है हमारे पर 64 हजार किलोमीटर लंबा नेटवर्क तो है लेकिन उसमें से सिर्फ 15-20 फीसदी ही 170 किलोमीटर की रफ्तार झेलने लायक है.

 

भारत के सामने एक नहीं ऐसी कई दिक्कतें हैं जो बुलेट ट्रेन की राह को मुश्किल बना रही हैं. ऐसे में सवाल ये भी पूछा जा रहा है कि भारत जैसे इकॉनोमी के लिए क्या बुलेट ट्रेन जरूरी भी है?

 

सबसे बड़ा सवाल ये है कि अगर बुलेट ट्रेन आ भी गई तो क्या उसे भारतीय रेल सुरक्षा के साथ चला भी पाएगी. मौजूगा ट्रैक रिकॉर्ड को देखकर ये सवाल पूछा जाना लाजिमी भी है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_agra_highspeed_train
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे हुई ?
गोरखपुर ट्रेजडी: इलाहाबाद HC ने योगी सरकार से पूछा सवाल, बच्चों की मौत कैसे...

इलाहाबाद: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले की न्यायिक जांच की मांग को...

योगी के बयान पर बोले अखिलेश- थानों में पहले भी मनती थी जन्माष्टमी, हमने रोक नहीं लगाई
योगी के बयान पर बोले अखिलेश- थानों में पहले भी मनती थी जन्माष्टमी, हमने रोक...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री...

ABP न्यूज़ का खुलासा: सृजन NGO में बाहर से सामान मंगाकर सिर्फ पैकिंग होती थी
ABP न्यूज़ का खुलासा: सृजन NGO में बाहर से सामान मंगाकर सिर्फ पैकिंग होती थी

भागलपुर:  बिहार में जिस सृजन घोटाले को लेकर राजनीति गरम है उसको लेकर बड़ा खुलासा किया है. एबीपी...

CCTV में कैद दिल्ली का 'दुशासन': 5 स्टार के सिक्योरिटी मैनेजर ने की महिला से छेड़खानी
CCTV में कैद दिल्ली का 'दुशासन': 5 स्टार के सिक्योरिटी मैनेजर ने की महिला से...

नई दिलली: राजधानी दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में महिला से छेड़खानी का एक सनसनीखेज मामला सामने...

आज हर कीमत पर चुनाव जीतना चाहती हैं राजनीतिक पार्टियां: चुनाव आयुक्त
आज हर कीमत पर चुनाव जीतना चाहती हैं राजनीतिक पार्टियां: चुनाव आयुक्त

गुरुवार को एडीआर के एक कार्यक्रम में चुनाव आयुक्त ने कहा, जब चुनाव निष्पक्ष और साफ सुथरे तरीके...

भारत को मिला जापान का साथ, डोकलाम में सेना की तैनाती को सही ठहराया
भारत को मिला जापान का साथ, डोकलाम में सेना की तैनाती को सही ठहराया

नई दिल्ली: डोकलाम को लेकर चीन से तनातनी के बीच भारत को जापान का समर्थन मिला है. जापान ने डोकलाम...

2015 से पहले के तेजाब हमला पीड़ितों को मिल सकता है मुआवजा
2015 से पहले के तेजाब हमला पीड़ितों को मिल सकता है मुआवजा

नई दिल्ली: दिल्ली की आप सरकार तेजाब हमलों के उन मामलों पर विचार करेगी, जो सरकार की 2015 में...

बलात्कार पीड़ित 10 साल की लड़की ने  बच्चे को जन्म दिया
बलात्कार पीड़ित 10 साल की लड़की ने बच्चे को जन्म दिया

चंडीगढ़: बलात्कार पीड़ित एक 10 साल की लड़की ने कल अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया. लड़की के...

‘साझी विरासत’ को बचाने के लिए एकजुट होकर लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां
‘साझी विरासत’ को बचाने के लिए एकजुट होकर लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां

नई दिल्ली:  लगभग एक दर्जन से ज्यादा विपक्षी पार्टियों ने कल एक मंच पर आकर आरएसएस पर तीखा हमला...

गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद
गुजरात में स्वाइन फ्लू से अबतक 230 की मौत, राज्य ने केंद्र से मांगी मदद

अहमदाबाद: गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में स्वाइन फ्लू की स्थिति के बारे में...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017