दिल्ली चुनाव: पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले इस बार कम बिकी प्रचार सामग्री

By: | Last Updated: Thursday, 5 February 2015 7:45 AM

नई दिल्ली: दिल्ली में विधानसभा चुनावों का प्रचार जहां अंतिम दौर में पहुंच रहा है वहीं दिल्ली में सालों से चुनाव प्रचार सामग्री का व्यापार करने वाले व्यापारियों में इन चुनावों को लेकर थोड़ी मायूसी है.

 

दिल्ली के सदर बाजार का बारहटूटी चौक सालों से प्रचार सामग्री के व्यापार का केंद्र रहा है. यहां पर पिछले दस सालों से प्रचार सामग्री का व्यापार कर रही हरप्रीत कौर ने बताया, ‘‘पिछले साल 2013 में जब दिल्ली के विधानसभा चुनाव हुए थे तो काफी चुनाव सामग्री बेची थी और सबसे ज्यादा कांग्रेस फिर बीजेपी की चुनाव सामग्री बिकी थी लेकिन इस बार उसका 20 प्रतिशत भी नहीं बिका है. पहले से जो ऑर्डर तैयार करा रखा था वह भी ऐसा ही रखा है.’’

 

यहां पिछले 15 साल से प्रचार सामग्री का व्यापार कर रहे शमशाद ने प्रचार सामग्री के कम बिकने का कारण बताया कि पिछले बार राजस्थान और मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव भी थे तो अच्छी कमाई हुई थी और लोकसभा चुनावों की भी हवा थी लेकिन इस बार तो जैसे लग रहा है कि चुनावों का मौसम ही नहीं है. इस बार उनकी बिक्री पिछले चुनावों के मुकाबले 50 प्रतिशत तक घट गई है.

 

इस बार चुनाव सामग्री में किस पार्टी की ज्यादा मांग है के बारे में पूछे जाने पर 20 साल से इसका काम कर रहे महेंद्र ने बताया, ‘‘बीजेपी और आम आदमी पार्टी की सामग्री की बिक्री लगभग बराबर बनी हुई है लेकिन कांग्रेस का प्रचार इस बार फीका है. पिछले 20 साल में प्रचार में आए फर्क के बारे में उन्होंने बताया कि पहले सिर्फ झंडे वगैरह ही बना करते थे लेकिन अब नयी तरह की सामग्री है. पेन, बैच, पटके से लेकर महिलाओं के बालों में लगाने की क्लिप तक पर पार्टी अपना प्रचार करवा रही हैं.

 

इन चुनावों में ज्यादा बिक्री किस सामान की हुई है के बारे में यहां काम करने वाले अनिल कुमार ने बताया कि इस बार सबसे ज्यादा फैशन में गांधी टोपी है. आम आदमी पार्टी ने इसकी शुरूआत की थी लेकिन अभी बीजेपी, बीएसपी, कांग्रेस सब अपनी टोपियां बनवा रहे हैं. इसके अलावा बैच और पटकों की ही बिक्री हो रही है, झंडे वगैरह कम ही बिके हैं.

प्रचार सामग्री में बैच की कीमत जहां आठ आने (पचास पैसे) से लेकर पांच रूपये तक है, वहीं पटके दो रूपये से लेकर छह-सात रूपये तक बिक रहे हैं और टोपियों की कीमत तीन रूपये से शुरू होती है.

 

प्रचार सामग्री के कम बिकने की एक बड़ी वजह दुकानदार नए जमाने में हाईटेक होते प्रचार को मानते हैं. सोशल मीडिया, मोबाइल संदेश इत्यादि नए प्रचार माध्यम बने हैं और बैनर व झंडों की जगह फ्लैक्स बोडरें ने ले ली है.

 

संबंधित खबरें-

EXCLUSIVE: दिल्ली का चुनाव मोदी सरकार का जनमत संग्रह नहीं, पीएम का 15 लाख अकाउंट में आने का बयान सियासी जुमला था- अमित शाह 

दिल्ली चुनाव मोदी सरकार के कामकाज पर जनमत संग्रह नहीं: वेंकैया नायडू  

चुनाव प्रचार के दौरान मनीष सिसोदिया और बिन्नी ने मिलाया हाथ 

दिल्ली चुनाव: बाहर से आए बीजेपी और आम आदमी पार्टी के हजारों प्रचारक 

ABP LIVE: केजरीवाल ने बीजेपी की तुलना कौरवों से की 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_elcetoion_campaiging_material
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017