...तो ये है दिल्ली में 'आप' के मंत्री

By: | Last Updated: Saturday, 14 February 2015 5:36 PM

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) को जनता ने प्रचंड बहुमत से विजयी बनाया. शनिवार को आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल व छह मंत्रियों ने रामलीला मैदान में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

 

यहां पेश है उनका संक्षिप्त जीवन परिचय-

 

अरविंद केजरीवाल (46): भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियर केजरीवाल लंबे समय से भ्रष्टाचार-रोधी आंदोलन से जुड़े रहे हैं. साल 2006 में उन्हें रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जिसे एशिया का नोबेल पुरस्कार कहा जाता है. साल 2011 में गांधीवादी समाजसेवी के साथ भ्रष्टाचार-रोधी आंदोलन के बाद केजरीवाल का नाम बच्चे-बच्चे की जुबान पर आ गया.

 

भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) के पूर्व अधिकारी ने नवंबर 2012 में आम आदमी पार्टी का गठन किया और दिसंबर 2013 में दिल्ली के मुख्यमंत्री बने. 49 दिनों तक सरकार चलाने के बाद फरवरी 2014 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

 

इसी साल हुए लोकसभा चुनाव में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए. इसके बाद उन्होंने पार्टी को नया स्वरूप दिया और 10 फरवरी को हुए विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत से जीत दर्ज की.

 

मनीष सिसोदिया (43): पत्रकार से सामाजिक कार्यकर्ता बने सिसोदिया को केजरीवाल का दाहिना हाथ माना जाता है. केजरीवाल द्वारा कोई भी विभाग न रखने के फैसले के बाद सिसोदिया सबसे प्रभावशाली मंत्री बन गए हैं. उम्मीद है कि सरकार का संचालन वही करेंगे, जबकि केजरीवाल सब पर निगरानी रखेंगे.

 

गोपाल राय (38): ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) तथा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माले) के पूर्व कार्यकर्ता गोपाल राय आप में शामिल हुए और फिलहाल वह राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं. वह आंशिक तौर पर लकवे के शिकार हैं, क्योंकि छात्र जीवन में एक बार उन्हें गोली लग गई थी.

 

साल 2013 में वह दिल्ली विधानसभा चुनाव हार गए थे. कुछ महीने पहले अन्ना हजारे की मौजूदगी में उनका पूर्व सेनाध्यक्ष वी.के.सिंह के साथ मौखिक विवाद हो गया था, जिसके बाद अन्ना ने उन्हें रालेगण-सिद्धि से निकल जाने के लिए कह दिया था.

 

आसिम अहमद खान (38): उन्होंने पांच बार से विधायक रहे शोएब इकबाल को मटियामहल सीट से हराया. आप की वेबसाइट के मुताबिक खान ने शिक्षा, स्वास्थ्य व संस्कृति से जुड़े कई सामाजिक कार्यो में हिस्सा लिया है.

 

सत्येंद्र जैन (49): साल 2013-14 में केजरीवाल की सरकार में वह स्वास्थ्य मंत्री थे. शकूर बस्ती से विधायक जैन पेशे से वास्तुकला सलाहकार हैं. अन्ना हजारे की मुहिम का हिस्सा बनने के लिए उन्होंने केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की नौकरी छोड़ दी थी. वह एक सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं.

 

जितेंद्र सिंह तोमर (48): वह पेशे से वकील हैं. साल 2013 में कांग्रेस छोड़कर वह आप में शामिल हुए थे. पिछले विधानसभा चुनाव में वह त्रिनगर से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से चुनाव हार गए थे.

 

संदीप कुमार (34): पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर संदीप टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) में नौकरी कर चुके हैं. उन्होंने अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार रोधी आंदोलन में हिस्सा लिया था.

 

सत्येंद्र जैन को मिला केजरीवाल के प्रति निष्ठा का इनाम

 

दिल्ली की नयी सरकार में स्वास्थ्य और उर्जा जैसे विभागों को संभालने वाले मृदुभाषी आप नेता सत्येंद्र जैन आर्किटेक्ट हैं और उन्हें पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल के प्रति निष्ठा रखने के लिए यह इनाम मिला है. 50 वर्षीय जैन केजरीवाल नीत सरकार के मंत्रिमंडल में सबसे अधिक उम्र के सदस्य हैं.

 

आमतौर पर मीडिया से दूर रहने वाले और मृदुभाषी जैन को उनके पिछले कार्यकाल में किये गये अच्छे कामकाज के चलते यह जिम्मेदारी फिर सौंपी गयी है. उन्हें पिछले कार्यकाल में अस्पतालों में दवाओं के पर्याप्त भंडार सुनिश्चित करने का श्रेय जाता है. उन्हें स्वास्थ्य विभाग के अलावा उद्योग और लोक निर्माण विभाग जैसे अहम मंत्रालय भी सौंपे गये हैं.

 

सिसौदिया और केजरीवाल के करीबी माने जाने वाले जैन नयी सरकार में एकमात्र मंत्री हैं जो पिछली सरकार के मंत्रिमंडल में भी थे. जैन इंडिया अगेंस्ट करप्शन के दिनों से केजरीवाल के साथ हैं. जब केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी बनाई तो वह भी इसका हिस्सा बने.

 

वह मुस्लिम बहुल शकूर बस्ती से विधायक निर्वाचित हुए हैं. जैन ने इस बार भाजपा के एस सी वत्स को 3,133 वोट के अंतर से हराया.

 

आसिम अहमद खान को मिला कैबिनेट मंत्री का पद

 

आम आदमी पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के सदस्य से लेकर मंत्री बनने तक के सफर में आसिम अहमद खान ने अपनी पहचान मटिया महल विधानसभा से पांच बार के विधायक शोएब इकबाल को शिकस्त देकर बनाई है.

 

खान ने इकबाल को 26,000 से अधिक वोटों से हराया लेकिन इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि आप के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ ने कांग्रेस से अल्पसंख्यकों का वोट खींचने में बड़ी भूमिका निभाई जिसके चलते आम आदमी पार्टी ने शानदार जीत हासिल की है.

 

खान को खाद्य और नागरिक आपूर्ति, पर्यावरण और वन तथा चुनाव विभागों के मंत्री के रूप में जिम्मेदारी सौंपी गयी है. 38 वर्षीय खान ने चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ से स्नातक की डिग्री प्राप्त की है. वह पेशे से कारोबारी हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_election_aap_arvind kejriwal_minister
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: AAP arvind kejriwal Delhi election minister
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017