LIVE: दिल्ली में फिर से चुनाव? चंद मिनटों में एलजी- केजरीवाल की होगी मुलाकात

By: | Last Updated: Monday, 3 November 2014 3:41 AM
delhi_government

नई दिल्ली: दिल्ली में सरकार बनाने को नौ महीने से चल रहा नाटक अब खत्म होता दिख रहा है. दिल्ली के पूर्व सीएम अरविंद केजरीवाल एलजी नजीब जंग से चंद मिनटों में मिलने वाले हैं.

 

इससे पहले अरविंद केजरीवाल को एलजी ने दोपहर दो बजे बुलाया था, लेकिन तब आने से मना करने के बाद उन्हें शाम को बुलाया गया है. अब खबरें हैं कि चंद मिनटों में केजरीवाल एलजी से मिलने वाले हैं.

 

आपको बता दें कि सुबह में बीजेपी नेता सतीश उपाध्याय जब एलजी से मिले तो उन्होंने साफ कर दिया कि बीजेपी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं है.

 

केजरीवाल लिखी चिट्ठी

 

इससे पहले, बीजेपी के सरकार बनाने से इनकार के बाद केजरीवाल ने एलजी नजीब जंग के बुलावे पर टालमटौल का रवैया अपनाते हुए मुलाकात के लिए और वक़्त दिए जाने की मांग की है. एलजी को चिट्ठी लिखते हुए केजरीवाल ने कहा, “अभी 12.50 बजे हैं और आपने दो बजे बुलाया है. दो बजे मुलाकात मुमकिन नहीं है, शाम को या कल सुबह मुलाकात का समय दें.” इसके साथ ही केजरीवाल ने एलजी से सरकार बनाने पर बीजेपी का अधिकारिक रुख भी पूछ डाला है.

 

केजरीवाल की इस रुख से कई सवाल खड़े हो गए हैं. केजरीवाल अब तक दिल्ली में बीजेपी को सरकार बनाने से रोकने की मांग करते रहे हैं. चुनाव की मांग करते रहे हैं. पर अब ट्विटर पर केजरीवाल ने एलजी को सलाह दी है कि उन्हें वही प्रक्रिया अपनानी चाहिए जो उन्होंने दिसंबर में अपनाई थी.

 

एक्सपर्ट के मुताबिक केजरीवाल ने ऐसा करके एक बड़ी चाल चलने की कोशिश की है. इसका सीधा मतलब ये है कि अगर बीजेपी सरकार बनाने से इनकार करती हैं तो फिर से आप और कांग्रेस गठबंधन की सरकार बना सकते हैं. हालांकि, कांग्रेस ‘आप’ को समर्थन देने से इनकार कर रही है.

 

इस बीच खबर ये है कि बीजेपी ने अपने प्रवक्ताओं को दिल्ली में सरकार बनाने के सवाल पर किसी भी तरह का बयान देने से रोक दिया है.

 

बीजेपी चुनाव के पक्ष में

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह जोड़-तोड़ से दिल्ली में सरकार बनाने के खिलाफ हैं. पीएम और शाह दोनों दिल्ली में फिर से चुनाव कराने के पक्ष में है.

 

प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह चुनावों के पक्ष में हैं और आज शाम तक इस पर आखिरी फैसला हो जाएगा होगा. सूत्रों के मुताबिक फैसला होने पर अगले 24 से 48 घंटो में दिल्ली विधानसभा भंग हो सकती है. सूत्रों के मुताबिक अगले 24 से 48 घंटों में दिल्ली में चुनाव का एलान संभव है.

 

बीजेपी नहीं बनाएगी सरकार

सूत्रों के मुताबिक आज सुबह बीजेपी नेता सतीश उपाध्याय जब एलजी से मिले तो उन्होंने साफ कर दिया कि बीजेपी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं हैं. इसका मतलब ये है कि दिल्ली में सरकार नहीं बनने जा रही है. चुनाव का रास्ता साफ हो गया है. बीजेपी ने ये रुख तब रखा है जब ये खबर आई कि पीएम मोदी और अमित शाह दिल्ली में जोड़ तोड की सरकार के पक्ष में नहीं. चुनाव चाहते हैं. हालांकि आज शाम आप और कांग्रेस नेताओं की एलजी से मुलाकात होने वाली है.

इससे पहले खबर आई थी कि दिल्ली में सरकार बनाने की संभावनाएं तलाश करने के लिए एलजी नजीब जंग आज से चर्चा शुरू करेंगे. आज शाम बीजेपी, आप और कांग्रेस नेताओं को बातचीत के लिए एलजी ने बुलाया है. तीनों पार्टियों से एलजी की अलग-अलग बात होगी. आप के नेता शाम पौने 6 बजे एलजी से मिलेंगे. एलजी ने कुछ दिन पहले सबसे मिलकर बात करने की बात की थी जिसकी सराहना सुप्रीम कोर्ट ने भी की थी.

 

 

केजरीवाल ने क्या कहा था

गौरतलब है आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को सोशल नेटवर्किंग  साइट ट्विटर पर लिखा था कि बीजेपी एक संविधान संशोधन के जरिए फिर से दिल्ली को केंद्रशासित प्रदेश बनाने की तैयारी में है.

 

केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा है कि सरकार के एक सीनियर अफसर ने बताया है और एक वरिष्ठ संपादक ने पुष्टि की है कि दिल्ली में बीजेपी सरकार बनाने की एक और कोशिश करेगी. केजरीवाल ने ये भी लिखा कि नाकाम रहने पर बीजेपी विधानसभा भंग कर देगी और संविधान संशोधन से दिल्ली से विधानसभा की व्यवस्था खत्म करा देगी. दिल्ली को फिर से UT यानि केंद्रशासित प्रदेश बनाएगी. क्या ये सही है?

वहीं कांग्रेस नेता मुकेश शर्मा ने कहा, ” दिल्ली विधानसभा भंग होनी चाहिए. जम्मू-कश्मीर और झारखंड के साथ ही दिल्ली में भी विधानसभा चुनाव होना चाहिए.”

 

सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ था?

दिल्ली में सरकार बनाने के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा था कि देश में पहले भी अल्पमत की सरकार बनी है. इसी के साथ बिना किसी दिशा-निर्देश के साथ सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई 11 नवंबर तक टाल दी थी.उपराज्यपाल नजीब जंग ने भी कहा था कि वो सरकार बनाने के मामले में सभी दलों से बातचीत करेंगे. इसके बाद से माना जा रहा था कि दिल्ली में बीजेपी अल्पमत की सरकार बना सकती है.

 

दिल्ली में क्या है स्थिति?

दिल्ली में फरवरी 2014 से विधानसभा निलंबित है और राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है. आम आदमी पार्टी की सरकार ने 49 दिन की सरकार के बाद इस्तीफा दे दिया था.

 

दिल्ली विधानसभा में फिलहाल 67 विधायक हैं जिसमें बीजेपी के पास 29, आम आदमी पार्टी के पास 27, कांग्रेस के पास 8 और अन्य के पास 3 विधायक हैं. इस लिहाज से बीजेपी के पास बहुमत के 34 आंकड़े तक पहुंचने के लिए 5 विधायक कम पड़ते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_government
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017