सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में सरकार के लिए एलजी की कोशिशों की तारीफ की, 11 नवंबर तक टली सुनवाई

By: | Last Updated: Thursday, 30 October 2014 1:46 AM

नई दिल्ली: दिल्ली में सरकार बनाने के मुद्दे पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होने वाली सुनवाई 11 नवंबर तक टल गई है.  इसके साथ ही अदालत ने दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर उपराज्यपाल नजीब जंग की कोशिशों की तारीफ भी की.

चीफ जस्टिस एचएल दत्तू ने दिल्ली में सरकार बनाने के मुद्दे पर कहा कि हमने अखबारों में पढ़ा है कि उपराज्यपाल दिल्ली में सरकार बनाने की कोशिशें कर रहे हैं और उनके ये प्रयास एक सकारात्मक कदम हैं.

 

चीफ जस्टिस ने कहा कि देश में पहले भी अल्पमत की सरकार बनी है. इसी के साथ बिना किसी दिशा-निर्देश के साथ सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई 11 नवंबर तक टाल दी.

 

सुप्रीम कोर्ट की इस सुनवाई के बाद सवाल ये कि क्या दिल्ली में बीजेपी की अल्पमत की सरकार बनेगी? क्या 12 दिन में बीजेपी की सरकार बनेगी?

 

उपराज्यपाल की कोशिश

कल उप राज्यपाल ने कहा कि वो सरकार बनाने के मामले में सभी दलों से बातचीत करेंगे. उप राज्यपाल के इस प्रस्ताव पर केजरीवाल ने कहा कि वो कोर्ट में सुनवाई टालने के लिए ये प्रस्ताव लेकर आए हैं. बीजेपी पूरे मसले पर कुछ बोलने से बच रही है.  अब सवाल उठता है कि आखिर दिल्ली में सरकार कैसे बनेगी ?

 

दिल्ली में सरकार पर बुधवार को एलजी नजीब जंग ने बयान देते हुए कहा कि वह दिल्ली में सरकार बनाने की संभावनाओं पर अगले कुछ दिनों में सभी पार्टियों से बात करेंगे.

 

इससे पहले मंगलवार को कोर्ट ने सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा था कि लोकतंत्र में लंबे समय तक राष्ट्रपति शासन ठीक नहीं है.

 

दिल्ली में सरकार बनाने की संभावनाओं को तलाशने की बात कहते हुए उप राज्यपाल नजीब जंग ने बुधवार को एक प्रेस रिलीज जारी की थी. उन्होंने कहा है कि दिल्ली में लोकप्रिय सरकार के गठन की संभावना तलाशने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी मिल चुकी है. लिहाजा उपराज्यपाल नजीब जंग अगले कुछ दिनों के दौरान सभी राजनीतिक दलों के नेताओं से बात करके सभी संभावनाओं की तलाश करेंगे.

 

दिल्ली विधानसभा की मौजूदा स्थिति

दिल्ली विधानसभा में फिलहाल 67 विधायक हैं जिसमें बीजेपी के पास 29, आम आदमी पार्टी के पास 27, कांग्रेस के पास 8 और अन्य के पास 3 विधायक हैं. इस लिहाज से बीजेपी के पास बहुमत के 34 आंकड़े तक पहुंचने के लिए 5 विधायक कम पड़ते हैं.

 

वैसे निर्दलीय विधायक राजवीर सिंह शौकीन बीजेपी के साथ खड़े हैं. अगर आप से अलग हुए बिन्नी भी बीजेपी के साथ चले जाएं और अगर 25 नवंबर को होनेवाले उपचुनाव में बीजेपी तीनों सीट जीत भी लेती है तब भी उसके पास 34 विधायक ही होंगे. मतलब तब भी वो बहुमत के जादुई आंकडें से 2 अंक पीछे रह जाएगी.

 

 

दिल्ली में फरवरी 2014 से विधानसभा निलंबित है और राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है. आम आदमी पार्टी की सरकार ने 49 दिन की सरकार के बाद इस्तीफा दे दिया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_government_sc_hearing
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017