बीजेपी मुख्यालय, अमित शाह और आडवाणी के घर के बाहर लगे मोदी विरोधी संजय जोशी की 'घर वापसी' के पोस्टर

By: | Last Updated: Saturday, 18 April 2015 2:01 AM
delhi_sanjay_joshi_support_poster

नई दिल्ली: बीजेपी नेता संजय जोशी की घर वापसी की मांग को लेकर आज सुबह दिल्ली में बीजेपी मुख्यालय और बीजेपी के बड़े नेताओं के घर के बाहर होर्डिंग लगे हुए नज़र आए. ये पोस्टर बीजेपी नेता और मोदी विरोधी माने जाने वाले संजय जोशी के समर्थन में लगाए गए हैं.

 

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और लालकृष्ण आडवाणी के घर के बाहर लगे इन होर्डिंग्स पर संजय जोशी की घर वापसी की मांग की गई है. इसके साथ-साथ इन होर्डिंग्स पर यह भी लिखा है कि अगर सबसे होती है मन की बात तो फिर सुनो हमारे भी मन की बात.

 

इसके अलवा होर्डिंग्स पर लिखा है कि, सबका साथ सबका विकास तो फिर क्यों नही संजय जोशी का साथ? अब तक मिली जानकारी के मुताबिक बीजेपी मुख्यालय के बाहर लगे होर्डिंग्स कोहटा दिया गया है.

संजय जोशी की ‘घर वापसी’ के पोस्टर 

आपको बता दें कि संजय जोशी मोदी के विरोधी माने जाते हैं. इससे पहले संजय जोशी के जन्मदिन पर पोस्टर लगाने को लेकर केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक को डांट पड़ी थी.

 

क्या था संजय जोशी के जन्मदिन बधाई देने का मामला?

मोदी सरकार के तीन मंत्री श्रीपद यसो नायक, डॉक्टर संजीव कुमार बालियान और सर्बानन्द सोनवाल मुश्किल में पड़ गए थे. पोस्टर लगाने के आरोप में श्रीपद नायक के पीए नितिन सरदारे की छुट्टी हो गई है. अमित शाह ने नायक को फोन करके फटकारा भी था.

 

केंद्रीय राज्य मंत्री श्रीपद नायक की कुर्सी खतरे में पड़ गई थी. वजह उनके निजी सहायक ने भाजपा के पूर्व संगठन महामंत्री और पीएम नरेंद्र मोदी के धुर विरोधी माने जाने वाले संजय जोशी का पोस्टर लगाकर उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी थीं.

 

संजय जोशी का जन्मदिन 6 अप्रैल को था. देशभर के विभिन्न हिस्सों में जोशी को जन्मदिन की शुभकामनाएं देने वाले पोस्टर उनके समर्थकों ने लगाए. पोस्टर में शुभकामनाएं कुछ अन्य मंत्रियों और भाजपा पदाधिकारियों के सहायक और उनके मातहत काम करने वालों की तरफ से दी गई थीं.

जानें: कौन हैं संजय जोशी? पीएम मोदी और संजय जोशी के बीच क्या है झगड़ा?

 

बीजेपी अध्यक्ष की जानकारी में यह बात आने के बाद शुभकामना देने वालों पर सख्ती शुरू की गई. सूत्रों का कहना है कि अमित शाह ने श्रीपद नायक को फोन कर फटकार लगाई. उन्हें कहा गया कि इस मामले में वह अपनी स्थिति स्पष्ट करें. इसके बाद नायक ने अपने निजी सहयोगी नितिन सरदारे से इस्तीफा लेकर उन्हें कार्यमुक्त कर दिया.

 

नितिन सरदारे ने बातचीत में अपने इस्तीफे की पुष्टि की है. बिहार, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, झारखंड जैसे राज्यों के पार्टी कई वरिष्ठ पदाधिकारियों के निजी सहायकों ने संजय जोशी के जन्मदिन पर शुभकामना देने वाले पोस्टर लगाए थे.

 

 

संजय जोशी को जन्मदिन की बधाई देकर फंसे 3 मंत्री!  

 

 

तीन केंद्रीय मंत्रियों के सहयोगियों ने भी इसी तरह के पोस्टर लगाए थे. सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से इन सभी लोगों तलब किया गया है. साथ ही यह भी बताने को कहा गया है कि उन्होंने ऐसा करने वाले अपने सहयोगियों पर क्या कार्रवाई की है.

 

पीएम मोदी और संजय जोशी के बीच क्या है झगड़ा?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: delhi_sanjay_joshi_support_poster
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017